Mehul Choksi Case: मेहुल चोकसी को कभी भारतीय नागिरकता छोड़ने की अनुमति मिली ही नहीं- डोमिनिका की कोर्ट में भारत ने कहा

चोकसी ने भी 2 जून को अपने अपहरण को लेकर रिपोर्ट दर्ज कराई है. (AP)

Mehul Choksi Indian Citizenship: भगोड़ा कारोबारी मेहुल चोकसी इस समय डोमिनिका में है. वहां की एक जेल में बंद चोकसी पर आरोप है कि वह अवैध रूप से देश में घुसने की कोशिश कर रहा था.

  • Share this:
    नई दिल्ली. भारत ने डोमिनिका (India In Dominica) में हाईकोर्ट को जानकारी दी है कि मेहुल चोकसी (Mehul Choksi) पंजाब नेशनल बैंक में हजारों करोड़ के बैंक धोखाधड़ी में वॉन्टेड है. साल 2019 के मार्च में गृह मंत्रालय (MHA) ने चोकसी द्वारा भारत की नागरिकता छोड़ने के की मांग को खारिज कर दिया था और इस संबंध में आरोपी को भी जानकारी दे दी गई थी. जानकारी मिलने के बाद भी आरोपी ने इस फैसले को चुनौती नहीं दी.

    दरअसल, डोमिनिका की कोर्ट इस बात पर फैसला कर सकती है कि वह चोकसी को भारत भेजेगी या नहीं. ऐसे में चोकसी की नागरिकता पर कोर्ट में सुनवाई हो रही है. साल 2016 में चोकसी , एंटीगा और बारबुडा का नागरिक बन गया था. हालांकि अब यह कैरिबियाई राष्ट्र भी चोकसी की नागरिकता छीन सकता है. फिलहाल यह मामला अदालत में है.

    भारत ने हलफनामे में क्या कहा?
    चोकसी द्वारा भारतीय नागरिकता छोड़ने की प्रक्रिया में विभिन्न कानूनी कमियों का हवाला देते हुए, सरकार के हलफनामे में कहा गया है कि 'चोकसी ने कभी भी 'व्यक्तिगत रूप से' यह अनुरोध नहीं किया. चोकसी ने जॉर्ज टाउन, गुयाना में भारतीय उच्चायोग को एक अनुरोध भेजा. यह नागरिकता धिनियम 1955 के तहत नियमों के विपरीत है.  इसके साथ ही चोकसी ने निर्धारित प्रारूप में अपना अनुरोध नहीं भेजा.'

    हिन्दुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार हलफनामे में कहा गया है कि  भारत के नागरिकता अधिनियम की धारा 8 में कहा गया है कि गृह मंत्रालय द्वारा तय प्राधिकारी द्वारा उसकी घोषणा के बाद कोई महिला या पुरुष भारत का नागरिक नहीं रह जाता.'

    चोकसी ने क्या रास्ता अपनाया था?
    चोकसी ने 16 नवंबर, 2017 को एंटीगुआ और बारबुडा की नागरिकता हासिल करने के बाद अपनी भारतीय नागरिकता छोड़ने के लिए 14 दिसंबर, 2018 को जॉर्ज टाउन, गुयाना में भारतीय मिशन को एक आवेदन दिया.

    डोमिनिका की हाईकोर्ट में दायर हलफनामे में कहा गया है कि 'उनके आवेदन जमा किए जाने के बाद मामले की जांच की गई. 29 जनवरी, 2019 को, गृह मंत्रालय को अनुरोध में कई कमियां मिलीं. चोकसी एक आर्थिक अपराधी था ऐसे में जॉर्ज टाउन में भारतीय मिशन में कांसुलर अधिकारी को सलाह दी गई कि वह नागरिकता छोड़ने के अनुरोध को अस्वीकार करने पर विचार करें.' इस बारे में 15 मार्च 2019 को चोकसी को सूचना भेजी गई थी.

    23 मई को गायब हो गया था चोकसी
    बता दें 62 वर्षीय चोकसी के खिलाफ इंटरपोल ने रेड नोटिस जारी किया था. वह 23 मई को रहस्यमय परिस्थिति में एंटीगुआ और बारबुडा से गायब हो गया. भारत से भागने के बाद यहां वह बतौर नागरिक 2018 से रह रहा था. उसे अपनी कथित प्रेमिका के साथ पड़ोसी द्वीपीय देश डोमिनिका में अवैध रूप से घुसने के आरोप में हिरासत में लिया गया. चोकसी के वकीलों ने आरोप लगाया कि एंटीगुआई और भारतीय जैसे दिखने वाले पुलिसकर्मियों ने एंटीगुआ में जोली हार्बर से उसका अपहरण किया और नौका से डोमिनिका ले गये.



    गीतांजलि जेम्स और भारत में अन्य मशहूर हीरा आभूषण ब्रांडों का मालिक चोकसी पंजाब नेशनल बैंक में 13,500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी सामने आने से कुछ सप्ताह पहले ही देश से फरार हो गया था. मामले में चोकसी और उसके भांजे नीरव मोदी की कथित संलिप्तता का खुलासा हुआ था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.