एक रिपोर्ट के अनुसार भारत हर साल 94.6 लाख टन प्लास्टिक कचरा पैदा करता है

भारत (India) हर साल 94.6 लाख टन प्लास्टिक (Plastic) कचरा उत्पन्न करता है जिसमें से 40 प्रतिशत एकत्रित नहीं होता और 43 प्रतिशत का प्रयोग पैकेजिंग (packaging) के लिए किया जाता है.

News18Hindi
Updated: August 30, 2019, 12:25 PM IST
एक रिपोर्ट के अनुसार भारत हर साल 94.6 लाख टन प्लास्टिक कचरा पैदा करता है
भारत हर साल 94.6 लाख टन प्लास्टिक कचरा पैदा करता है
News18Hindi
Updated: August 30, 2019, 12:25 PM IST
भारत (India) हर साल 94.6 लाख टन प्लास्टिक (Plastic) कचरा उत्पन्न करता है जिसमें से 40 प्रतिशत एकत्रित नहीं होता और 43 प्रतिशत का प्रयोग पैकेजिंग (packaging) के लिए किया जाता है जिसमें से ज्यादातर एक बार इस्तेमाल होने वाला प्लास्टिक है. एक नये अध्ययन में यह जानकारी सामने आई है.

यह अध्ययन ‘अन-प्लास्टिक कलेक्टिव’ (Un-Plastic Collective) की तरफ से किया गया है. यूपीसी वातावरण से प्लास्टिक प्रदूषण कम करने की पहल है जिसमें अपनी इच्छा से कई लोग शामिल हैं. अध्ययन में कहा गया है कि पूरी दुनिया में 1950 के बाद से 8.3 अरब टन प्लास्टिक उत्पन्न किया गया और करीब 60 प्रतिशत कूड़ेदान में या प्रकृति में मिल जाता है.

“भारत सालाना 94.6 लाख टन प्लास्टिक कचरा पैदा करता है जिसमें से 40 प्रतिशत एकत्रित नहीं होता और 43 प्रतिशत का इस्तेमाल पैकेजिंग के लिए किया जाता है जिनमें से ज्यादातर प्लास्टिक एक बार के इस्तेमाल के लायक होता है.

अगर हमें अपने वातावरण को बचाना है तो प्लास्टिक थैलों को छोड़ कपड़े के थैलों का उपयोग करना चाहिए. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी पर्यावरण को बचाने की कोशिश के तहत एक बार इस्तेमाल होने वाले प्लास्टिक के उत्पादन को रोकने के लिए कड़े कदम उठाने की बात कही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी हाल में लोगों से अपील की थी कि वे पर्यावरण की रक्षा के लिए एक बार इस्तेमाल होने वाले प्लास्टिक का प्रयोग बंद करें.

ये भी पढ़ें: बादली में तीन मंजिला इमारत का हिस्‍सा गिरा, एक की मौत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 30, 2019, 12:25 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...