Home /News /nation /

India-China Faceoff: लद्दाख में कड़ाके की सर्दी के बावजूद इस बार दिख रही गर्मी, भारत और चीनी सेना आमने-सामने

India-China Faceoff: लद्दाख में कड़ाके की सर्दी के बावजूद इस बार दिख रही गर्मी, भारत और चीनी सेना आमने-सामने

India-China Faceoff: पूर्वी लद्दाख के पैंगोग त्सो झील के पास अभी भी दोनों देशों के बीच तनाव बरकरार है.

India-China Faceoff: पूर्वी लद्दाख के पैंगोग त्सो झील के पास अभी भी दोनों देशों के बीच तनाव बरकरार है.

सेना से जुड़े सूत्रों के मुताबिक सीमा विवाद (Border Dispute) को लेकर भारत के विदेश मंत्री एस. जयशंकर (S, Jaishankar) की अपने चीनी समकक्ष वांग यी (wang yi) के साथ मॉस्को में हुई मुलाकात के बाद दोनों देशों की सेनाएं सीमा पर आमने सामने तो खड़ी हैं, लेकिन इलाके में पूरी तरह से शांति बनी हुई है.

अधिक पढ़ें ...
  • News18Hindi
  • Last Updated :
    नई दिल्ली. पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) के पैंगोग त्सो झील के दक्षिणी छोर पर भारत (India) और चीन (China) के सैनिकों के बीच हुई गोलीबारी की घटना से दोनों देशों के बीच तनाव चरम पर पहुंच गया है. 7 सितंबर की रात हुई इस झड़प के बाद फिलहाल सीमा पर शांति बनी हुई है. सेना से जुड़े सूत्रों के मुताबिक सीमा विवाद (Border Dispute) को लेकर भारत के विदेश मंत्री एस. जयशंकर (S. Jaishankar) की अपने चीनी समकक्ष वांग यी (wang yi) के साथ मॉस्को में हुई मुलाकात के बाद दोनों देशों की सेनाएं सीमा पर आमने सामने तो खड़ी हैं, लेकिन इलाके में पूरी तरह से शांति बनी हुई है. बता दें कि पैंगोंग त्सो के​ फिंगर 3 और फिंगर 4 के बीच दोनों देशों के 1500 से 2000 सैनिक रातभर आमने सामने डटे रहे.

    सीमा सुरक्षा से जुड़े अधिकारी ने CNN-News18 को बताया, नियंत्रण रेखा  पर यथास्थिति बनी हुई है. दोनों देशों के सैन्य कमांडर की बातचीत में यह तय हुआ है कि इस मामले में अब सीमा पर तनाव पैदा करने वाला कोई कदम नहीं उठाया जाएगा. अधिकारियों ने बताया कि इस सप्ताह होने वाली कोर कमांडर स्तर की बैठक तक यथास्थिति जारी रहने की उम्मीद है. सूत्रों के मुताबिक सीमा पर शांति बनाए रखने के लिए दिल्ली में चीन के अधिकारी कोर कमांडर स्तर की बैठक कर सकते हैं. उम्मीद की जा रही है कि इस बैठक में सीमा पर सैनिकों के तौर तरीकों पर कोई अहम फैसला लिया जा सकता है.

    इसे भी पढ़ें :- India-China Faceoff: भारतीय सेना ने बताया लद्दाख का पूरा हाल, कहा- PLA ने उकसाने के लिए हवा में चलाईं गोलियां

    भारत के विदेश मंत्री एस. जयशंकर और चीनी विदेश मंत्री वांग यी की बैठक के बाद पैंगोंग के पास ब्रिगेडियर स्तर की बैठक हुई है, लेकिन अभी तक इस मसले पर कोई अहम फैसला नहीं लिया जा सका है. एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने News18 को बताया, चीनी केवल सामरिक दृष्टि से बात कर रहा है. वे इस बारे में बात करते हैं कि हमारी तरफ से कितने जवान तैनात किए गए हैं, लेकिन कभी भी अपनी सेना को पीछे करने की बात नहीं करते हैं.

    इसे भी पढ़ें :- भारत-चीन के बीच समझौते के बावजूद नरमी नहीं, चीनी सेना बढ़ा रही है सैनिकों की संख्या

    सेना के सूत्रों ने कहा है कि कमांडर स्तर की वर्ता से उन्हें उम्मीद बहुत अधिक नहीं है. चीन के रवैये को देखकर ऐसा लग रहा है कि चीन, भारत के साथ लंबी लड़ाई करने की तैयारी कर रहा है. भारतीय सेना भी अब इसके लिए तैयार दिख रही है. जवानों को सर्दी से बचाने के लिए LAC में विशेष उपकरण और टेंट भेजे जा रहे हैं. बता दें कि नवंबर-दिसंबर में यहां का तापमान -50 डिग्री सेल्सियस तक जा सकता है. ऐसे में विशेष कपड़े से बने टेंट में 8-10 सैनिकों के रहने की व्यवस्था है. सैनिकों को गर्म रखने के लिए एक हीटिंग उपकरण, बुखारी भी दिया गया है. बुखारी, केरोसिन पर चलता है इसलिए ज़ोजिला और रोहतांग का रास्ता बर्फबारी में बंद होने से पहले एलएसी में ईंधन पहुंचाने का काम जारी है.

    Tags: China, India, India china border dispute, India china face off at border, Indian army, Indo-China Border Dispute, S Jaishankar

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर