Cyclone Yaas: 'टाउते' के बाद 'यास' का बढ़ा खतरा, PM मोदी आज करेंगे समीक्षा बैठक

मौसम विभाग (IMD) के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में बन रहा लो प्रेकशर 'यास' चक्रवात को और ताकतवर बना रहा है . (प्रतीकात्मक)

मौसम विभाग (IMD) के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में बन रहा लो प्रेकशर 'यास' चक्रवात को और ताकतवर बना रहा है . (प्रतीकात्मक)

चक्रवाती तूफान 'टाउते' (Tauktae Cyclone Storm) के बाद अब देश में एक और तूफान खतरनाक रूप लेने लगा है. IMD ने चक्रवात 'यास' (Yaas Cyclone Storm) के बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान में बदलने और 26 मई को ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटों से टकराने की आशंका जताई है.

  • Share this:

नई दिल्ली. चक्रवाती तूफान 'टाउते' (Tauktae Cyclone Storm) के बाद अब देश में एक और तूफान खतरनाक रूप लेने लगा है. बंगाल की खाड़ी में उठने वाला चक्रवाती तूफान 'यास' (Yaas Cyclone Storm) अब पश्चिम बंगाल (West Bengal) और ओडिशा (Odisha) के तटीय क्षेत्रों में भारी तबाही मचा सकता है. इसे देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज सुबह 11 बजे राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA) के प्रतिनिधियों, दूरसंचार, बिजली, नागरिक उड्डयन और पृथ्वी विज्ञान मंत्रालयों के सचिवों के साथ एक महत्वपूर्ण बैठक करेंगे. बैठक में पीएम मोदी चक्रवात यास को लेकर तैयारियों की समीक्षा करेंगे.

इससे पहले भारत मौसम विज्ञान विभाग (India Meteorological Department) के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में बन रहा लो प्रेकशर 'यास' चक्रवात को और ताकतवर बना रहा है और इसका खतरा पहले से ज्‍यादा बढ़ गया है. देश में कुछ दिन पहले ही पश्चिमी तट पर आए भीषण 'टाउते' चक्रवाती तूफान ने भारी तबाही मचाई थी. टाउते तूफान से महाराष्‍ट्र, गुजरात, केरल, कर्नाटक और गोवा को काफी नुकसान उठाना पड़ा था. आईएमडी ने अलर्ट जारी करते हुए कहा है कि अब पश्चिम बंगाल और ओडिशा के लिए एक बड़ा खतरा सामने दिखाई दे रहा है. आईएमडी ने चक्रवात 'यास' के बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान में बदलने और 26 मई को ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटों से टकराने की आशंका जताई है.

क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक जीके दास ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में बन रहा कम दबाव चक्रवाती तूफान यास को और भी ताकतवर बना रहा है. उन्‍होंने कहा कि अभी जिस तरह का दबाव देखा जा रहा है उससे हम अंदाज लगा रहे हैं कि 26 मई को चक्रवाती तूफान यास 26 मई को पश्चिम बंगाल, उत्तरी ओडिशा और बांग्लादेश के तटों से टकरा सकता है. जिस समय यास पश्चिम ये चक्रवात आएगा उस वक्‍त सुबह से ही हवा की रफ्तार 90-100 किमी प्रति घंटे से 110 किमी प्रति घंटे तक पहुंचने की उम्मीद है. शाम तक इसके और भी खतरनाक होने की उम्‍मीद है.


लो प्रेशर एरिया बनने से बढ़ रहा खतरा

मौसम विभाग के मुताबिक उत्तरी अंडमान सागर और पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर शनिवार को एक निम्न दबाव वाला क्षेत्र बनाना शुरू हुआ था. कम दबाव का क्षेत्र चक्रवात बनने का पहला चरण होता है. लगातार लो प्रेशन बने रहने से चक्रवात के तेजी से आगे बढ़ने की संभावना है. हम उम्‍मीद कर रहे हैं कि 26 मई को ये चक्रवाती पश्चिम बंगाल और ओडिशा के तट से टकराएगा.

इसे भी पढ़ें :- Odisha में चक्रवाती तूफान यास का अलर्ट, रेलवे ने ये चार ट्रेनें कीं कैंसल




इसे भी पढ़ें :- यास चक्रवात को लेकर केंद्र की बड़ी बैठक, राज्यों की तैयारी का लिया जायजा

24 मई तक चक्रवाती तूफान में तब्‍दील हो 'यास'

आईएमडी ने कहा, ' एक निम्न दबाव के क्षेत्र के कल, 23 ​​मई की सुबह तक बंगाल की खाड़ी के पूर्व-मध्य क्षेत्र पर विक्षोभ में केंद्रित होने की आशंका है. इसके उत्तर-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने की संभावना है, जो 24 मई तक एक चक्रवाती तूफान में तब्दील हो सकता है और अगले 24 घंटों में बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान का रूप ले सकता है.'

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज