अपना शहर चुनें

States

धीमी शुरुआत के बाद भी वैक्सीन रेस में आगे भारत, 13 दिन में 30 लाख लोगों को लगे टीके

देश में बीती 16 जनवरी से वैक्सीन प्रोग्राम शुरू हो गया है.
देश में बीती 16 जनवरी से वैक्सीन प्रोग्राम शुरू हो गया है.

Vaccination in India: दूसरे देशों की तुलना में भारत में वैक्सीन प्रोग्राम काफी देरी से शुरू हुआ था. टेस्टिंग के अलावा बेहतर वैक्सीन रेट होने के बड़े कारण लाभार्थियों का सही मैनेजमेंट भी है. साथ ही लाभार्थी समय पर वैक्सीन लगवाने भी पहुंच रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 30, 2021, 10:44 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत में कोरोना वायरस (Corona Virus) के खिलाफ वैक्सीन प्रोग्राम पूरी रफ्तार से जारी है. हाल ही में स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) की तरफ से जारी किए गए डेटा में बताया गया है कि भारत ने महज 13 दिनों में 30 लाख लोगों को वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) लगा दी है. इसके अलावा भारत के नाम सबसे तेज 10 लाख और 20 लाख वैक्सीन लगाने का भी रिकॉर्ड है. गुरुवार को केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने प्रेस ब्रीफिंग के दौरान बताया था कि भारत में मरीजों की संख्या भी कम हो रही है.

देश में बीती 16 जनवरी से वैक्सीन प्रोग्राम शुरू हो गया है. वहीं, भारत ने भी तेजी दिखाते हुए 30 लाख टीके लगाने का आंकड़ा छू लिया है. खास बात है कि भारत को इस आंकड़े तक पहुंचने में 13 दिन का समय लगा. वहीं, अमेरिका ने 18, इजरायल ने 33 और ब्रिटेन ने 36 दिन में यह उपलब्धि हासिल की थी. वैक्सीन के मामले में भारत की तेज रफ्तार के पीछे रैपिड टेस्टिंग को काफी मददगार माना जा रहा है.

यह भी पढ़ें: सबसे तेज 10 लाख वैक्सीन लगाने वाला देश है भारत, अब तक 25 लाख लोगों को लगा टीका



हालांकि, दूसरे देशों की तुलना में भारत में वैक्सीन प्रोग्राम काफी देरी से शुरू हुआ था. टेस्टिंग के अलावा बेहतर वैक्सीन रेट होने के बड़े कारण लाभार्थियों का सही मैनेजमेंट भी है. साथ ही लाभार्थी समय पर वैक्सीन लगवाने भी पहुंच रहे हैं. कर्नाटक (2 लाख 86 हजार 89), महाराष्ट्र (2 लाख 20 हजार 587), राजस्थान (2 लाख 57 हजार 833), उत्तर प्रदेश (2 लाख 94 हजार 959) जैसे राज्यों में अब तक 2 लाख से ज्यादा लाभार्थियों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है.

वैक्सीन प्रोग्राम शुरू होने के बाद औसतन 2 लाख लाभार्थियों को रोज टीके लगाए जा रहे थे. वहीं, वैक्सीन साइट और सत्र बढ़ने के बाद औसतन आंकड़ा बढ़कर 5 लाख पर पहुंच गया है. इसके अलावा स्वास्थ्य मंत्रालय फरवरी के पहले हफ्ते से फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीन लगाने की तैयारी कर रहा है. इसके संबंध में अतिरिक्त सचिव मनोहर अगनानी ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को पत्र भेज दिए हैं. इस दौरान स्वास्थ्य कर्मियों के साथ-साथ फ्रंटलाइन वर्कर्स को भी टीके लगाए जाने की योजना है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज