चीन के धोखे से वाकिफ भारत, पूर्वी लद्दाख के एडवांस फ्रंट से नहीं हटाएगा 32 हजार जवान

चीन के धोखे से वाकिफ भारत, पूर्वी लद्दाख के एडवांस फ्रंट से नहीं हटाएगा 32 हजार जवान
र्वी लद्दाख के एडवांस फ्रंट से नहीं हटाएगा 32 हजार जवान

शांति वार्ता के दौरान हर बार चीन (China) अपनी सेना पीछे हटाने की बात करता है लेकिन हर बार अपनी बात से मुकर जाता है. ऐसे में चीन की सेना पर भरोसा नहीं किया जा सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 1, 2020, 8:04 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पूर्वी लद्दाख (East Ladakh) में भारत (India) और चीन (China) की सेना के बीच चल रहे विवाद को भले ही सैन्य बातचीत के जरिए शांत करने की कोशिश की जा रही हो लेकिन चीनी सेना की चालबाजी को देखते हुए LAC के चार डिवीजन में तैनात सेना को अभी वापस नहीं बुलाया जाएगा. सूत्रों के मुताबिक इन सैनिकों की तैनाती लद्दाख में अग्रिम मोर्चे पर जारी रहेगी. बता दें कि इन चार डिवीजन में करीब 32 हजार जवान हैं.

पूर्वी लद्दाख से सेना को वापस न बुलाए जाने के कई कारण हैं. पहला, एलएसी में शांति बहाल करने के लिए जारी कोशिशों के बावजूद चीनी सेनाएं कई स्थानों पर अभी भी मौजूद हैं. दूसरा चीनी सेना एलएसी के दूसरी तरफ अभी भी काफी संख्या में डटी हुई है. खबर है कि एलएसी के दूसरी तरफ 20 हजार के करीब सैनिक मौजूद हैं. तीसरा 15 जून की रात दोनों देशों के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प के बाद चीन के रवैये में ज्यादा बदलाव नहीं आया है. शांति वार्ता के दौरान हर बार चीन अपनी सेना पीछे हटाने की बात करता है लेकिन हर बार अपनी बात से मुकर जाता है. ऐसे में चीन की सेना पर भरोसा नहीं किया जा सकता है.

सेना के सूत्रों का कहना है कि चीन की किसी भी हरकत का जवाब देने के लिए मौजूदा सैनिकों की संख्या पर्याप्त है. जब तक चीन पूरी तरह से अपनी सेना को पीछे हटने के लिए नहीं कहता तब तक भारत के जवान सीमा पर इसी तरह से डटे रहेंगे. सर्दियों को लेकर अभी से सेना ने तैयारी शुरू कर दी है. एलएसी पर जवानों के साथ ही ​पास के वायुसेना के सभी स्टेशनों पर भी तैनाती पहले की तरह ही जारी रहेगी. बता दें कि चीन सीमा के निकटवर्ती क्षेत्रों में करीब 10-12 वायुसेना अड्डों को हाई अलर्ट पर रखा गया है तथा अतिरिक्त लड़ाकू विमानों की तैनाती की गई है.



इसे भी पढ़ें :- LAC पर भारत ने तैनात किए 35 हजार सैनिक, चीन पर भारी पड़ेगी भारतीय सेना, ये हैं 5 बड़े कारण
ऊंची जगहों पर तैनात हैं भारतीय सैनिक
रिपोर्ट कहती है कि पूर्वी लद्दाख के इलाके में इस वक्त भारत ने करीब 35 हजार से ज्यादा सैनिक तैनात किए हैं जो रणनीतिक तौर पर चीनी सैनिकों से ज्यादा ऊंचाई पर हैं. ऊंची जगहों पर पोस्टिंग की वजह से भारतीय सेना ज्यादा सक्रिय तरीके से चीनी गतिविधियों पर नजर रख सकती है साथ ही ज्यादा सक्षम तरीके से जवाब भी दे सकती है.

इसे भी पढ़ें :- LAC पर काम आया भारत का दबाव, प्वाइंट 14, 15 और 17A से पूरी तरह पीछे हटा चीन: सूत्र

लंबे समय की पोस्टिंग के लिए शारीरिक और मानसिक तौर पर तैयार
एक सरकारी सूत्र के हवाले से एएनआई ने बताया है कि हमने इलाकों में ऐसे सैनिक तैनात किए हैं जो पहले भी पूर्वी लद्दाख और सियाचिन में एक बार रह चुके हैं. वो शारीरिक और मानसिक तौर पर इन इलाकों में रहने के लिए पूरी तरह तैयार हैं. जबकि इसके इतर चीनी सेना में ज्यादातर ऐसे सैनिक हैं जो शॉर्ट टर्म के लिए मिलिट्री जॉइन करते हैं और फिर अपने सामान्य काम-काज की तरफ वापस लौट जाते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading