मेहुल चोकसी को एंटीगुआ में घेरने की तैयारी, भारत सरकार ने की ट्रैवल बैन की मांग

एंटीगुआ सरकार से कहा गया है कि चौकसी की उनके क्षेत्र में मौजूदगी की पुष्टि की जाए और साथ ही उसे हिरासत में लिया जाए. उसे जमीन, वायु या समुद्री मार्ग से कहीं आने जाने नहीं दिया जाए.’

भाषा
Updated: July 30, 2018, 2:05 PM IST
मेहुल चोकसी को एंटीगुआ में घेरने की तैयारी, भारत सरकार ने की ट्रैवल बैन की मांग
पीएनबी फ्रॉड का प्रमुख आरोपी मेहुल चोकसी (फाइल फोटो)
भाषा
Updated: July 30, 2018, 2:05 PM IST
भारत ने एंटीगुआ और बरबूडा के प्रशासन से पीएनबी घोटाले के आरोपी मेहुल चोकसी को हिरासत में लेने को कहा है. सरकारी सूत्रों ने सोमवार को यह जानकारी दी. भारत को चोकसी के इस कैरिबियाई द्वीप समूह में मौजूद होने की सूचना मिली है. उसके बाद ही यह कदम उठाया गया है.

सूत्रों ने कहा कि भारत एंटीगुआ के संपर्क में है. वहां के अधिकारियो से थल, जल या वायु मार्ग से चोकसी की आवाजाही पर रोक लगाने का आग्रह किया गया है. एक सरकारी सूत्र ने कहा, 'जैसे ही विदेश मंत्रालय को चौकसी के एंटीगुआ में मौजूद होने के संकेत की सूचना मिली, हमारे जॉर्जटाउन के उच्चायोग ने एंटीगुआ और बरबूडा सरकार को लिखित और मौखिक रूप से अलर्ट किया है.'

यह भी पढ़ें: एंटीगुआ सरकार ने कहा- मेहुल चौकसी के 'कारनामें' जानते तो नहीं देते नागरिकता

वहां की सरकार से कहा गया है कि चोकसी की उनके क्षेत्र में मौजूदगी की पुष्टि की जाए और साथ ही उसे हिरासत में लिया जाए. उसे जमीन, वायु या समुद्री मार्ग से कहीं आने जाने नहीं दिया जाए.

पिछले हफ्ते चोकसी ने दावा किया था कि उसने अपने कारोबार के विस्तार के लिए पिछले साल एंटीगुआ की नागरिकता ली थी क्योंकि कैरिबियाई देश के पासपोर्ट से 132 देशों में बिना वीजा यात्रा की जा सकती है. सूत्रों ने कहा, 'हमारे उच्चायुक्त एंटीगुआ और बरबूडा सरकार में संबंधित अधिकारियों से मिल रहे हैं. हम भारत सरकार और एंटीगुआ और बरबूडा सरकार की संबंधित एजेंसियों के जरिये इस मामले को आगे बढ़ाएंगे.'

यह भी पढ़ें:  मुश्किल में मेहुल चौकसी, भारत भेजने पर विचार कर सकती है एंटीगुआ सरकार
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर