भारत ने जहां से लड़ी 4 जंग, वहीं से दुश्मनों पर नजर रखेगा फाइटर जेट का 'बॉस'

भारत ने जहां से लड़ी 4 जंग, वहीं से दुश्मनों पर नजर रखेगा फाइटर जेट का 'बॉस'
अंबाला एयरफोर्स स्टेशन पर तैनात किए जाएंगे राफेल फाइटर जेट.

अंबाला एयरफोर्स स्टेशन (Ambala Airforce Station) भारतीय वायुसेना (Indian Airforce) के पश्चिमी एयर कमांड के तहत आता है. बात चाहे 1965 की लड़ाई की हो या फिर बालाकोट एयरस्ट्राइक की हर बार यहां से उड़े लड़ाकू विमानों ने दुश्मनों के दांत खट्टे किए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 28, 2020, 11:33 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत को जिस दिन का बेस​ब्री से इंतजार था आखिरकार वो समय आ ही गया है. 24 घंटे से भी कम समय में फाइटर जेट राफेल (Rafale Fighter Jet) भारत की सरजमीं पर होगा. राफेल को अंबाला एयरफोर्स स्टेशन (Ambala Airforce Station) पर तैनात किया जाएगा. ऐसे में बहुत से लोगों के दिमाग में ये बात उठ रही होगी कि आखिर भारतीय वायुसेना (Indian Airforce) का अंबाला एयरफोर्स स्टेशन ही नए फाइटर जेट का 'बॉस' कहे जाने वाले राफेल का घर क्यों बनाया जा रहा है. हम आपको बता दें कि अंबाला ही वो जगह है जहां से देश के इतिहास की कई बड़ी लड़ाई लड़ी गईं और देश ने जीत का परचम लहराया.

बता दें कि अंबाला एयरफोर्स स्टेशन भारतीय वायुसेना के पश्चिमी एयर कमांड के तहत आता है. बात चाहे 1965 की लड़ाई की हो या फिर 1971 की. कारगिल पर पाकिस्तान की ओर से रची गई साजिश हो या फिर बालाकोट एयरस्ट्राइक की. जब कभी भी दुश्मनों ने भारत की ओर आंख दिखाई तब-तब अंबाला एयरफोर्स स्टेशन से उड़े लड़ाकू विमानों ने दुश्मनों के दांत खट्टे किए हैं.

देश के आजाद होने के बाद पहली बार जब अंबाला में एयरस्ट्रिप बनाई गई तो यहां पर जगुआर फाइटर जेट के स्क्वाड्रन 5 और स्क्वाड्रन 14 को तैनात किया गया. इसके बाद यहां पर मिग-21 बाइसन को भी रखा गया. अंबाला एयरफोर्स स्टेशन का महत्व इसलिए भी हमेशा से रहा है क्योंकि यह भारत के सबसे बड़े दुश्मन में से एक पाकिस्तान से मात्र 220 किलोमीटर की दूर पर बना है. दुश्मन की किसी भी हरकत पर भारतीय सेना के ये लड़ाकू विमान पलक झपकते ही उनका खात्मा करने पहुंच जाते हैं.



India, Pakistan, China, Rafael, Ambala Airforce Station, Indian Air Force
बता दें कि पुलवामा हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान के बालाकोट में जिस तरह की एयरस्ट्राइक की थी उसके मिराज फाइटर जेट ने अंबाला एयरफोर्स स्टेशन से ही उड़ान भरी थी. पाकिस्तान की सीमा में घुसकर भारतीय वायुसेना के जवानों ने आतंकियों का खात्मा किया और 30 मिनट के अंदर वह सरहद में वापस भी लौट आए.

इसे भी पढ़ें :- राफेल के स्वागत के लिए अंबाला एयरबेस तैयार, 3 KM तक नहीं उड़ सकेंगे ड्रोन

अंबाला एयरफोर्स स्टेशन का गौरवशाली इतिहास
>> 1947-48 में अंबाला एयरफोर्स स्टेशन से ही कश्मीर में कई ऑपरेशन को अंजाम दिया गया.
>> 1962 में भारत और चीन के साथ हुए युद्ध में अंबाला से निकले लड़ाकू विमानों ने दुश्मनों के छक्के छुड़ाए.
>> 1965 और 1971 में पाकिस्तान के साथ हुई लड़ाई में इसी एयरफोर्स स्टेशन के लड़ाकू जेट ने दुश्मनों को धूल चटाई.
>> 1999 में करगिल के युद्ध में इसी एयरफोर्स स्टेशन से ऑपरेशन सफेद सागर चलाया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading