राफेल, पाकिस्तान का F-16 या चीन का J-20, तीनों में ज्यादा ताकतवर कौन?

ये फाइटर जेट जम्‍मू-कश्‍मीर और लद्दाख के दुर्गम पहाड़ी इलाकों तक ऑल-वेदर एक्‍सेस देगा. (PTI)

राफेल की तरह ही पाकिस्तान के F-16 और चीन का चेंग्दू J-20 एयरक्राफ्ट एयर टू एयर कॉम्बैट, ग्राउंड सपोर्ट औऱ एंटी शिप स्ट्राइक जैसी चीजों से लैस हैं. इनमें कई तरह के हथियार भी लगे हैं. आइए जानते हैं राफेल की तुलना में पाकिस्तान का F-16 और चीन का चेंग्दू J-20 कहां ठहरते हैं?

  • Share this:
    नई दिल्ली. फ्रांस से पहली खेप के रूप में भारत आ रहे 5 राफेल लड़ाकू विमान (Rafale Fighter Jet) यूएई (UAE) पहुंच गए हैं. संयुक्त अरब अमीरात के अल दफरा एयरपोर्ट (Al Dhafra Airport) पर इन विमानों की लैंडिंग पायलट्स को आराम देने के लिए की गई है. 29 जुलाई को ये लड़ाकू विमान वहां से उड़ान भरेंगे और फिर दोपहर तक अंबाला पहुंचेंगे. राफेल के जुड़ने के बाद भारतीय वायुसेना की ताकत कई गुना बढ़ जाएगी. ये फाइटर जेट जम्‍मू-कश्‍मीर और लद्दाख के दुर्गम पहाड़ी इलाकों तक ऑल-वेदर एक्‍सेस देगा. राफेल में ऐसी कई खासियतें हैं, जिसकी वजह से इसे ऑलराउंडर माना जा रहा है.

    राफेल की तरह ही पाकिस्तान के F-16 और चीन का चेंग्दू J-20 एयरक्राफ्ट एयर टू एयर कॉम्बैट, ग्राउंड सपोर्ट और एंटी शिप स्ट्राइक जैसी चीजों से लैस हैं. इनमें कई तरह के हथियार भी लगे हैं, लेकिन BVR (बियॉड विजुअल रेंज यानी दृश्य सीमा से दूर)  हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइलों में राफेल के Meteor के पास कुछ ज्यादा क्षमताएं दिख रही हैं. ये 120 किमी दूर स्थित टारगेट को हिट करने की क्षमता रखती है. आइए जानते हैं राफेल की तुलना में पाकिस्तान का F-16 और चीन का चेंग्दू J-20 कहां ठहरते हैं?

    कैसे चीन के J-20 और पाकिस्तान के F-16 के मुकाबले मल्टी टास्कर है भारत का राफेल

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.