Home /News /nation /

भारत पर फिदायीन हमला करने की फिराक में 4 आतंकी संगठन, ये 5 शहर हैं निशाना

भारत पर फिदायीन हमला करने की फिराक में 4 आतंकी संगठन, ये 5 शहर हैं निशाना

भारत को दहलाने के लिए अब पाकिस्तान में बैठे आतंक के आकाओं ने नई रणनीति बनाई है। उन्होंने चार बड़े आतंकी संगठनों को फिदायीन हमले के लिए एक साथ काम करने को कहा है

अहमदाबाद। भारत को दहलाने के लिए अब पाकिस्तान में बैठे आतंक के आकाओं ने नई रणनीति बनाई है। उन्होंने चार बड़े आतंकी संगठनों को फिदायीन हमले के लिए एक साथ काम करने को कहा है यानि एक फिदायीन चौक बना लिया गया है। आईबीएन 7 के पास मौजूद एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक 5 बड़े शहरों में उन जगहों पर हमले की साजिश है जहां विदेशी टूरिस्ट ज्यादा आते हों।

आतंक की फिदायीन फैक्ट्री, भारत में आतंकी हमले करने के लिए ऐसी ही फिदायीन फैक्ट्री में वो आतंकी तैयार हो रहे हैं जिनका मकसद है हमले के दौरान ही अपनी जान देकर ज्यादा से ज्यादा नुकसान करना। संसद हमले से लेकर मुंबई हमले तक, और इस साल की शुरुआत में पठानकोट एयरबेस पर हुए हमले में भी फिदायीन फैक्ट्री से निकले आतंकियों का इस्तेमाल किया गया। इन आतंकियों के हर हमले ने भारत को बड़ा झटका दिया क्योंकि आतंकी हमले के बाद भागने के लिए नहीं, बल्कि वहीं मर जाने के लिए आए थे।

अब इस फिदायीन फैक्ट्री को एक बार फिर हुकम दिया गया है भारत को थर्राने का। लेकिन ये फरमान पिछली बार से कुछ अलग है और ज्यादा खतरनाक है। IBN7 को मिली जानकारी के मुताबिक, इस बार एक नहीं बल्कि चार आतंकी संगठन मिलकर फिदायीन हमला करने की फिराक में हैं। इसमें बढ़ी भूमिका बांग्लादेश का आतंकी संगठन हिज्ब-उत-तहरीर निभा रहा है। हिज्ब-उत-तहरीर का साथ जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैय्यबा और इंडियन मुजाहिदीन दे रहे हैं। इन चारों आतंकी संगठनों के निशाने पर देश के पांच राज्य हैं।

पिछले कई सालों में इन आतंकी संगठनों ने देश में ज्यादातर अलग-अलग काम करते हुए ही बड़े हमले किए हैं। लेकिन इन चारों का एक साथ आना खुफिया विभाग के लिए चिंता की बात बन गया है। चार आतंकी संगठनों के एक साथ आने का मतलब है कि आतंकी संगठनों ने हमले की जगह की रेकी, विस्फोटक और हथियार पहुंचाने की जिम्मेदारी आपस में बांट ली है। लेकिन राहत की बात ये कि चारों आतंकी संगठनों की साजिश का पूरा ब्लू प्रिंट खुफिया एजेंसियों के हाथ लग गया है। चार आतंकी संगठनों के रडार पर जो ठिकाने हैं उन्हें अलर्ट करने के बाद खुफिया एजेंसियों ने साजिश को नाकाम करने की कोशिश भी शुरू कर दी है।

IBN7 के पास एक्सक्लूसिव जानकारी है कि ये कौन सी जगहें हैं, और किस तरह के हमले की तैयारी है। तमाम राज्यों को भेजा अलर्ट भी IBN7 के पास है लेकिन एक जिम्मेदार चैनल होने के नाते इस मिशन की बारीकियां हम आपको नहीं दिखा रहे। लेकिन ध्यान से वो जगहें बता रहे हैं जो फिदायीन हमले के निशाने पर हैं। IBN7 का मकसद खौफ बढ़ाना नहीं है। IBN7 आपको उन जगहों के नाम इसलिए दिखाने जा रहे हैं ताकि आप सतर्क रहे। मकसद ये भी है कि खुफिया एजेंसियों के पुख्ता अलर्ट के बाद इन जगहों के सुरक्षा इंतजाम पर खास ध्यान दिया जाए।

फिदायीन हमले का पहला निशाना बेंगलुरू का IT सेंटर: फिदायीन हमले की साजिश में सबसे पहला नाम बेंगलुरू का है। इस शहर को भारत की सिलिकॉन वैली कहा जाता है। आईटी के क्षेत्र में काम करने वाली हजारों कंपनियां यहां मौजूद हैं। देश की अर्थव्यवस्था में भी इस शहर का बड़ा योगदान है। दुनिया को अगर सबसे ज्यादा सॉफ्टवेयर का निर्यात कोई शहर करता है तो वो बेंगलुरू ही है। खुफिया एजेंसियों के मुताबिक, बेंगलुरू की बड़ी आईटी कंपनियों पर फिदायीन हमला करके आतंकी देश ही नहीं यहां काम करने वाले विदेशी नागरिकों को भी निशाना बनाना चाहते हैं। उनका मकसद है कि फिदायीन हमले की गूंज भारत से निकल दूसरे देशों तक गूंजे, ठीक वैसे ही जैसे मुंबई हमले के वक्त गूंजी थी।

