अपना शहर चुनें

States

कोरोना के नए स्ट्रेन के चलते भारत ने ब्रिटेन की फ्लाइट्स पर 22-31 दिसंबर तक लगाई रोक

ब्रिटेन की सभी फ्लाइट्स पर 22 से 31 दिसंबर तक रोक रहेगी.  (Photo- Reuters)
ब्रिटेन की सभी फ्लाइट्स पर 22 से 31 दिसंबर तक रोक रहेगी. (Photo- Reuters)

मंत्रालय के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से किए गए ट्वीट में बताया गया कि- पूरे एहतियात के मद्देनजर जो यात्री ब्रिटेन से आ रहे हैं उन्हें संबंधित एयरपोर्ट पर ही आरटीपीसीआर टेस्ट कराना होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 21, 2020, 10:07 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. ब्रिटेन (Britain) में कोरोना वायरस (Coronavirus) के नए स्ट्रेन पाए जाने के बाद भारत (India) ने 22-31 दिसंबर तक ब्रिटेन (Britain) की फ्लाइट्स पर रोक लगा दी है. नागरिक उड्डयन मंत्रालय (Ministry of Civil Aviation) की ओर से सोमवार को इस बात की जानकारी दी गई. नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी (Civil Aviation Minister Hardeep Singh Puri) ने कहा कि हम अस्थायी तौर पर ब्रिटेन से आने और वहां जाने वाली सभी फ्लाइट्स पर प्रतिबंध लगा रहे हैं. सभी यात्री जो ब्रिटेन से भारत आ रहे हैं उन्हें आरटी- पीसीआर टेस्ट (RT-PCR Test) कराना और सात दिन के क्वारंटाइन में रहना अनिवार्य होगा. मंत्रालय के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से किए गए ट्वीट में बताया गया कि- पूरे एहतियात के मद्देनजर जो यात्री ब्रिटेन से आ रहे हैं उन्हें संबंधित एयरपोर्ट पर ही आरटीपीसीआर टेस्ट कराना होगा.

इससे पहले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन (Health Minister Dr Harshvardhan) ने ब्रिटेन में कोरोना वायरस के नए प्रकार (स्ट्रेन) के संक्रमण को लेकर चिंताओं के बीच सोमवार को कहा कि सरकार सतर्क है और घबराने की आवश्यकता नहीं है. केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने नये स्ट्रेन पर चर्चा करने के लिए सोमवार को अपने संयुक्त निगरानी समूह की एक बैठक बुलाई थी. हर्षवर्धन ने कोरोना वायरस के नए प्रकार के संक्रमण को लेकर चिंताओं और ब्रिटेन से आने वाली उड़ानों पर प्रतिबंध की मांग के संबंध में पूछे गए एक सवाल का जवाब देते हुए कहा, ‘‘मैं कहना चाहूंगा कि ये काल्पनिक स्थितियां हैं, ये काल्पनिक बातें है, ये काल्पनिक चिंताएं हैं... अपने आप को इससे दूर रखें.’’

ये भी पढ़ें- पाकिस्तान ने भारत की सीमा पर ड्रोन से गिराए 11 हैंड ग्रेनेड, फायरिंग कर सुरक्षाबलों ने खदेड़ा




बता दें कोरोना के नए स्ट्रेन के चलते जर्मनी, इटली, बेल्जियम, डेनमार्क, बुल्गारिया, आयरिश रिपब्लिक, तुर्की और कनाडा के ब्रिटेन से विमानों की आवाजाही पर रोक लगाने के बाद फ्रांस ने भी ब्रिटेन के लिये अपनी सीमाएं बंद करने का फैसला किया है. ब्रिटेन में श्रेणी-4 के सख्त लॉकडाउन को लागू किया गया है और सभी अनावश्यक यात्राओं व कार्यक्रमों पर प्रतिबंध है. जिन अन्य देशों और क्षेत्रों ने ब्रिटेन की यात्रा पर प्रतिबंध लगाया है उनमें हांगकांग, इजराइल, ईरान, क्रोएशिया, अर्जेंटीना, मोरक्को, चिली और कुवैत शामिल हैं.

स्थिति की समीक्षा के लिए बोरिस जॉनसन करेंगे बैठक
ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन सोमवार को सरकार की आपात समिति की एक बैठक की अध्यक्षता करेंगे जिसमें स्थिति की समीक्षा की जाएगी क्योंकि फ्रांस से लगने वाली सीमा पर गाड़ियों का जमावड़ा लग गया है. ट्रकों और अन्य मालवाहक वाहनों के प्रवेश को भी रोक दिया गया है.

ये भी पढ़ें- बंगाल: BJP को झटका, सांसद सौमित्र खान की पत्नी सुजाता मंडल TMC में शामिल

यूरोपीय संघ (ईयू) के सदस्य राष्ट्रों की एक बैठक भी ब्रसेल्स में होनी है, जिसमें ज्यादा समन्वित प्रतिक्रिया पर चर्चा की जाएगी क्योंकि ब्रिटेन में रविवार को कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 35,928 रही, वहीं कोरोना वायरस के नए स्वरूप का प्रसार तेजी से हो रहा है और 326 और मरीजों की मौत के साथ ही मरने वालों की संख्या बढ़कर 67,401 हो गई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज