• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • भारत 2030 तक 450 GW अक्षय ऊर्जा का लक्ष्‍य हासिल करने वाला दुनिया का पहला देश होगा

भारत 2030 तक 450 GW अक्षय ऊर्जा का लक्ष्‍य हासिल करने वाला दुनिया का पहला देश होगा

नॉलेज पार्क स्थित इंडिया एक्‍सपो सेंटर में केंद्रीय राज्यमंत्री भगवंत खुबा ने अक्षय ऊर्जा के बारे में दी जानकारी

नॉलेज पार्क स्थित इंडिया एक्‍सपो सेंटर में केंद्रीय राज्यमंत्री भगवंत खुबा ने अक्षय ऊर्जा के बारे में दी जानकारी

भारत में इस समय दुयिा का सबसे बड़ा स्‍वच्‍छ ऊर्जा कार्यक्रम चलाया जा रहा है, जिसके तहत 175 गीगा वाट की क्षमता हासिल करने का लक्ष्‍य रखा गया है. इसके तहत ही 2022 तक 100 गीगा वाट सौर ऊर्जा और 2030 तक 450 गीगा वाट सौर ऊर्जा का लक्ष्य है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्‍ली. भारत में तेजी से अक्षय ऊर्जा के अपने लक्षय की ओर आगे बढ़ रहा है. पिछले साल सालों में अक्षय ऊर्जा के क्षेत्र में भारत की भागीदारी कई गुना तक बढ़ी है. भारत में इस समय दुयिा का सबसे बड़ा स्‍वच्‍छ उर्जा कार्यक्रम चलाया जा रहा है, जिसके तहत 175 गीगा वाट की क्षमता हासिल करने का लक्ष्‍य रखा गया है. इसके तहत ही 2022 तक 100 गीगा वाट सौर ऊर्जा और 2030 तक 450 गीगा वाट सौर ऊर्जा का लक्ष्य है. ये जानकारी नॉलेज पार्क स्थित इंडिया एक्‍सपो सेंटर में नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा, रसायन और उर्वरक केंद्रीय राज्यमंत्री भगवंत खुबा ने दी. भगवंत खुबा नवीन और नवीनीकरण ऊर्जा-2021 प्रदर्शनी के 14वें संस्करण को संबोधित कर रहे थे.

    इंडिया एक्‍सपो सेंटर में पहुंचे केंद्रीय राज्यमंत्री भगवंत खुबा ने कहा भारत के पास अपनी दृष्टि को वास्‍तविकता में बदलने का पूरा दम है. राष्ट्रीय हाइड्रोजन मिशन की घोषणा के साथ हमारा उद्देश्य देश को हरित हाइड्रोजन के उत्पादन और निर्यात के लिए एक वैश्विक केंद्र बनाना है. हमारा देश बायोमास का एक विशाल उत्पादक भी है – लगभग 756 मिलियन टन, जिसमें से 266 मिलियन टन का उपयोग ब्रिकेट और छर्रों के निर्माण में किया जाता है. हमारे प्रयास स्टील, सीमेंट और कपड़ा उद्योगों जैसे भारी उद्योगों के डीकार्बोनाइजेशन की दिशा में भी समर्पित हैं और आने वाले वर्षों में सरकार इस पहलू पर काम करेगी.

    ग्रेटर नोएडा में आरईआई एक्सपो के 14वें संस्करण के उद्घाटन के अवसर पर बोलते हुए, श्री योगेश मुद्रा, प्रबंध निदेशक, इंफोर्मा मार्केट्स इन इंडिया ने कहा, भारतीय रिन्यूएबल एनर्जी क्षेत्र दुनिया में चौथा सबसे आकर्षक रिन्यूएबल एनर्जी मार्केट है. हाल ही में 100 गीगा वाट के मील के पत्थर को पार करने और सरकार द्वारा रिन्यूएबल एनर्जी क्षमता बढ़ाने के साथ अब इंडिया इंक और इसके नागरिकों को सामूहिक रूप से राष्ट्र की हरित अर्थव्यवस्था को विकसित करने की दिशा में काम करना चाहिए. सरकार के पर्याप्त प्रोत्साहन के साथ, भारत 2028 तक डोमेन में 500 बिलियन अमेरिकी डॉलर के निवेश का गवाह बन सकता है. हम अर्थव्यवस्था के क्रमिक पुनर्निर्माण के एक महत्वपूर्ण मोड़ पर वापस आ गए हैं. महामारी के बाद की दुनिया के लिए नीति निर्माताओं और उद्योग जगत से जुड़े रहने की आवश्यकता समय की आवश्यकता है और तीन दिवसीय गहन ज्ञान विनिमय मंच के साथ एक्सपो स्थायी, अभिनव, विश्वसनीय, तकनीकी रूप से कुशल और आधुनिक ऊर्जा बनाने में मदद करेगा.

    आरईआई 2021 के उद्घाटन के खास मौके पर जीएनआईडीए के सीईओ नरेंद्र भूषण ने कहा, नोएडा सिर्फ 30 साल का एक युवा शहर है और यह स्थिरता के कुछ तत्वों के साथ भविष्य का शहर बनने की राह पर है. प्राधिकरण भी आने वाले वर्षों में सौर ऊर्जा क्षमता को दोगुना करने की योजना बना रही है. ग्रेटर नोएडा औद्योगिक विकास प्राधिकरण (जीएनआईडीए) ने स्ट्रीट लाइट पर 54,000 उच्च दबाव वाले सोडियम बल्बों के लिए जल्‍द एक निविदा जारी करेगी. ग्रेटर नोएडा में स्ट्रीट लाइट लगभग 30 मिलियन यूनिट बिजली की खपत करते हैं. इसमें 30 करोड़ के वार्षिक बिल के साथ एलईडी रोशनी की स्थापना के साथ हम इनके खर्चों आधी गिरावट देख सकेंगे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज