अपना शहर चुनें

States

भारत बायोटेक कोविड-19 वैक्सीन के पहले चरण के नतीजे आए सामने, कोई प्रतिकूल असर नहीं

अगर भारत को स्वदेशी वैक्सीन का सपोर्ट मिल जाता है तो ये उसके लिए सबसे ज्यादा मुफीद होगा. (सांकेतिक तस्वीर)
अगर भारत को स्वदेशी वैक्सीन का सपोर्ट मिल जाता है तो ये उसके लिए सबसे ज्यादा मुफीद होगा. (सांकेतिक तस्वीर)

Bharat Biotech Covid-19 Vaccine: कोवैक्सीन (बीबीवी152) की सुरक्षा और प्रभाव के आकलन के लिए पहले चरण का क्लीनिकल परीक्षण किया गया. दस्तावेज के कहा गया है कि बीबीवी152 को दो डिग्री सेल्सियस से आठ डिग्री सेल्सियस के बीच तापमान पर रखा गया.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (Indian Council of Medical Research) के सहयोग से भारत बायोटेक (Bharat BioTech) द्वारा विकसित स्वदेशी कोविड-19 टीका ‘कोवैक्सीन’ (Indigenous Covid-19 Vaccine Covaxin) के पहले चरण के क्लीनिकल परीक्षण के अंतरिम नतीजों से पता चला है कि सभी आयुवर्ग के समूहों पर कोई गंभीर या प्रतिकूल प्रभाव देखने को नहीं मिला. पोर्टल ‘मेडआरएक्सआईवी’ पर उपलब्ध कराए गए नतीजों के मुताबिक टीका ने एंटीबॉडी (Antibody) तैयार करने काम किया. विषय के विशेषज्ञों द्वारा औपचारिक रूप से अनुसंधान रिपोर्ट का मूल्यांकन करने के पहले इसे सार्वजनिक तौर पर ‘मेडआरएक्सआईवी’ पोर्टल पर डाला गया.

निष्कर्ष के मुताबिक गंभीर असर की एक घटना सामने आयी, जिसका टीकाकरण से कोई जुड़ाव नहीं पाया गया. कोवैक्सीन (बीबीवी152) की सुरक्षा और प्रभाव के आकलन के लिए पहले चरण का क्लीनिकल परीक्षण किया गया. दस्तावेज के कहा गया है कि बीबीवी152 को दो डिग्री सेल्सियस से आठ डिग्री सेल्सियस के बीच तापमान पर रखा गया. राष्ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम (National Vaccination Program) के तहत इसी तापमान पर अलग-अलग टीके को रखा जाता है.

ये भी पढ़ें- Air India देगी सीनियर सिटिजन पैसेंजर को 50% डिस्काउंट, जानें कैसे मिलेगी छूट



‘‘निष्क्रिय सार्स कोव-2 टीका बीबीवी152 का क्लीनिकल परीक्षण और सुरक्षा : चरण एक’’ के मुताबिक पहले टीकाकरण के बाद कुछ प्रतिभागियों में हल्के या मध्यम किस्म का असर दिखा और तुरंत यह ठीक भी हो गया. इसके लिए किसी तरह की दवा देने की जरूरत नहीं पड़ी. दूसरी खुराक के बाद भी यही रूझान देखने को मिला.
प्रतिकूल असर का एक गंभीर मामला आया सामने
परिणाम के मुताबिक, ‘‘प्रतिकूल असर का एक गंभीर मामला सामने आया. प्रतिभागी को 30 जुलाई को टीके की खुराक दी गयी थी. पांच दिन बाद प्रतिभागी में कोविड-19 के लक्षण पाए गए और सार्स-कोव2 से उसे संक्रमित पाया गया.’’

इसमें कहा गया है, ‘‘ये हल्के किस्म के लक्षण थे लेकिन मरीज को 15 अगस्त को अस्पताल में भर्ती कराया गया. न्यूक्लिक एसिड परिणाम नकारात्मक आने पर प्रतिभागी को 22 अगस्त को अस्पताल से छुट्टी दे दी गयी. यह मामला टीका के साथ जुड़ा हुआ नहीं था.’’

ये भी पढ़ें- सुवेंदु अधिकारी को अपने पाले में लाकर TMC और बंगाली जनता को संदेश देना चाहती है BJP

कुल 11 अस्पतालों में अलग-अलग स्थानों, 375 स्वयंसेवियों को परीक्षण में शामिल किया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज