• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • भारतीय सेना अब 1961 वाली नहीं है, पूर्वी लद्दाख में चीनी सैनिकों के इजाफे पर बोले CDS बिपिन रावत

भारतीय सेना अब 1961 वाली नहीं है, पूर्वी लद्दाख में चीनी सैनिकों के इजाफे पर बोले CDS बिपिन रावत

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत (फ़ाइल फोटो)

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत (फ़ाइल फोटो)

Eastern Ladakh India vs China: भारत और चीन के बीच पिछले साल मई से पूर्वी लद्दाख में कई बिंदुओं पर सैन्य गतिरोध बना हुआ है. भारत अप्रैल 2020 के पहले की स्थिति की बहाली के लिए जोर दे रहा है.

  • Share this:

    नई दिल्ली. चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल विपिन रावत ने शुक्रवार को कहा कि भारत और चीन दोनों को क्रमिक रूप से पूर्वी लद्दाख में यथास्थिति बहाल करने में सक्षम होना चाहिए क्योंकि दोनों ही देश यह समझते हैं कि क्षेत्र में शांति और अमन स्थापित करना उनके सर्वोत्तम हित में है. एक विचारक संस्था के कार्यक्रम में अपने संबोधन में जनरल रावत ने कहा कि इसी के साथ भारत को 'किसी भी दुस्साहस' के लिए तैयार रहना चाहिए और जैसा उसने पूर्व में किया, उसी तरह की प्रतिक्रिया देनी चाहिए.


    एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, 'मैं यही कहूंगा कि अपनी निगरानी बढ़ाइये, तैयार रहिए, चीजों को हल्के में मत लीजिए. हमें किसी भी दुस्साहस और उस पर प्रतिक्रिया के लिए भी तैयार रहना चाहिए. हमने पूर्व में ऐसा किया है और भविष्य में भी ऐसा करेंगे.' लंबे समय से चले आ रहे गतिरोध के समाधान के बारे में जनरल रावत ने कहा कि विवाद सुलझाने के लिए दोनों पक्ष, राजनीतिक, कूटनीतिक और सैन्य स्तर पर बातचीत कर रहे हैं.


    भारतीय टैंकों की रफ्तार को नहीं रोक पाएंगे मुश्किल रास्ते, सेना को मिले नए ब्रिजिंग सिस्टम


    उन्होंने कहा, 'इसमें वक्त लगेगा. मुझे लगता है कि क्रमिक रूप से हम यथास्थिति हासिल करने में सक्षम होंगे क्योंकि अगर आप यथा स्थिति हासिल नहीं करेंगे, और ऐसी ही स्थिति में बने रहेंगे तो किसी समय यह दुस्साहस का कारण बन सकती है.' उन्होंने कहा, 'इसलिए, दोनों राष्ट्र यह समझते हैं कि यथास्थिति की बहाली क्षेत्र में अमन और शांति के सर्वोत्तम हित में है, जिसके लिए हमारा देश प्रतिबद्ध है.'


    चीन को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का कड़ा संदेश, बोले- हमारी सेना के पास मुंहतोड़ जवाब देने की क्षमता


    यह पूछे जाने पर कि क्या गतिरोध के बचे हुए बिंदुओं से सैनिकों की वापसी की अपनी बात से चीन मुकर गया, उन्होंने कहा कि दोनों तरफ संदेह है और भारत ने भी वहां काफी संख्या में अपने सैनिक और संसाधन भेजे हैं. सीडीएस ने कहा, 'दोनों तरफ संदेह है क्योंकि दूसरे पक्ष ने जहां अपने बलों को तैनात किया और अवसंरचना का निर्माण किया है, तो हम भी किसी से पीछे नहीं हैं. हमने भी बड़ी संख्या में सैनिकों और संसाधनों की तैनाती की है. दोनों तरफ इस तरह का संदेह है कि क्या हो सकता है.'


    शी जिनपिंग की चेतावनी- चीन को आंख दिखाने वालों को देंगे उसी की भाषा में जवाब


    क्षेत्र में चीन के बढ़ती सैन्य मौजूदगी से संबंधित खबरों के संदर्भ में सीडीएस ने कहा, 'मुझे लगता है कि उन्हें इसका एहसास है कि भारतीय सशस्त्र बलों को हलके में नहीं लिया जा सकता. भारतीय सेना अब 1961 वाली सेना नहीं है. यह एक शक्तिशाली सशस्त्र बल है जिससे यूं ही पार नहीं पाया जा सकता.' उन्होंने कहा, 'वे जिस चीज के पात्र हैं उसके लिए खड़े होंगे. मुझे लगता है कि इसका उन्हें एहसास है.'


    अब हिमाचल-चीन सीमा तक पहुंचना हुआ और भी आसान, किन्नौर में 3 पुलों का लोकार्पण


    भारत और चीन ने 25 जून को सीमा विवाद पर एक और दौर की कूटनीतिक वार्ता की और इस दौरान वे पूर्वी लद्दाख के बचे हुए गतिरोध वाले बिंदुओं से सैनिकों की पूर्ण वापसी के लक्ष्य को हासिल करने के वास्ते यथा शीघ्र अगले दौर की सैन्य वार्ता के लिए सहमत हुए. भारत और चीन के बीच पिछले साल मई से पूर्वी लद्दाख में कई बिंदुओं पर सैन्य गतिरोध बना हुआ है.




    दोनों पक्षों ने हालांकि कई दौर की सैन्य व कूटनीतिक वार्ताओं के बाद फरवरी में पैंगॉन्ग झील के उत्तरी और दक्षिणी किनारों से सैनिकों और हथियारों को पूरी तरह हटा लिया था. दोनों पक्ष अब बचे हुए गतिरोध स्थलों से सैनिकों की वापसी को लेकर बातचीत कर रहे हैं. भारत विशेष रूप से हॉट स्प्रिंग्स, गोगरा और देप्सांग से सैनिकों की वापसी के लिए दबाव डाल रहा है. भारत अप्रैल 2020 के पहले की स्थिति की बहाली के लिए जोर दे रहा है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज