चीन सीमा पर तैनात सैनिकों को भीषण ठंड के लिए मिले US से आए स्पेशल कपड़े

भारत ने सर्दियों के लिए अमेरिका से तीस हजार सेट कपड़े मंगवाए हैं. (सांकेतिक फोटो)
भारत ने सर्दियों के लिए अमेरिका से तीस हजार सेट कपड़े मंगवाए हैं. (सांकेतिक फोटो)

भारतीय सेना (Indian Army) भीषण ठंड के लिए अपने पास करीब 60 हजार सैनिकों के हिसाब से विशेष कपड़ों (Special Dresses) का स्टॉक रखती है. ये स्टॉक पश्चिमी और पूर्वी दोनों सीमा फ्रंट के लिए होता है. लेकिन इस साल तीस हजार और सेट की जरूरत थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 3, 2020, 9:38 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. चीन के साथ सीमा विवाद के बीच भारतीय सैनिकों (Indian Soldiers) के लिए अमेरिका से 'विशेष कपड़ों' (Special Dresses) की पहली खेप आ चुकी है. ये कपड़े भीषण ठंड (Extreme Cold) में भी भारतीय सैनिकों को सीमा पर बिना मुश्किल तैनात रहने में मदद करेंगे. गौरतलब है कि चीन से विवाद अभी सुलझता नहीं दिख रहा है और लद्दाख में भारतीय सैनिकों को लंबे समय तक रहना पड़ सकता है. ऐसे में भारत भी अपने सैनिकों को सीमा पर बनाए रखने के लिए समुचित व्यवस्था कर रहा है.

तीस हजार अतिरिक्त कपड़ों की थी जरूरत
समाचार एजेंसी एएनआई ने सरकारी सूत्रों के हवाले से खबर दी है-भीषण ठंड के लिए अमेरिका की तरफ से विशेष कपड़ों की पहली खेप भारत आ चुकी है और लद्दाखी सीमा पर भारतीय जवान इसका इस्तेमाल भी कर रहे हैं.

सूत्रों ने बताया है कि भारतीय सेना भीषण ठंड के लिए अपने पास करीब 60 हजार सैनिकों के हिसाब से विशेष कपड़ों का स्टॉक रखती है. ये स्टॉक पश्चिमी और पूर्वी दोनों सीमा फ्रंट के लिए होता है. लेकिन इस साल तीस हजार और सेट की जरूरत थी. चीनी आक्रामकता के मद्देनजर लद्दाख में सैनिकों की संख्या बढ़ाई गई है इसीलिए भारत को और ज्यादा ऐसी जर्सियों की जरूरत थी.




जल्द निकलता नहीं दिखाई दे रहा है हल
गौरतलब है कि भारत और चीन के बीच सीमा विवाद बीते मई महीने से ही चल रहा है. दोनों देशों के बीच विवाद जून महीने के मध्य में गलवान घाटी की घटना के बाद काफी ज्यादा गंभीर हो गया. भारत ने अपने बीस सैनिकों की शहादत पर बेहद सख्त प्रतिक्रिया दी.

भारत ने राष्ट्रीय सुरक्षा का हवाला देते हुए 200 से ज्यादी चीनी ऐप पर भी प्रतिबंध लगाया है. अगस्त महीने के आखिरी में भी दोनों सेनाओं के बीच झड़प हुई थी. भारत ने चीनी पक्ष को स्पष्ट कर दिया है कि सीमा पर अशांति के साथ दोनों देशों के बीच संबंध सामान्य नहीं रह सकते हैं. दोनों पक्षों में सैन्य और राजनयिक वार्ता के बावजूद जल्द हल निकलता नहीं दिखाई दे रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज