भारत ने कहा- इमरान ने आतंकियों पर सच कबूला, कुलभूषण को जल्‍द मिलेगा राजनयिक संपर्क

भारत ने उम्मीद जताते हुए कहा है कि यह वक्त है कि इस्लामाबाद आतंकवादियों के खिलाफ भरोसेमंद और निरंतर कार्रवाई करे.

News18Hindi
Updated: July 25, 2019, 9:01 PM IST
भारत ने कहा- इमरान ने आतंकियों पर सच कबूला, कुलभूषण को जल्‍द मिलेगा राजनयिक संपर्क
भारत ने उम्मीद जताते हुए कहा है कि यह वक्त है कि इस्लामाबाद आतंकवादियों के खिलाफ भरोसेमंद और निरंतर कार्रवाई करे.
News18Hindi
Updated: July 25, 2019, 9:01 PM IST
पाकिस्तान में आतंकियों की मौजूदगी पर प्रधानमंत्री इमरान खान के बयान पर भारत ने प्रतिक्रिया देते हुए गुरूवार को कहा कि आखिरकार पाकिस्तान ने ये कबूल कर लिया है कि उसकी ज़मीन से आतंकवाद को बढ़ावा दिया जा रहा है. विदेश मंत्रालय ने इसे पाकिस्तान की 'स्पष्ट स्वीकारोक्ति' करार दिया है. भारत ने उम्मीद जताते हुए कहा है कि यह वक्त है कि इस्लामाबाद आतंकवादियों के खिलाफ भरोसेमंद और निरंतर कार्रवाई करे. उधर पाकिस्तान ने भी गुरुवार को कहा कि वह भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को राजनयिक संपर्क मुहैया कराने के लिए काम कर रहा है.

अमेरिका के तीन दिवसीय दौरे के दौरान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने स्वीकार किया कि पाकिस्तान में लगभग 30 से 40 हजार 'हथियारबंद लोग' हैं, जिन्हें अफगानिस्तान या कश्मीर के किसी हिस्से में प्रशिक्षण मिला है और जिन्होंने वहां लड़ाई लड़ी है. उन्होंने आरोप लगाया कि पिछली सरकारों ने देश में सक्रिय आतंकी समूहों के बारे में अमेरिका को सच नहीं बताया. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने संवाददाताओं से कहा- पाकिस्तानी नेतृत्व की यह स्पष्ट स्वीकारोक्ति है. उन्होंने कहा कि यह वक्त है कि पाकिस्तान विश्वसनीय और निरंतर कार्रवाई करे.

ट्रंप के बयान से आगे बढ़ने का वक़्त
कुमार ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के दावे को भी तवज्जो नहीं दी, जिसमें उन्होंने कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनसे कश्मीर मुद्दे पर मध्यस्थता करने को कहा है. कुमार ने कहा कि यह आगे बढ़ने का वक्त है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने दोहराया कि अमेरिका के साथ भारत का संबंध बहुत प्रगाढ़ बना हुआ है.



कुलभूषण को जल्द राजनयिक संपर्क
पाकिस्तानी विदेश विभाग के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने यहां अपनी साप्ताहिक मीडिया ब्रीफिंग के दौरान संवाददाताओं को बताया, 'हमनें (पूर्व में) कहा था कि राजनयिक संपर्क मुहैया कराया जाएगा और (अब) उसपर काम शुरू हो चुका है. फैसल ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कश्मीर मुद्दे के समाधान के लिए मध्यस्थता के प्रस्ताव का भी स्वागत किया. उन्होंने इस प्रस्ताव पर भारत की प्रतिक्रिया को लेकर 'हैरानी' जताई.
Loading...

फैसल ने कहा, 'हमारा रवैया बातचीत आधारित है, यह संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव पर आधारित है और यह ऐसा ही रहेगा.' भारत ने ट्रंप के प्रस्ताव को दृढ़ता से खारिज करते हुए कहा था कि उसका रुख स्थायी रूप से यह रहा है कि पाकिस्तान के साथ सभी लंबित मुद्दे द्विपक्षीय रूप से सुलझाए जाएं. करतारपुर गलियारे को लेकर अगली बैठक के बारे में पूछे जाने पर फैसल ने कहा कि पाकिस्तान बातचीत के लिये तैयार है और भारत की तरफ से तारीख दिये जाने का इंतजार कर रहा है. उन्होंने कहा कि अगली बैठक जल्द होगी. उन्होंने प्रधानंत्री इमरान खान के अमेरिका दौरे को 'बेहद सफल और उपयोगी' करार दिया.

ICJ के निर्देश के बाद PAK मजबूर

जाधव को पाकिस्तान में एक सैन्य अदालत द्वारा सुनाई गई मौत की सजा पर अंतरराष्ट्रीय न्यायालय द्वारा पाक को 'प्रभावी समीक्षा और पुनर्विचार' तथा उसे राजनयिक संपर्क मुहैया कराने के आदेश दिये जाने के बाद पाक की तरफ से यह कदम उठाया जा रहा है. भारतीय नौसेना के सेवानिवृत्त अधिकारी जाधव (49) को अप्रैल 2017 में बंद कमरे में हुई सुनवाई के बाद पाकिस्तानी सैन्य अदालत ने 'जासूसी और आतंकवाद' के आरोप में मौत की सजा सुनाई थी.

ये भी पढ़ें: धोनी की करीबी दोस्‍त जाना चाहती है पाक, इमरान से की अपील

जाधव के लिये राहत की बात यह है कि अंतरराष्ट्रीय न्यायालय की 16 सदस्यीय पीठ ने 17 जुलाई को 15-1 के बहुमत से उन्हें मृत्युदंड दिये जाने पर रोक लगा दी थी और पाया था कि पाकिस्तान ने जाधव की गिरफ्तारी के बाद उसे राजनयिक पहुंच मुहैया कराने के भारत के अधिकार का उल्लंघन किया है.

ये भी पढ़ें: पाक ने घुसपैठ की तो शव वापस लेने को रहे तैयार: बिपिन रावत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 25, 2019, 8:28 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...