फिदायीन हमले का दूसरा निशाना अहमदाबाद का VHP दफ्तर: फिदायीन हमले की साजिश में दूसरा नाम अहमदाबाद में विश्व हिंदू परिषद का दफ्तर है। खुफिया एजेंसियों के मुताबिक, अहमदाबाद का ये वीएचपी ऑफिस आतंकी हमले का शिकार हो सकता है। आपको बता दें कि कुछ महीने पहले ही गुजरात एटीएस ने राज्य के हिंदू नेताओं को मारने की साजिश का पर्दाफाश किया था। सूरत में फायरिंग करके हुए दो बीजेपी नेताओं की हत्या के तार दाऊद के गुर्गे जावेद चिकना और पाकिस्तान से जुड़े थे। सूत्रों की मानें तो इस केस में सात आतंकियों की गिरफ्तारी के बाद अब आतंकी संगठनों ने रणनीति बदली है और अब वो फायरिंग के बजाय सीधे फिदायीन हमले पर जोर दे रहे हैं।

फिदायीन हमले का तीसरा निशाना दिल्ली का अमेरिकन सेंटर: खुफिया विभाग ने फिदायीन हमले के लिए दिल्ली पुलिस को भी सतर्क किया है। निशाने पर है अमेरिकन सेंटर। दरअसल इस जगह को फिदायीन हमले की लिस्ट में इसलिए रखा गया है कि ताकि हमले की धमक अमेरिका तक जाए। ये जगह अमेरिकी राजनयिकों से भरी रहती है और आप अंदाजा लगा सकते हैं कि अगर इस वीवीआईपी सेंटर पर हमला होता है तो उसका क्या असर होगा। आपको बता दें कि इससे पहले आतंकी 2002 में कोलकाता के अमेरिकन सेंटर पर हमला कर चुके हैं। तब जांच में हमले के पीछे सिमी का नाम सामने आया था। अब नई साजिश में अमेरिकन सेंटर पर हमले के लिए इंडियन मुजाहिदीन को जोड़ा गया है।

फिदायीन हमले का चौथा निशाना जयपुर का मशहूर म्यूजियम: खुफिया एजेंसियों के मुताबिक जयपुर भी फिदायीन हमलावरों के रडार पर है। हमले के लिए जयपुर को इसलिए चुना गया गया है क्योंकि यहां भी बड़ी तादाद में विदेशी टूरिस्ट आते हैं। खासतौर पर जयपुर के अलबर्ट हॉल म्यूजियम में रखी ऐतिहासिक चीजों को देखने के लिए देश-विदेश से पर्यटक जुटते हैं। आतंकियों का मकसद इन सभी को निशाना बनाने का है।

फिदायीन हमले का पांचवा निशाना कोलकाता का न्यू हाथी ब्रिज, दक्षिणेश्वर मंदिर: कोलकाता का दक्षिणेश्वर काली मंदिर मां काली के सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक है। लेकिन अब ये मंदिर आतंकियों के रडार पर है। पिछले साल मई में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी दक्षिणेश्वर मंदिर में जाकर मां काली के दर्शन किए थे। माना जाता है कि रामकृष्ण परमहंस को यहीं पर मां काली के दर्शन हुए थे। अब इस प्राचीन और भव्य मंदिर को निशाना बनाकर आतंकी करोड़ों लोगों की भावनाओं को चोट पहुंचाना चाहते हैं।

इन पांच जगहों के अलावा खुफिया अलर्ट में गुवाहाटी का भी नाम लिया गया है। लेकिन गुवाहाटी की कौन सी जगह या कौन का इलाका फिदायीन हमले की जद में आ सकता है इस बारे में ठोस जानकारी नहीं दी गई है। अलर्ट में महाराष्ट्र में भी फिदायीन हमला होने की आशंका जताई गई है। ऐसे में प्रशासन राज्य के संवेदनशील ठिकानों पर चौकसी बढ़ा रहा है। खासतौर पर वो जगहें जहां पहले भी इंडियन मुजाहिदीन हमला कर चुका है।

इस अलर्ट की गंभीरता का अंदाजा आप इससे भी लगा सकते हैं कि सभी अफसरों को अपने खुफिया नेटवर्क को तुरंत चाक-चौबंद करने के लिए कहा गया है। ये भी ताकीद की गई है कि ज्यादा भीड़ वाले इलाकों पर खास न्रुार रखी जाए। सोशल मीडिया पर क्या चल रहा है, इसे भी लगातार मॉनीटर करने को कहा गया है।

Tags: Bangladesh, India, Pakistan

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर