अगले 10 साल में चांद पर बेस बना लेगा भारत, धरती पर लाएगा हीलियम-3: DRDO के पूर्व वैज्ञानिक

ब्रह्मोस (BrahMos) मिसाइल कार्यक्रम का नेतृत्व करने वाले वैज्ञानिक शिवतनु पिल्लई (Sivathanu Pillai) ने कहा कि हीलियम-3 भविष्य की ऊर्जा का नया स्रोत है. हीलियम-3 एक गैर रेडियोसक्रिय पदार्थ है, जो यूरेनियम की तुलना में 100 गुना अधिक ऊर्जा पैदा कर सकता है.

भाषा
Updated: September 9, 2019, 7:59 AM IST
अगले 10 साल में चांद पर बेस बना लेगा भारत, धरती पर लाएगा हीलियम-3:  DRDO के पूर्व वैज्ञानिक
भारत (India) हीलियम-3 प्राप्त करने के लिए 10 साल में चांद (Moon) की सतह पर एक बेस (Base) स्थापित करने में सक्षम हो जाएगा.
भाषा
Updated: September 9, 2019, 7:59 AM IST
नई दिल्ली. डीआरडीओ (DRDO) के पूर्व वैज्ञानिक और ब्रह्मोस मिसाइल कार्यक्रम का नेतृत्व करने वाले ए शिवतनु पिल्लई ने दावा किया है कि भारत (India) हीलियम-3 प्राप्त करने के लिए 10 साल में चांद (Moon) की सतह पर एक बेस (Base) स्थापित करने में सक्षम हो जाएगा. पिल्लई ने कहा कि हीलियम-3 भविष्य की ऊर्जा का नया स्रोत है. हीलियम-3 एक गैर रेडियोसक्रिय पदार्थ है जो यूरेनियम की तुलना में 100 गुना अधिक ऊर्जा पैदा कर सकता है.

शिवतनु पिल्लई.


डीडी न्यूज पर 'वार एंड पीस' कार्यक्रम में पिल्लई ने कहा, "अंतरिक्ष कार्यक्रम में, हम उन चार देशों में शामिल हैं जिन्होंने प्रौद्योगिकी को लेकर महारत हासिल की है." कार्यक्रम की एक विज्ञप्ति में कहा गया है, "भारत बहुमूल्य कच्चे माल (हीलियम-3 के) के प्रचुर भंडार का प्रोसेस करने के लिए चंद्रमा पर एक फैक्टरी स्थापित करने और उससे प्राप्त किये गये हीलियम-3 को पृथ्वी पर लाने में सक्षम हो जाएगा."

चांद पर अंतरिक्षयात्री की एक सांकेतिक तस्वीर.


पिल्लई ने कहा कि चंद्रमा पर भारत का बेस सौरमंडल में अन्य ग्रहों पर अभियानों के लिए भविष्य के प्रक्षेपणों का एक केंद्र बन जाएगा.

यह भी पढ़े:  ISRO चीफ सिवन का दावा- असफल नहीं हुआ चंद्रयान-2, अगले 14 दिनों तक कोशिश जारी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 9, 2019, 7:37 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...