India-China Clash : लद्दाख की पैंगोंग झील के पास 29-30 अगस्त की रात आखिर क्या हुआ? भारतीय सेना ने बताया

India-China Clash : लद्दाख की पैंगोंग झील के पास 29-30 अगस्त की रात आखिर क्या हुआ? भारतीय सेना ने बताया
चीन ने फिर से समझौतों का उल्लंघन करते हुए पूर्वी लद्दाख में अतिक्रमण करने की कोशिश की है.

India-china border dispute: पूर्वी लद्दाख (East Ladakh) में 29/30 अगस्त की रात एक बार फिर भारतीय सैनिकों (Indian soldiers) और चीनी सैनिकों (Chinese soldiers) के बीच झड़प हुई. हालां​कि भारतीय सैनिकों ने इस दौरान न केवल चीन को रोकने में कामयाबी हासिल की बल्कि उन्हें पीछे की ओर खदेड़ भी दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 31, 2020, 4:59 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. चीन (china) ने एक बार फिर भारत (India) को धोखा देने की कोशिश की हालांकि भारतीय सेना की मुस्तैदी की वजह से चीनी सेना अपने मंसूबोंं में कामयाब नहीं हो सकी. बता दें कि चीनी सेना ने एक बार फिर समझौते का उल्लंघन करते हुए पूर्वी लद्दाख (East Ladakh) में अतिक्रमण करने की कोशिश की. भारतीय सेना की ओर से बताया गया कि चीन की सेना की ओर से उस इलाके में घुसपैठ करने की कोशिश की गई जहां पर किसी तरह की गतिविधि नहीं करने पर सहमति बनी थी.

इस पूरे विवाद में भारतीय सेना का बयान आया है और बताया गया है कि आखिर 29/30 अगस्त की रात क्या हुआ था. भारतीय सेना के मुताबिक शनिवार की रात पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) के सैनिकों ने उस इलाके में घुसपैठ करने की कोशिश की, ​जहां पर पूर्वी लद्दाख में जारी तनाव के दौरान यथास्थि​ति बनाए जाने की बात कही गई थी. चीनी सैनिकों ने समझौते का उल्लंघन करते हुए हथियारों के साथ इस इलाके में जबरन घुसने की कोशिश की.





सेना ने बताया कि भारतीय सैनिकों ने पेंगोंग सो झील के दक्षिणी किनारे पर पीएलए की गतिविधि को रोकते हुए उन्हें वापस पीछे की ओर धकेल दिया. उन्होंने बताया कि भारतीय सैनिकों ने चीन की मंशा को पहले ही भांप लिया था और यही कारण है कि भारतीय सैनिकों ने बिना समय बर्बाद किए चीन की सेना के मंसूबों को ध्वस्त कर दिया.
इसे भी पढ़ें :- सीमा विवाद: पैंगोंग सो इलाके पर क्यों है चीन की नजर, जानें इसका महत्व

सेना के पीआरओ कर्नल अमन आनंद ने बताया कि भारतीय सेना बातचीत के माध्यम से सीमा पर शांति बनाए रखना चाहती है लेकिन अपनी क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा के लिए भी समान रूप से दृढ़ संकल्प है. दोनों देशों के बीच जब सीमा से जुड़े मुद्दों को हल करने के लिए ब्रिगेड कमांडर स्तर की फ्लैग मीटिंग चल रही है उसके बीच चीनी सेना की ओर से किया गया ये प्रयास सही नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज