लाइव टीवी

लंदन में पाक समर्थक कश्मीर मामले पर माहौल बिगाड़ने के मूड में, भारत ने जताई आपत्ति

News18Hindi
Updated: October 23, 2019, 9:43 PM IST
लंदन में पाक समर्थक कश्मीर मामले पर माहौल बिगाड़ने के मूड में, भारत ने जताई आपत्ति
लंदन में जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर 15 अगस्त और सितंबर में विरोध प्रदर्शन हो चुके हैं. फाइल फोटो

भारत (India) ने भारतीय उच्चायोग (Indian high commission) और वहां पर मौजूद स्टाफ की की सुरक्षा और भारत विरोधी इस अभियान पर इंग्लैंड प्रशासन को एक पत्र लिखा है. इससे पहले पीएम मोदी ने इंग्लैंड के पीएम बोरिस जॉनसन से इस मामले पर बातचीत में इंग्लैंड में ऐसे प्रदर्शनों पर चिंता जताई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 23, 2019, 9:43 PM IST
  • Share this:
महा सिद्दीक़ी

नई दिल्ली. भारत और इंग्लैंड के रिश्ते आम तौर पर अच्छे ही रहे हैं. लेकिन कश्मीर (Jammu and Kashmir) में बदले हालात के बाद अब इन रिश्तों की अग्नि परीक्षा हो रही है. इंग्लैंड (England) में कश्मीर मुद्दे पर एक विरोध प्रदर्शन आयोजित किया जा रहा है. ये विरोध प्रदर्शन 27 अक्टूबर को दिवाली के दिन आयोजित किया जा रहा है. इस प्रदर्शन को कश्मीर में उग्रवाद और आतंकवाद का समर्थन करने वाले लोग आयोजित कर रहे हैं. इन्हें पंजाब में खालिस्तान समर्थित लोगों का समर्थन भी हासिल है. भारत ने इस मामले में लिखित में आपत्ति जताई है.

भारत ने इंग्लैंड प्रशासन को लिखा पत्र
दरअसल पिछली बार भी एक ऐसा ही विरोध प्रदर्शन हुआ था, इसमें लंदन में भारतीय उच्चायोग (indian High commission) को काफी नुकसान पहुंचा था. भारत ने भारतीय उच्चायोग और वहां पर मौजूद स्टाफ की की सुरक्षा और भारत विरोधी इस अभियान पर इंग्लैंड प्रशासन को एक पत्र लिखा है. इससे पहले पाकिस्तानी समर्थकों ने लंदन में भारतीय उच्चायोग के सामने 15 अगस्त और बाद में 3 सितंबर को एक प्रदर्शन किया था. 15 अगस्त को भारतीय उच्चायोग में होने वाला कार्यक्रम भी बाधित हुआ था. इसके बाद 20 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इंग्लैंड के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन से टेलीफोन पर बातचीत में इस मुद्दे को उठाया था.

मोदी की जॉनसन से हुई थी बात
इस मामले में भारत की ओर से जारी बयान में कहा गया था कि पीएम मोदी ने बोरिस जॉनसन के साथ बातचीत में हिंसा और तोड़फोड़ पर चिंता जताई थी. इस बातचीत में जॉनसन ने इस घटना के लिए खेद भी जताया था. इसके बाद उन्होंने इस मामले में सुरक्षा के लिए सभी जरूरी कदम उठाने का आश्वासन भी दिया था.

पिछले प्रदर्शन में भारतीय उच्चायोग को हुआ था नुकसान
Loading...

इसके बाद सितंबर में हुआ विरोध प्रदर्शन और भारत के नजरिए से ज्यादा चिंताजनक था. इसमें प्रदर्शनकारी भारतीय उच्चायोग के नजदीक पहुंच गए थे. इसमें उन्होंने उच्चायोग पर टमाटर और अंडे भी फेंके थे. इस विरोध प्रदर्शन में खिड़कियों के शीशे भी टूट गए थे. लंदन के मेयर सादिक खान ने इस घटना की कड़ी निंदा की थी. हालांकि इस बात पर भी सवाल उठे थे कि पुलिस उच्चायोग से कुछ दूरी पर प्रदर्शनकारियों पर लगाम लगाने में क्यों नाकाम रही.

यह भी पढ़ें-

पाकिस्तान के विरोध में हुई रैली के बाद PoK में इमरजेंसी लागू, हिरासत में लिए गए बड़े नेता

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 23, 2019, 8:45 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...