भारत को अपनी लड़ाई खुद लड़नी होगी, अमेरिकी तैनाती उनके नजरिये से की गई: IAF प्रमुख

वायुसेना प्रमुख ने कहा है कि अमेरिकी तैनाती उनके दृष्टिकोण के अनुसार की गई है (फोटो- ANI)
वायुसेना प्रमुख ने कहा है कि अमेरिकी तैनाती उनके दृष्टिकोण के अनुसार की गई है (फोटो- ANI)

वायु सेना प्रमुख (Air Force Chief) आरकेएस भदौरिया (RKS Bhadauria) ने वार्षिक वायु सेना दिवस प्रेस कॉन्फ्रेंस (Annual Air Force Day press conference) को संबोधित करते हुए कहा कि भारत दूसरों की मदद से युद्ध के प्रयासों (War efforts) की योजना नहीं बनाता है और सब कुछ अपने दम पर करता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 6, 2020, 6:21 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. यह बताते हुए कि चीन (China) के साथ सीमा तनाव (Border tension) के संबंध में अमेरिकी सेनाओं (American Army) के साथ कोई समन्वय नहीं किया गया है, वायु सेना प्रमुख (Air Force Chief) आरकेएस भदौरिया (RKS Bhadauria) ने सोमवार को कहा कि भारत को अपनी लड़ाई (fight) अपने दम पर लड़नी चाहिए और इसके लिए वह दूसरों पर भरोसा नहीं कर सकता.

वायु सेना प्रमुख ने वार्षिक वायु सेना दिवस प्रेस कॉन्फ्रेंस (Annual Air Force Day press conference) को संबोधित करते हुए कहा कि भारत दूसरों से समर्थन के साथ युद्ध के प्रयासों (War efforts) की योजना नहीं बनाता है और सब कुछ अपने दम पर करता है. उन्होंने चीन (China) के साथ भारत की सीमा पर तनाव और हिंद महासागर (Indian Ocean) में अमेरिकी सैन्य साजो-सामान की तैनाती के बीच किसी भी संबंध को खारिज कर दिया और कहा कि अमेरिकी तैनाती (American deployments) उनके दृष्टिकोण के अनुसार की गई है.

"हम किसी और के समर्थन से अपने प्रयासों की योजना नहीं बनाते"
उन्होंने कहा, "अमेरिकी तैनाती उनके दृष्टिकोण के अनुसार की जाती है. हम किसी और के समर्थन से अपने प्रयासों की योजना नहीं बनाते हैं. वे हमारे साथ समन्वय में तैनात नहीं किए गए हैं. हमें अपनी लड़ाई खुद लड़नी होगी. कोई भी हमारे लिए हमारी लड़ाई नहीं लड़ेगा. हमें इसे खुद ही लड़ना होगा.”
वायु सेना प्रमुख को उन रिपोर्टों पर टिप्पणी करने के लिए कहा गया था, जिनके अनुसार हिंद महासागर में B-2 बमवर्षकों की अमेरिकी तैनाती के पीछे की वजह लद्दाख में किसी भी चीनी दुस्साहस को रोकने का कदम बताया गया था.



यह भी पढ़ें: सीमा विवाद के बीच ब्रिक्स बैठक में आमने-सामने होंगे पीएम मोदी और शी जिनपिंग

और राफेल लड़ाकू विमान खरीदे जाने की संभावना से इंकार नहीं
भारतीय वायु सेना ने 36 और राफेल लड़ाकू विमान के दूसरे बैच को खरीदने की संभावना पर, वायु सेना प्रमुख ने कहा कि यह एक जटिल विषय है और बल इसके लिए "विभिन्न विकल्पों" पर विचार कर रहा है. हालांकि उन्होंने ऐसी किसी भी योजना के होने से इंकार नहीं किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज