India-China Rift : चीन के साथ तनाव के बीच लद्दाख पहुंचे आर्मी चीफ, पैंगोंग में आमने-सामने हैं सेनाएं

India-China Rift : चीन के साथ तनाव के बीच लद्दाख पहुंचे आर्मी चीफ, पैंगोंग में आमने-सामने हैं सेनाएं
सेना प्रमुख नरवणे लद्दाख पहुंचे.

India China Faceoff: वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर जारी तनाव के बीच सेना प्रमुख एमएम नरवणे (MM Narvane) को उनके दो दिवसीय दौरे के दौरान शीर्ष कमांडर क्षेत्र की मौजूदा स्थिति से अवगत कराएंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 3, 2020, 12:11 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पूर्वी लद्दाख (Ladakh) में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर भारत और चीन (India China) में जारी तनाव के बीच सेना प्रमुख एमएम नरवणे (MM Narvane) गुरुवार सुबह लद्दाख पहुंचे. यहां उन्होंने साउथ पैंगोंग समेत अन्य जगहों पर ताजा हालात का जायजा लिया. सूत्रों ने कहा कि पूर्वी लद्दाख के दो दिवसीय दौरे पर सेना प्रमुख नरवणे को शीर्ष कमांडर क्षेत्र की मौजूदा स्थिति से अवगत कराएंगे.

इससे पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को पूर्वी लद्दाख में स्थिति की व्यापक समीक्षा की थी. इस सिलसिले में चली बैठक में विदेश मंत्री एस जयशंकर, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, प्रमुख रक्षा अध्यक्ष (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत, सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे, वायु सेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया सहित अन्य शामिल हुए थे.

बताया गया था कि लगभग दो घंटे चली बैठक में यह निर्णय लिया गया कि भारतीय सेना वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के साथ सभी संवेदनशील क्षेत्रों में अपना आक्रामक रुख जारी रखेगी, ताकि चीन के किसी भी 'दुस्साहस' से प्रभावी ढंग से निपटा जा सके.



भारतीय सेना ने  तीन पर्वत चोटियों पर अपनी उपस्थिति और मजबूत की 
वहीं चीन की ‘उकसाने वाली कार्रवाई’ को नाकाम करने के कुछ दिनों बाद भारत ने पैंगोंग सो इलाके के दक्षिणी तट पर सामरिक रूप से महत्वपूर्ण कम से तीन पर्वत चोटियों पर अपनी उपस्थिति और मजबूत की है. सरकारी सूत्रों ने बुधवार को यह जानकारी दी. वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के भारतीय सीमा के अंदर पैंगोंग झील के उत्तरी तट पर भी एहतियाती उपायों के तहत सैनिकों की तैनाती में कुछ बदलाव किये गये हैं. इलाके में स्थिति संवेदनशील बनी हुई है.

सूत्रों ने यह भी बताया कि तनाव घटाने के लिए दोनों पक्षों के सेना कमांडरों की बुधवार को हुई एक और दौर की वार्ता बेनतीजा रही. यह बातचीत करीब सात घंटे चली. सूत्रों ने यह भी बताया कि सोमवार और मंगलवार को छह घंटे से अधिक समय तक इसी तरह की वार्ता हुई, लेकिन कोई ‘ठोस नतीजा’ नहीं निकला. उन्होंने बताया कि भारत ने पूर्वी लद्दाख में सामरिक रूप से महत्वपूर्ण कई पर्वत चोटियों और स्थानों पर उपस्थिति बढ़ा कर पिछले कुछ दिनों में रणनीतिक बढ़त हासिल की है. (भाषा इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading