India-China Faceoff: गलवान के बाद अब हॉट स्प्रिंग इलाके से पूरी तरह हटी चीनी सेना- सूत्र

गोगरा के पेट्रोल पॉइंट 17A से जवानों को गुरुवार या शुक्रवार को दो किलोमीटर पीछे हटाया जाएगा.
गोगरा के पेट्रोल पॉइंट 17A से जवानों को गुरुवार या शुक्रवार को दो किलोमीटर पीछे हटाया जाएगा.

India-China Faceoff: पैंगॉन्ग झील के पास फिंगर 4 इलाके में चीनी सेना की ओर से अभी गतिविधि दिख रही हैं. इस इलाके से चीनी सेना ने अपनी गाड़ियां और टेंट वगैरह हटा लिए हैं. हालांकि, रिज़ लाइन पर अभी भी मूवमेंट है.

  • Share this:
नई दिल्ली. पूर्वी लद्दाख (Ladakh) में चीन और भारत (India-China Border Tension) के बीच बीते दो महीने से जारी सीमा विवाद अब कुछ कम होता दिख रहा है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, चीन ने लद्दाख के एक विवादित इलाके से पूरी तरह से अपनी सेनाएं हटा ली हैं. सूत्रों ने बताया है कि लद्दाख के हॉट स्प्रिंग के पेट्रोल पॉइंट 15 से भारतीय-चीनी सैनिक 2 किलोमीटर पीछे तक हटे हैं. वहीं, सूत्रों का कहना है कि गोगरा के पेट्रोल पॉइंट 17A से जवानों को गुरुवार या शुक्रवार को दो किलोमीटर पीछे हटाया जाएगा.

क्या हैं ताजा हालात?
सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, पैंगॉन्ग झील के पास फिंगर 4 इलाके में चीनी सेना की ओर से अभी गतिविधि दिख रही हैं. इस इलाके से चीनी सेना ने अपनी गाड़ियां और टेंट वगैरह हटा लिए हैं. हालांकि, रिज़ लाइन पर अभी भी मूवमेंट है. बता दें दि पहले फिंगर 4 के आगे तक भारतीय सेना पेट्रोलिंग करती थी, लेकिन फिंगर 4 में चीनी सैनिकों की मौजूदगी के बाद उनकी पेट्रोलिंग में दखल आ रहा है.

ये भी पढ़ें:- India-China Faceoff: गलवान से 1.5 KM पीछे हटी चीनी सेना, झड़प वाली जगह पर बना बफर जोन- सूत्र
गलवान से 1.5 किलोमीटर वापस गई है चीनी सेना


इसके पहले सोमवार को ही  पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी (Ladakh Galwan Valley) में चीन के सैनिक पीछे हटे थे. दोनों देशों की सेना हिंसक झड़प वाली जगह से 1.5 किलोमीटर पीछे हटी है. यह संभवतः गलवान घाटी तक सीमित है. अब इसे बफर ज़ोन बना दिया गया है, ताकि आगे कोई हिंसक घटना न हो. भारत ने चीनी सैनिकों के हटने का फिजिकल वेरिफिकेशन भी कर लिया है.

सूत्रों के मुताबिक, 6 जून को कोर कमांडर की बैठक में इसकी सहमति बनी थी. इसके बाद 30 जून को कोर कमांडर तीसरे स्तर की बैठक में डिसएंगेजमेंट की पुष्टि के लिए 72 घंटे का वॉच पीरियड भी तय किया गया था. जिसके बाद अब दोनों ओर से सेनाओं के पीछे हटने की खबर आ रही है.

ये भी पढ़ें:- India-China Tension: गलवान घाटी से पीछे हटने को राजी चीन, पैंगोंग को लेकर अब तक नहीं बनी बात

15 जून को हुई थी हिंसक झड़प
भारत और चीन के बीच 5 मई से लद्दाख में तनातनी बनी हुई है. लद्दाख की गलवान घाटी में 15-16 जून की दरम्यानी रात दोनों देशों के बीच की ये तनातनी हिंसक झड़प में बदल गई जिसमें भारत के 20 सैनिक शहीद हो गए. चीन की तरफ से भी 37 से ज्यादा सैनिक हताहत हुए थे, लेकिन चीन ने आधिकारिक तौर पर अपने सैनिकों की संख्या नहीं बताई है.

 

तनातनी शुरू होने के बाद से ही दोनों देशों के बीच सैन्य और कूटनीतिक स्तर की कई वार्ताएं भी हुईं. जिसके बाद दोनों देश अपनी सेनाओं को पीछे करने को राजी हो गए हैं. बता दें सीमा पर ये 45 साल में अब तक हिंसा की सबसे बड़ी घटना रही.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज