Corona: भारत में पहले 1 लाख केस 110 दिन में आए, अब हर 2 दिन में आ रहे इतने ही केस

10 लाख भारतीय कोविड-19 को हराकर पूरी तरह स्वस्थ हो चुके हैं.

भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus) का पहला केस आज से ठीक छह महीने पहले 30 जनवरी को आया था. तब आम जनता से लेकर सरकार तक शायद ही इससे लड़ने को पूरी तरह तैयार थीं. अब सरकार और जनता दोनों सतर्क हैं, लेकिन कोरोना अनियंत्रित भाव से बढ़ता चला जा रहा है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus) का पहला केस आज से ठीक छह महीने पहले आया था. जब 30 जनवरी को देश में पहला कोरोना केस (Coronavirus Case) आया, तब आम जनता शायद ही इसकी गंभीरता से वाकिफ थी. सरकार भी ज्यादा जागरूक नहीं थी. फरवरी में भी लगा कि देश इस महामारी की आहट से अंजान है. हां, मार्च में सरकार सख्त हुई और देशभर में तालाबंदी (लॉकडाउन) कर दी गई. जिस दिन लॉकडाउन (Lockdown) लगा, उस दिन देश में 600 नए केस आए और 12 मौतें हुईं. अब देश लॉकडाउन से होता हुआ अनलॉक-3 (Unlock-3) के दौर में प्रवेश कर रहा है और रोज 50 हजार केस आ रहे हैं. देश में अब तक 35 हजार मौतें हो चुकी हैं. एक हफ्ते से रोजाना 700 से अधिक मौतें हो रही हैं.

    कोरोना वायरस का पहला केस चीन (China) में दिसंबर में आया. यह चीन का आधिकारिक बयान है. हालांकि, भारत समेत कई देश मानते हैं कि चीन ने इस वायरस का सच छिपाया. उसने दुनिया को इसके बारे में जानबूझकर देर से बताया. बहरहाल, यह तो चीन की बात हुई. भारत में कोरोना का पहला केस केरल में 30 जनवरी को आया. अब देश में 15.84 लाख केस हो चुके हैं. 30 जुलाई को भारत 16 लाख केस का आंकड़ा भी पार कर जाएगा. यानी, छह महीने में भारत में 16 लाख केस आ गए हैं. लेकिन कोविड-19 की रफ्तार को समझने का यह सही तरीका नहीं है. इस खबर में हम आपको बता रहे हैं कि कैसे इस वायरस के संक्रमण की रफ्तार बढ़ती ही जा रही है.

    अमेरिका और ब्राजील से भी तेज रफ्तार
    भारत तीसरा ऐसा देश है, जहां कोरोना वायरस के 15 लाख केस सामने आ चुके हैं. अमेरिका (America) और ब्राजील (Brazil) बहुत पहले इस अनचाहे आंकड़े को पार कर चुके हैं. अमेरिका में तो इस समय में 45 लाख से अधिक केस हैं. ब्राजील 25 लाख केस पार कर गया है. इस सबके बीच एक बात है, जो भारत की चिंता बढ़ाती है. यह बात कोरोना की रफ्तार है. भारत ने 5 लाख से 16 लाख का आंकड़ा सिर्फ 34 दिन में पार किया. यह अमेरिका और ब्राजील से भी तेज रफ्तार है. ब्राजील को इसके लिए 36 और अमेरिका को 40 दिन लगे थे.

    149 दिन में आए 5 लाख केस
    भारत में पहला केस 30 जनवरी को केरल में आया था. एक केस को एक लाख होने में 110 दिन लगे. देश में एक लाखवां केस 2 जून को आया. अगले 14 दिन में एक लाख का आंकड़ा दो लाख में बदल गया. पहला केस आने के 149वें दिन यानी, 26 जून को देश में 5 लाखवां केस आया. यानी, देश में पहला केस आने के करीब 5 महीने में 5 लाख केस आए.

    यह भी पढ़ें: 95 बरस की झांसी की इस दादी ने कोरोना से जीती जंग, डॉक्टरों ने ऐसे किया विदा

    20 दिन में 5 लाख से 10 लाख हो गए
    भारत में 26 जून को पांच लाख कोरोना केस थे. यह लॉकडाउन के बाद का वक्त था, जब देश अनलॉक-1 के दौर से गुजर रहा था. इसी अनलॉक-1 के दौरान कोरोना की रफ्तार में पंख लग गए. नतीजा यह रहा कि 26 जून से 16 जुलाई होते-होते देश में कोरोना के केस 5 लाख से 10 लाख हो गए. यानी, भारत में 20 दिन के भीतर 5 लाख नए केस आ गए.

    14 दिन में बढ़ गए 6 लाख केस
    भारत में जुलाई में अनलॉक-2 चल रहा है. इस दौर की शुरुआत में देश में रोजाना करीब – केस आ रहे थे. अब अनलॉक-2 अपने आखिर दिनों में है और अब रोजाना 50 हजार केस आ रहे हैं. भारत में 16 जुलाई को 10 लाख केस थे, जो 30 जुलाई को 16 लाख के पार चले गए हैं.  स्पष्ट है कि महज 14 दिन में देश में 6 लाख केस आ गए हैं. इसी तरह देश में 26 जुलाई को 14 लाख केस थे, जो 30 जुलाई को 16 लाख हो रहे हैं. यानी, महज चार दिन में दो लाख केस आ गए हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.