करतारपुर कॉरिडोर पर आज बात करेंगे भारत-पाकिस्तान के अधिकारी

करतारपुर कॉरिडोर (Kartarpur Corridor ) पाकिस्तान के करतारपुर में दरबार साहिब को गुरदासपुर जिले के डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे से जोड़ेगा और भारतीय सिख तीर्थयात्रियों की वीजा मुक्त आवाजाही की सुविधा प्रदान करेगा.

News18Hindi
Updated: August 30, 2019, 8:42 AM IST
करतारपुर कॉरिडोर पर आज बात करेंगे भारत-पाकिस्तान के अधिकारी
यह गलियारा पाकिस्तान के करतारपुर में दरबार साहिब को गुरदासपुर जिले के डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे से जोड़ेगा
News18Hindi
Updated: August 30, 2019, 8:42 AM IST
कश्मीर मुद्दे (Kashmir Issue) पर तनाव के बीच भारत और पाकिस्तान के अधिकारी आज करतारपुर कॉरिडोर प्रोजेक्ट (Kartarpur Corridor) को लेकर बातचीत करेंगे. पाकिस्तान (Pakistan) ने कहा है कि करतारपुर गलियारा (Kartarpur Corridor) खोलने पर ये तकनीकी बैठक आज जीरो प्वाइंट पर होगी. जीरो प्वाइंट वो बिंदु है, जहां कॉरिडोर का भारतीय हिस्सा और पाकिस्तानी हिस्सा मिलेंगे.

करतारपुर साहिब कॉरिडोर को लेकर सरकार प्रतिबद्ध
विदेश कार्यालय के प्रवक्ता डॉ. मोहम्मद फैसल ने साप्ताहिक ब्रीफिंग को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘भारत ने पाकिस्तान के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है और करतारपुर साहिब गलियारे पर तकनीकी बैठक जीरो प्वाइंट पर 30 अगस्त को आयोजित की जा रही है.’’

अधिकारी ने कहा, ‘‘पाकिस्तान करतारपुर साहिब गलियारे को पूरा करने और उसका उद्घाटन करने के लिए प्रतिबद्ध है जैसा कि हमारे प्रधानमंत्री ने ऐलान किया था.’’

बिना वीज़ा एंट्री
ये गलियारा पाकिस्तान के करतारपुर में दरबार साहिब को गुरदासपुर जिले के डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे से जोड़ेगा और भारतीय सिख तीर्थयात्रियों की वीजा मुक्त आवाजाही की सुविधा प्रदान करेगा. सिख तीर्थयात्रियों को करतारपुर साहिब जाने के लिए सिर्फ अनुमति लेनी होगी. करतारपुर साहिब की स्थापना गुरू नानक देव ने 1522 में की थी.
पाकिस्तान और भारत गुरु नानक के 550वें प्रकाश पर्व के मौके पर 12 नवंबर को लाहौर से करीब 125 किलोमीटर दूर नारोवाल में गलियारे के उद्घाटन के संबंध में अब भी तौर-तरीकों पर विचार कर रहे हैं. ये गलियारा 1947 में भारत की आजादी के बाद से दोनों पड़ोसी देशों के बीच पहला वीजा मुक्त गलियारा भी होगा.
Loading...

करतारपुर साहिब की अहमियत
करतारपुर साहिब सिखों के लिए सबसे पवित्र जगहों में से एक है. करतारपुर साहिब सिखों के प्रथम गुरु, गुरुनानक देव जी का निवास स्‍थान था. गुरू नानक ने अपनी जिंदगी के आखिरी 17 साल 5 महीने 9 दिन यहीं गुजारे थे. उनका सारा परिवार यहीं आकर बस गया था. उनके माता-पिता और उनका देहांत भी यहीं पर हुआ था. इस लिहाज से यह पवित्र स्थल सिखों के मन से जुड़ा धार्मिक स्थान है.

(भाषा इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें:

370 हटने से बौखलाया PAK, हर रोज कर रहा सीजफायर वॉयलेशन

अयोध्या मामला: SC ने कहा- 500 साल बाद जांच समस्या वाली बात

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 30, 2019, 8:26 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...