अपना शहर चुनें

States

Oxford-AstraZeneca Vaccine को आज भारत भी दे सकता है मंजूरी- सूत्र

ऑक्सफोर्ड/एस्ट्राजेनेका के कोविड-19 टीके को ब्रिटिश नियामक ने मंजूरी दे दी है.
ऑक्सफोर्ड/एस्ट्राजेनेका के कोविड-19 टीके को ब्रिटिश नियामक ने मंजूरी दे दी है.

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों द्वारा विकसित और एस्ट्राजेनेका द्वारा उत्पादित कोविड-19 टीके ( Oxford-AstraZeneca Vaccine) को बुधवार को ब्रिटेन के स्वतंत्र नियामक ने इनसानों पर इस्तेमाल करने की अनुमति दे दी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 30, 2020, 2:54 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली/लंदन.  कोरोना वैक्सीन को लेकर भारत में भी आज ही बड़ी खबर आ सकती है. ऑक्सफोर्ड/एस्ट्राजेनेका ( Oxford-AstraZeneca Vaccine) के कोविड-19 वैक्सीन को ब्रिटिश नियामक ने बुधवार को मंजूरी दे दी. इसके बाद उम्मीद है कि भारत में वैक्सीन को मंजूरी मिल जाएगी. सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन के एक शीर्ष सूत्र ने News18 को बताया कि ब्रिटेन ने वैक्सीन के लिए अपनी अनुमति देने के बाद बुधवार को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका द्वारा विकसित कोरोनो वायरस वैक्सीन को मंजूरी देने की संभावना है. भारत में ये वैक्सीन 'कोविशिल्ड' के नाम से आएगी.

ब्रिटेन ने घोषणा की कि उसने ऑक्सफोर्ड कोरोना वायरस वैक्सीन को मंजूरी दे दी है.  इससे जुड़ी एक विशेषज्ञ समिति (एसईसी) बुधवार को दोपहर 2 बजे टीके के आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण (ईयूए) पर बातचीत करने के लिए बैठक कर रही है. इ,में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के आवेदन  पर समिति द्वारा विचार किया जाएगा.

ब्रिटिश स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा, 'सरकार ने आज ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी / एस्ट्राजेनेका के COVID-19 वैक्सीन को अधिकृत करने के लिए मेडिसिन एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स रेगुलेटरी एजेंसी (MHRA) की सिफारिश को स्वीकार कर लिया है.'



Oxford-AstraZeneca Vaccine की मंजूरी पर विशेषज्ञों ने क्या कहा?
MHRA द्वारा पिछले सोमवार को सरकार द्वारा डेटा प्रस्तुत किए जाने के बाद टीके का मूल्यांकन किया जा रहा था.  श्वास रोग विशेषज्ञ और सरकार की आपात व्यवस्था को लेकर गठित वैज्ञानिक सलाहकार समूह के सदस्य प्रोफेसर कालम सेम्पल ने कहा, ‘टीका लेने वाले व्यक्ति कुछ हफ्तों में वायरस से सुरक्षित हो जााएंगे और यह बहुत महत्वपूर्ण है.’ब्रिटेन ने टीके की करीब 10 करोड़ खुराक के ऑर्डर दिए हैं जिनमें से चार करोड़ खुराक मार्च के अंत तक मिलने की उम्मीद है.

एस्ट्राजेनेका के प्रमुख पास्कल सोरियट ने जोर देकर कहा है कि अनुसंधानकर्ताओं ने अंतिम नतीजों को प्रकाशित करने से पहले टीके की दो खुराक का इस्तेमाल कर ‘ कारगर फार्मूला’ हासिल किया है. उन्होंने उम्मीद जताई कि वायरस पूर्व के अनुमानों से अधिक प्रभावी होगा और इसके कोरोना वायरस के नए प्रकार पर भी प्रभावी होना चाहिए जिसकी वजह से ब्रिटेन के अधिकतर हिस्सों में भय की स्थिति है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज