Home /News /nation /

India-China Face off : भारत के एक्शन के डर से LAC पर सैनिकों की तैनाती बढ़ा रहा है चीन- डिफेंस एक्सपर्ट

India-China Face off : भारत के एक्शन के डर से LAC पर सैनिकों की तैनाती बढ़ा रहा है चीन- डिफेंस एक्सपर्ट

15 जून की रात चीन के सैनिकों ने कंटीले तार वाले डंडों से भारतीय जवानों पर हमला किया था. इसमें भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए, जबकि कई घायल हुए हैं.

15 जून की रात चीन के सैनिकों ने कंटीले तार वाले डंडों से भारतीय जवानों पर हमला किया था. इसमें भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए, जबकि कई घायल हुए हैं.

India-China Face off: चीन की सरकारी मीडिया भारत को लगातार धमकाने का काम कर रही है. चीन ने भारतीयों को 'राष्ट्रवाद' के चक्कर में बेफकूफ न बनने की सलाह भी दे डाली है. चीन ने चेतावनी देते हुए कहा है कि दोनों देशों के बीच तनाव का असर अगर व्यापारिक रिश्तों पर पड़ा, तो ये भारत के लिए घातक साबित हो सकता है.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली/लद्दाख. लद्दाख की गलवान घाटी (Ladakh Galwan Valley) में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प (India-China Rift) के बाद से ही चीन लगातार शांति और बातचीत के जरिए मुद्दे को सुलझाने की बात कहता रहा है. हालांकि, तिब्बत बॉर्डर (Tibet Border) पर लगातार चीनी सेना युद्ध की तैयारियों में व्यस्त है. यहां और ज्यादा सैनिकों की तैनाती की जा रही है. इस बीच भारत के डिफेंस एक्सपर्ट एसपी सिन्हा का कहना है कि ये विवाद इतनी जल्दी सुलझने वाला नहीं है. चीन को भारत के जवाब का डर है. लिहाजा वो लद्दाख बॉर्डर पर और ज्यादा सैनिकों की तैनाती कर रहा है.

    दरअसल, चीन की सरकारी मीडिया भारत को लगातार धमकाने का काम कर रही है. चीन ने भारतीयों को 'राष्ट्रवाद' के चक्कर में बेफकूफ न बनने की सलाह भी दे डाली है. चीन ने चेतावनी देते हुए कहा है कि दोनों देशों के बीच तनाव का असर अगर व्यापारिक रिश्तों पर पड़ा, तो ये भारत के लिए घातक साबित हो सकता है. इस मामले पर एसपी सिन्हा कहते हैं, 'मौजूदा लद्दाख सीमा विवाद इतनी जल्दी बातचीत से सुलझने वाला बिल्कुल भी नहीं है. डोकलाम में तो हमने चीन को जाने दिया था. इस बार ऐसा नहीं होगा. हमें चीन को और आक्रामकता के साथ सबक सिखाना है. इसकी बहुत जरूरत है.'

    रिटायर लोगों की जरूरत हैं तो हम तैयार हैं
    न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत में एसपी सिन्हा आगे कहते हैं, 'भारत माता की रक्षा के लिए अगर सरकार को हम रिटायर लोगों की जरूरत है, तो हम उसके लिए तैयार हैं.' उन्होंने कहा, 'हिंसक झड़प के बाद सेना ने LAC पर नियम बदले हैं. अब सरकार ने फौज को पूरी तरह से ऑपरेशनल फ्रीडम दे दी है, जो एक साहस भरा कदम है. लेकिन, जब तक आप जमीनी स्तर पर नहीं हैं, तब तक अच्छा फैसला नहीं ले सकते.'



    ये भी पढ़ें:- चीन की चेतावनी- 'राष्ट्रवाद' के चक्कर में न करें 'बायकॉट चाइना', बड़ा नुकसान होगा

    डिफेंस एक्सपर्ट चीन के साथ ही पाकिस्तान को भी सबक सिखाने की बात करते हैं. उन्होंने कहा, 'पहले पाकिस्तान को भी जवाब देने के लिए दिल्ली स्थित साउथ ब्लॉक दफ्तर की सहमति की जरूरत होती थी, लेकिन अब सेना ऐसी हिमाकत का माकूल जवाब देने के लिए आजाद है. इससे लोक कमांडिंग में लचीलापन आएगा.'

    LAC पर नियमों में बदलाव से क्या होगा?
    न्यूज एजेंसी ANI ने सूत्रों के हवाले से बताया कि LAC पर नियमों में बदलाव के तहत फील्ड कमांडरों को यह अधिकार दिया गया है कि वे विशेष परिस्थितियों में अपने जवानों को हथियारों के इस्तेमाल की इजाजत दे सकते हैं. दरअसल, गलवान में हुई झड़प के दौरान भारतीय जवानों ने इसलिए हथियारों का इस्तेमाल नहीं किया था, क्योंकि 1996 और 2005 में हुए समझौते में ऐसा ना करने पर चीन और भारत में सहमति बनी थी.

    दोनों देशों में इस बात पर भी समझौता हुआ था कि उनकी सेनाएं एलएसी के 2 किलोमीटर के दायरे में विस्फोटकों और हथियारों का इस्तेमाल नहीं करेंगी.

    15 जून को गलवान घाटी में क्या हुआ था?
    पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में 15 जून की रात दोनों देशों के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई. इसकी शुरुआत चीनी सैनिकों की ओर से ही हुई थी. करीब 6 हफ्ते से भारत और चीन के बीच लद्दाख में तनाव चल रहा है. 15 जून की रात चीन के सैनिकों ने कंटीले तार वाले डंडों से भारतीय जवानों पर हमला किया था. इसमें भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए, जबकि कई घायल हुए हैं. भारत ने भी चीन के 40 से ज्यादा सैनिकों के मारे जाने की बात कही है.

    ये भी पढ़ें:- गलवान नदी से छेड़छाड़ क्यों कर रहा है CHINA? क्या है नया पैंतरा?

    हालांकि, अभी तक चीन ने अपने मारे गए सैनिकों की संख्या नहीं बताई है. अंतरराष्ट्रीय मीडिया में चीन को इस हिंसक झड़प में भारी नुकसान होने की खबर है. (ANI इनपुट के साथ)

    Tags: India china, India China Border Tension, Ladakh, Pm narendra modi, Tibet, Xi jinping

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर