भूटान और बांग्लादेश के बीच सेतु बना भारत, पानी के रास्ते दोनों देशों को जोड़ा

भारत और बांग्लादेश को जोड़ने के लिए भारत ने अब ब्रह्मपुत्र नदी में एक रास्ता खोला है. नदी के रास्ते अब बांग्लादेश और भूटान के बीच सामान का आवागमन आसान हो जाएगा.

News18Hindi
Updated: July 13, 2019, 8:30 AM IST
भूटान और बांग्लादेश के बीच सेतु बना भारत, पानी के रास्ते दोनों देशों को जोड़ा
भूटान और बांग्लादेश के बीच सेतु बना भारत, पानी के रास्ते दोनेां देशों को जोड़ा
News18Hindi
Updated: July 13, 2019, 8:30 AM IST
बांग्लादेश और भूटान के बीच व्यापार को आसान बनाने के लिए भारत अब सेतु का काम कर रहा है. भारत और बांग्लादेश को जोड़ने के लिए भारत ने अब ब्रह्मपुत्र नदी में एक रास्ता खोला है. नदी के रास्ते अब बांग्लादेश और भूटान के बीच सामान का आवागमन आसान हो जाएगा.

शुक्रवार को ऐसी पहली शिप असम के धुबरी रिवरपोर्ट से बांग्लादेश के नारायणगंज के लिए रवाना हुई. बताया जाता है कि शिप में भूटान से आया 70 ट्रकों के बराबर क्रश्ड स्टोन भरा हुआ है. शिप को हरी झंडी दिखाते हुए शिपिंग मंत्री मनसुख लाल मंडाविया ने कहा कि ऐसा पहली बार हो रहा है जब भारत ने वॉटरवे के रास्ते दो देशों को आपस में जोड़ने की पहल की गई है.



इसे भी पढ़ें :- शेख हसीना: कभी इंदिरा ने दी थी दिल्ली में शरण, आज बांग्लादेश में लहरा रही हैं जीत का परचम

भारतीय अंतर्देशीय जलमार्ग प्राधिकरण (आईडब्ल्यूएआई) के चेयरमैन प्रवीर पांडेय ने बताया कि भूटान से आने वाले सामान को पहले फुएंतशिलिंग से असम के धुबरी जेटी तक लाया गया था, जहां से उसे भारत के रास्ते बांग्लादेश भेजा गया है. शुक्रवार को रवाना हुई शिप बांग्लादेश के लिए नारायणपुर तक 600 किमी की दूरी करीब 6 दिनों में पूरी करेगी.

इसे भी पढ़ें :- NRC: जिनके नाम नहीं उन्‍हें बांग्‍लादेश नहीं भेजा जाएगा, मोदी ने शेख हसीना से कहा

अभी ट्रकों के जरिए होता था व्यापार
बताया जाता है कि बांग्लादेश देश के लिए बिल्डिंग के निर्माण से जुड़ी सामग्री भूटान से मंगाता है. सड़क मार्ग से आने में उसे काफी समय लग जाता था. ट्रकों के जरिए आने वाले माल को बांग्लादेश की सीमा पर रोक दिया जाता था और फिर उसे बांग्लादेश के ट्रकों पर भरा जाता था. वॉटरवे के जरिए भूटान से भेजा जाने वाला सामान अब छह दिन में बांग्लादेश में पहुंच जाएगा.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...