• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • भारत में इंटरनेट पर मनमानी पाबंदी का शर्मनाक रिकॉर्ड, प्रधान न्यायाधीश संज्ञान लें : पूनावाला

भारत में इंटरनेट पर मनमानी पाबंदी का शर्मनाक रिकॉर्ड, प्रधान न्यायाधीश संज्ञान लें : पूनावाला

पूनावाला ने शुक्रवार को प्रधान न्यायाधीश को लिखे पत्र में कहा, ''आप इस बात से सहमत होंगे कि आज इंटरनेट हमारे जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है. मेडिकल रिकॉर्ड से लेकर दैनिक आजीविका तक के मामलों में इंटरनेट आजकल मानव जीवन में मजबूती से अंतर्निहित है.'' इसके बावजूद जब भी प्रदर्शन चल रहे होते हैं तो सरकार द्वारा इंटरनेट पर ''मनमानी पाबंदी'' लगा दी जाती है.

पूनावाला ने शुक्रवार को प्रधान न्यायाधीश को लिखे पत्र में कहा, ''आप इस बात से सहमत होंगे कि आज इंटरनेट हमारे जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है. मेडिकल रिकॉर्ड से लेकर दैनिक आजीविका तक के मामलों में इंटरनेट आजकल मानव जीवन में मजबूती से अंतर्निहित है.'' इसके बावजूद जब भी प्रदर्शन चल रहे होते हैं तो सरकार द्वारा इंटरनेट पर ''मनमानी पाबंदी'' लगा दी जाती है.

पूनावाला ने शुक्रवार को प्रधान न्यायाधीश को लिखे पत्र में कहा, ''आप इस बात से सहमत होंगे कि आज इंटरनेट हमारे जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है. मेडिकल रिकॉर्ड से लेकर दैनिक आजीविका तक के मामलों में इंटरनेट आजकल मानव जीवन में मजबूती से अंतर्निहित है.'' इसके बावजूद जब भी प्रदर्शन चल रहे होते हैं तो सरकार द्वारा इंटरनेट पर ''मनमानी पाबंदी'' लगा दी जाती है.

  • Share this:

    नई दिल्ली. राजनीतिक कार्यकर्ता तथा स्तंभ लेखक तहसीन पूनावाला ने भारत के प्रधान न्यायाधीश एसए बोबडे को पत्र लिखकर इस बात पर संज्ञान लेने का अनुरोध किया है कि जब भी प्रदर्शन चल रहे होते हैं तो सरकार द्वारा इंटरनेट पर ”मनमानी पाबंदी” लगा दी जाती है. पूनावाला ने कहा कि मौजूदा सरकार के कार्यकाल में ”दुनियाभर में लोकतांत्रिक देशों में सबसे अधिक बार इंटरनेट पर पाबंदी लगाए जाने का शर्मनाक रिकॉर्ड” भारत के नाम दर्ज हो गया है.

    उन्होंने लिखा, ”आदरणीय प्रधान न्यायाधीश, बेहद चिंता के साथ आपको पत्र लिखकर प्रदर्शनों के दौरान सरकार द्वारा इंटरनेट पर मनमानी पाबंदी लगाए जाने के मुद्दे पर संज्ञान लेने की गुहार लगा रहा हूं.” पूनावाला ने शुक्रवार को प्रधान न्यायाधीश को लिखे पत्र में कहा, ”आप इस बात से सहमत होंगे कि आज इंटरनेट हमारे जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है. मेडिकल रिकॉर्ड से लेकर दैनिक आजीविका तक के मामलों में इंटरनेट आजकल मानव जीवन में मजबूती से अंतर्निहित है.”

    ये भी पढ़ें :- 
    कृषि सुधार पर मनमोहन को वो बयान, जिसे पीएम मोदी ने विपक्ष पर हमले के लिए बनाया हथियार
    राज्‍यसभा में PM मोदी ने ली विपक्ष की चुटकी, नड्डा बोले- भ्रम जाल को तोड़ने वाला था भाषण

     उन्होंने कहा, ”मौजूदा सरकार और उसके समर्थक, असहमति जताने वाले अधिकतर लोगों पर हमलावर होते हुए उन्हें राष्ट्रविरोधी, आतकंवादी कह देते हैं और खुलकर बोलने नहीं देते जबकि वे खुद घृणास्पद और भड़काऊ भाषण देते रहते हैं.”

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज