• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • भारत ने अमेरिका में खालिस्तानी अलगाववादी समूहों की गतिविधियों पर चिंता जताई

भारत ने अमेरिका में खालिस्तानी अलगाववादी समूहों की गतिविधियों पर चिंता जताई

अमेरिका में खालिस्तानी अलगाववादी समूहों की गतिविधियों पर भारत ने  चिंता व्‍यक्‍त की है. (सांकेतिक फोटो)

अमेरिका में खालिस्तानी अलगाववादी समूहों की गतिविधियों पर भारत ने चिंता व्‍यक्‍त की है. (सांकेतिक फोटो)

भारत (India) ने अमेरिका (America) में पाकिस्तान (Pakistan) समर्थित खालिस्तानी (Khalistani) अलगाववादी समूहों (Separatist group) द्वारा भारत विरोधी गतिविधियां बढ़ाए जाने की खबरों पर बृहस्पतिवार को चिंता व्यक्त की. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) अगले सप्ताह अमेरिका के दौरे पर जाने वाले हैं, जिससे पहले भारत ने यह चिंता व्यक्त की है.

  • Share this:

    नयी दिल्ली . भारत (India) ने अमेरिका (America) में पाकिस्तान (Pakistan) समर्थित खालिस्तानी (Khalistani) अलगाववादी समूहों (Separatist group) द्वारा भारत विरोधी गतिविधियां बढ़ाए जाने की खबरों पर बृहस्पतिवार को चिंता व्यक्त की. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) अगले सप्ताह अमेरिका के दौरे पर जाने वाले हैं, जिससे पहले भारत ने यह चिंता व्यक्त की है. खबरें है कि प्रधानमंत्री मोदी की अमेरिका की वाशिंगटन और न्यूयॉर्क की यात्रा के दौरान एक प्रतिबंधित खालिस्तानी समूह दोनों शहरों में विरोध प्रदर्शन की योजना बना रहा है.

    इस सिलसिले में जब विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री और उनके प्रतिनिधिमंडल की सुरक्षा सुनिश्चित करना एक महत्वपूर्ण मुद्दा है. बागची ने खालिस्तानी समूहों के बारे में एक प्रमुख अमेरिकी थिंक-टैंक हडसन इंस्टीट्यूट की एक रिपोर्ट का जिक्र करते हुए कहा कि यह दर्शाता है कि कैसे पाकिस्तान अमेरिका से भारत विरोधी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए लगातार प्रयास कर रहा है.

    ये भी पढ़ें :   अमेरिका में स्कूल खुलते ही संक्रमण में आई तेजी, सिंगापुर में केस बढ़े तो लॉकडाउन खोलने का प्लान रद्द

    ये भी पढ़ें :  ट्रंप ने अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडन को बताया बेवकूफ इंसान, कहा- 2024 तक अमेरिका खत्म हो जाएगा

    बागची ने प्रेस वार्ता में कहा, ”मुझे प्रतिबंधित संगठन के आह्वान के बारे में नहीं पता. मैं उस पर टिप्पणी नहीं कर सकता. लेकिन हम निश्चित रूप से प्रधानमंत्री और उनके प्रतिनिधिमंडल की सुरक्षा सुनिश्चित करने में जुटे हैं.” उन्होंने कहा, ”हमारी इस मामले में मेजबान देश अमेरिका से बात हुई है और (उसे) इससे अवगत कराया गया है. अगर संगठन पर प्रतिबंध लगाया जा चुका है, तो उसे इस तरह की गतिविधियां नहीं करनी चाहिए.”

    खालिस्तान को लेकर सत्‍तर के दशक से हो रही है मांग 

    सत्तर के दशक में खालिस्तान को लेकर कई चीजें हुईं. 1971 में गजीत सिंह चौहान ने अमेरिका जाकर वहां के अखबार में खालिस्तान राष्ट्र के तौर पर एक पेज का विज्ञापन प्रकाशित कराया और इस आंदोलन को मजबूत करने के लिए चंदा मांगा. बाद में 1980 में उसने खालिस्तान राष्ट्रीय परिषद बनाई और उसका मुखिया बन गया. लंदन में उसने खालिस्तान का देश का डाकटिकट भी जारी किया. इससे पहले 1978 में जगजीत सिंह चौहान ने अकालियों के साथ मिलकर आनंदपुर साहिब के नाम संकल्प पत्र जारी किया, जो अलग खालिस्तान देश को लेकर था.  80 के दशक में खालिस्तान आंदोलन पूरे उभार पर था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज