नेपाल के विवादित नक्शे पर भारत सख्त, कहा-ऐतिहासिक तथ्यों से दूर विधेयक मंजूर नहीं

नेपाल के विवादित नक्शे पर भारत सख्त, कहा-ऐतिहासिक तथ्यों से दूर विधेयक मंजूर नहीं
नेपाल के इस संशोधन को भारत ने कहा है कि सीमाओं में की गई ये बढ़ोतरी तर्कसंगत नहीं है. file photo: PTI

नेपाल (Nepal) ने संशोधित नक्शे में भारत की सीमा से लगे रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण लिपुलेख (Lipulekh), कालापानी (Kalapani) और लिंपियाधुरा (Limpiyadhura) इलाकों पर दावा किया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 13, 2020, 11:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. नेपाल (Nepal) की संसद ने शनिवार को देश के राजनीतिक नक्शे को संशोधित करने के लिये संविधान में बदलाव से जुड़े एक विधेयक पर सर्वसम्मति से अपनी मुहर लगा दी. संशोधित नक्शे में भारत की सीमा से लगे रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण लिपुलेख (Lipulekh), कालापानी (Kalapani) और लिंपियाधुरा (Limpiyadhura) इलाकों पर दावा किया गया है. नेपाल के इस संशोधन को भारत ने कहा है कि सीमाओं में की गई ये बढ़ोतरी तर्कसंगत नहीं है.

भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्त अनुराग श्रीवास्तव (India's Foreign Ministry Expert Anurag Srivastava) ने कहा कि "हमने ध्यान दिया है कि नेपाल के प्रतिनिधि सभा ने भारतीय क्षेत्र को शामिल करने के लिए नेपाल के नक्शे को बदलने के लिए एक संविधान संशोधन बिल पारित किया है. हमने इस मामले पर अपनी स्थिति पहले ही स्पष्ट कर दी है. दावों का यह कृत्रिम इज़ाफ़ा ऐतिहासिक तथ्य या सबूतों पर आधारित नहीं है और न ही इसका कोई मतलब है. यह बकाया सीमा के मुद्दों पर बातचीत करने के लिए हमारी मौजूदा समझ का भी उल्लंघन है. '

बता दें नेपाल के इस नए संविधान संशोधन में भारत तीन इलाकों को अपना बताया जा रहा है है.



संविधान की तीसरी अनुसूची को किया गया संशोधित
नेपाली कांग्रेस, राष्ट्रीय जनता पार्टी-नेपाल और राष्ट्रीय प्रजातंत्र पार्टी समेत प्रमुख विपक्षी दलों ने शनिवार को इसी नए विवादित नक्शे को शामिल करते हुए राष्ट्रीय प्रतीक को अद्यतन करने के लिये संविधान की तीसरी अनुसूची को संशोधित करने संबंधी सरकारी विधेयक के पक्ष में मतदान किया. देश के 275 सदस्यों वाले निचले सदन में विधेयक को पारित करने के लिये दो तिहाई बहुमत की आवश्यकता होती है.

संसद ने नौ जून को आम सहमति से इस विधेयक के प्रस्ताव पर विचार करने पर सहमति जताई थी जिससे नए नक्शे को मंजूर किये जाने का रास्ता साफ हुआ. विधेयक को नेशनल असेंबली में भेजा जाएगा, जहां उसे एक बार फिर इसी प्रक्रिया से होकर गुजरना होगा. सत्ताधारी नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के पास नेशनल असेंबली में दो तिहाई बहुमत है.

नेशनल असेंबली में पास हो गया तो राष्ट्रपति लगा देंगे मुहर
नेशनल असेंबली को विधेयक के प्रावधानों में संशोधन प्रस्ताव, अगर कोई हो तो, लाने के लिये सांसदों को 72 घंटे का वक्त देना होगा. नेशनल असेंबली से विधेयक के पारित होने के बाद इसे राष्ट्रपति की मंजूरी के लिए भेजा जाएगा, जिसके बाद इसे संविधान में शामिल किया जाएगा.

सरकार ने बुधवार को विशेषज्ञों की एक नौ सदस्यीय समिति बनाई थी जो इलाके से संबंधित ऐतिहासिक तथ्य और साक्ष्यों को जुटाएगी. कूटनीतिज्ञों और विशेषज्ञों ने सरकार के इस कदम पर सवाल उठाते हुए हालांकि कहा कि नक्शे को जब मंत्रिमंडल ने पहले ही मंजूर कर जारी कर दिया है तो फिर विशेषज्ञों के इस कार्यबल का गठन किस लिये किया गया?

भारत के सड़क उद्घाटन करने के बाद से बढ़ा तनाव
भारत और नेपाल के बीच रिश्तों में उस वक्त तनाव दिखा जब रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने आठ मई को उत्तराखंड में लिपुलेख दर्रे को धारचुला से जोड़ने वाली रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण 80 किलोमीटर लंबी सड़क का उद्घाटन किया. नेपाल ने इस सड़क के उद्घाटन पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए दावा किया कि यह सड़क नेपाली क्षेत्र से होकर गुजरती है. भारत ने नेपाल के दावों को खारिज करते हुए दोहराया कि यह सड़क पूरी तरह उसके भूभाग में स्थित है.

नेपाल ने पिछले महीने देश का संशोधित राजनीतिक और प्रशासनिक नक्शा जारी कर रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण इन इलाकों पर अपना दावा बताया था. भारत यह कहता रहा है कि यह तीन इलाके उसके हैं. काठमांडू द्वारा नया नक्शा जारी करने पर भारत ने नेपाल से कड़े शब्दों में कहा था कि वह क्षेत्रीय दावों को “कृत्रिम रूप से बढ़ा-चढ़ाकर” पेश करने का प्रयास न करे.

(भाषा के इनपुट सहित)

ये भी पढ़ें-
नेपाल की संसद में विवादित नक्शा पास, उमर अब्दुल्ला बोले- पड़ोसी ने चिढ़ाई नाक

इस विदेशी शहर में मिल रहा है सिर्फ 85 रुपए में घर, है पूरी तरह कोरोना-फ्री
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज