ग्लोबल इनोवेशन इंडेक्स में भारत का बजा डंका, कर दिया ये कारनामा

वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि पिछले चार सालों में पेटेंट की संख्या 16 हजार से बढ़कर 85 हजार हो गई है और उम्मीद है कि यह संख्या 1 लाख को जल्द छू लेगी.

News18Hindi
Updated: July 24, 2019, 9:18 PM IST
ग्लोबल इनोवेशन इंडेक्स में भारत का बजा डंका, कर दिया ये कारनामा
ग्लोबल इनोवेशन इंडेक्स में भारत 52वें स्‍थान पर पहुंचा. (सांकेतिक फोटो)
News18Hindi
Updated: July 24, 2019, 9:18 PM IST
ग्लोबल इनोवेशन इंडेक्स रैंकिंग 2019 आज देश की राजधानी दिल्ली में जारी हो गयी. 12वें जीआईआई में भारत की रैंकिंग में 5 पायदान के सुधार के साथ 52वें पायदान पर पहुंचा गया है. जबकि साल 2018 में भारत 57वें पायदान पर काबिज था. वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने रिपोर्ट जारी करते हुए इसे ऐतिहासिक करार दिया. उन्‍होंने कहा कि पिछले पांच सालों में 29 पायदान का उछाल बड़ी उपलब्धता है.

भारत को होगा ये बड़ा फायदा
वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि इनोवेशन से जल समस्या का समाधान भी निकाला जा सकता है. इसके अलावा केंद्र सरकार ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में इनोवेशन का कल्चर तेजी से बढ़ रहा है और विश्व बौद्धिक संपदा संगठन को भारत के ग्रामीण इलाकों में हो रहे इनोवेशन पर भी ध्यान देना चाहिए. गोयल ने कहा कि पिछले चार सालों में पेटेंट की संख्या 16 हजार से बढ़कर 85 हजार हो गई है और उम्मीद है कि यह संख्या 1 लाख को जल्द छू लेगी.

स्विट्जरलैंड है इस मामले में सबसे आगे

वैसे स्विट्जरलैंड दुनिया में सबसे ज्यादा इनोवेशन करने वाला देश है. स्विट्जरलैंड सहित टॉप 10 देश हैं-स्वीडन, यूएसए, नीदरलैंड्स, यूके, फिनलैंड, डेनामार्क, सिंगापुर, जर्मनी और इजरायल. जबकि पड़ोसी देश चीन 14वें स्थान पर हैं तो पाकिस्तान का 105वां, नेपाल का 109 वां, बांग्लादेश का116वां स्‍थान मिला है.

वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल.


यह इंडेक्‍स दुनिया के 129 देशों की रैंकिंग रिसर्च और डेवलपमेंट, इंटरनेशनल पेटेंट, ट्रेडमार्क एप्लीकेशन, मोबाइल फोन एप बनाना और उच्च तकनीक से लैश निर्यात जैसे 80 इंडीकेटर्स के आधार पर बनाई गई. ग्लोबल इनोवेशन इंडेक्स के जारी होने से नीति निर्माताओं को यह सहूलियत होती है कि देश में इसे और बढ़ावा देने के लिए किन-किन मापदंडों पर और काम किया चाहिए. कॉर्नेल विश्वविद्यालय, इनसीड और विश्व बौद्धिक संपदा संगठन द्वारा साल 2007 से सलाना इस रिपोर्ट को जारी किया जाता है. ग्लोबल इनोवेशन इंडेक्स में भारत का साल 2015 में 81वां, 2016 में 66वां, 2017 में 60वां और 2018 में 57वां स्‍थान हासिल हुआ.
Loading...

 

रिपोर्ट की प्रमुख बातें
>>मिडल इनकम इकॉनोमी खासकर एशियाई देशों में तेजी से रिसर्च एंड डेवलपमेंट और इंटरनेशनल पेटेंट के क्षेत्र में काम कर रहा है.

>>अधिकांश विज्ञान और प्रोद्यौगिकी क्लस्टर अमेरिका, चीन और जर्मनी में हैं. जबकि ब्राजील, भारत, ईरान, रूस और तुर्की शीर्ष 100 में बना हुआ है.

>>सेंट्रल और साउदर्न एशिया में भारत की स्थिति सबसे बेहतर. भारत 52वें स्थान पर तो ईरान 61वें और कजाकिस्तान 79वें स्थान पर है.

>>इनोवेशन की गुणवत्ता वाली मिडल इकॉनोमी वाले देशों में भारत का स्थान दूसरा है. जबकि प्रोडक्टिविटी ग्रोथ और सेवाओं के निर्यात मसलन इंफोर्मेशन और कम्यूनिकेशन तकनीक जैसे पैमानों में भारत पहले पायदान पर है. वहीं ग्लोबल कंपनी रिसर्च एंड डेवलपमेंट खर्च में भारत 15वें पायदान पर पहुंच गया

>>नई दिल्ली, बंगलुरू और मुंबई दुनिया के 100 शीर्ष क्लस्टर में शामिल हैं.

>>इंडेक्स तैयार करने के लिए 30 अंतर्राष्ट्रीय पब्लिक और प्राइवेट सोर्स से डेटा क्लेक्ट किया जाता है. 80 इंडीकेटर्स में से 57 हार्ड डेटा, 18 कंपोजिट इंडीकेटर्स और 5 सर्वे सवालों से लिया जाता है.

ये भी पढ़ें-बालाकोट: पाकिस्‍तान को भारत के बदले का था अंदेशा, पहले से कर रखी थी तैयारी!

ट्रंप के दावे की खुलेगी पोल! कश्मीर पर मध्यस्थता के बयान के बाद फ्रांस में PM मोदी से होगा सामना

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 24, 2019, 9:06 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...