कोरोनाः दूसरी लहर ने छीने 200 से ज्यादा डॉक्टर, बीते रविवार को हुई 50 डॉक्टरों की मौत

IMA के मुताबिक पिछले साल कोरोना की पहली लहर में देश के 730 डॉक्टरों की मौत हो गई थी. (सांकेतिक फोटो)

IMA के मुताबिक पिछले साल कोरोना की पहली लहर में देश के 730 डॉक्टरों की मौत हो गई थी. (सांकेतिक फोटो)

IMA Says India Lost 50 Doctors to Covid in a Day: सबसे कम उम्र के डॉ. मुजाहिद की मौत कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के तत्काल बाद हो गई थी. उन्हें गले में हल्की खराश थी और एंटीजन टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए थे. उनका टीकाकरण नहीं हुआ था.

  • Share this:

नई दिल्ली. इंडियन मेडिकल एसोशिएसन के आंकड़ों की मानें तो कोरोना की दूसरी लहर में देश के 244 डॉक्टर जिंदगी की जंग की हार गए हैं. इनमें से 50 डॉक्टरों को कोरोना ने रविवार को हमसे छीन लिया. ये एक दिन में डॉक्टरों की मौत का सबसे बड़ा आंकड़ा है. कोरोना संक्रमण ने देश भर में तबाही मचा रखी है. आंकड़ों के मुताबिक बिहार में सबसे ज्यादा डॉक्टरों की मौत हुई है. राज्य में 69 फिजिशियन अपनी गंवा बैठे हैं, जबकि उत्तर प्रदेश में 34 और दिल्ली में 27 डॉक्टरों की मौत हुई है.

आईएमए ने कहा कि डॉक्टर अनस मुजाहिद सबसे कम उम्र के डॉक्टर थे, जो कोरोना के खिलाफ जिंदगी की जंग हार गए, वहीं सबसे बुजुर्ग डॉक्टर की बात करें तो विशाखापत्तनम के डॉ. एस. सत्यमूर्ति थे, जिनकी उम्र 90 वर्ष थी और वे ईएनटी के एक रिटायर्ड प्रोफेसर थे. मुजाहिद दिल्ली स्थित गुरु तेग बहादुर अस्पताल में जूनियर रेजिडेंट डॉक्टर थे. ये अस्पताल कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित है. डॉ. मुजाहिद की मौत कोरोना पॉजिटिव टेस्ट होने के तत्काल बाद हो गई थी. उन्हें गले में हल्की खराश थी और एंटीजन टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए थे. हालांकि उनका टीकाकरण नहीं हुआ था.

पिछले साल हुई थीं 730 मौतें

पिछले साल कोरोना की पहली लहर में देश के 730 डॉक्टरों की मौत हो गई थी. आईएमए के मुताबिक केंद्र सरकार ने संसद में कहा था कि उसने डॉक्टरों की मौत संबंधी डाटा को कलेक्ट नहीं किया. डॉक्टरों की मौत से जुड़ा से आंकड़ा सोमवार को ही सामने आया, इसी दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डॉक्टरों को संबोधित करते हुए कहा कि स्वास्थ्यकर्मियों और फ्रंटलाइन वर्कर्स के साथ टीकाकरण अभियान की शुरुआत करने का परिणाम वायरस संक्रमण की दूसरी लहर में अच्छा रहा है. देश के ज्यादा चिकित्सा पेशेवर वैक्सीन की पहली डोज ले चुके हैं.


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए डॉक्टरों के एक समूह को संबोधित कर रहे थे, उन्होंने कहा कि चाहे बात टेस्टिंग की हो या मेडिसिन की सप्लाई की नए इंफ्रास्ट्रक्चर के निर्माण को रिकॉर्ड टाइम में पूरा किया गया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज