भारत को करीब 25 करोड़ वैक्सीन रियायती दामों पर देंगे, मिलेगी आर्थिक मदद भी: गावी

भारत को अंतरराष्ट्रीय संगठन करेगा मदद. (फाइल फोटो)

भारत को अंतरराष्ट्रीय संगठन करेगा मदद. (फाइल फोटो)

GAVI के प्रवक्ता ने कहा है कि भारत को 19 से 25 करोड़ कोरोना वैक्सीन डोज (Covid Vaccine Dose) मुहैया कराने के लिए संगठन प्रतिबद्ध है. अंतरराष्ट्रीय संगठन ने कहा है कि वैक्सीन के लिए तकनीकी मदद और कोल्ड चेन की व्यवस्था के लिए भी भारत को 30 मिलियन अमेरिकी डॉलर यानी करीब 220 करोड़ रुपए दिए जाएंगे.

  • Share this:

नई दिल्ली. वैक्सीन (Vaccine) से संबंधित ग्लोबल अलायंस GAVI ने कहा है कि भारत को 19 करोड़ से 25 करोड़ तक कोरोना वैक्सीन डोज रियायती दरों पर मुहैया कराए जाएंगे. साथ ही अंतरराष्ट्रीय संगठन ने कहा है कि वैक्सीन के लिए तकनीकी मदद और कोल्ड चेन की व्यवस्था के लिए भी भारत को 30 मिलियन अमेरिकी डॉलर यानी करीब 220 करोड़ रुपए भी दिए जाएंगे. गावी के प्रवक्ता ने बताया है कि यह निर्णय बीते साल दिसंबर महीने में ही COVAX बोर्ड की बैठक में ले लिया गया था.

गावी कम और मध्यम आय वाले देशों को वैक्सीन मुहैया कराने के लिए पब्लिक-प्राइवेट ग्लोबल हेल्थ पार्टनरशिप है. यह तय करता है कि दुनियाभर में वैक्सीन कार्यक्रम अमीर देशों के अलावा गरीब और मध्यम आय वाले देशों तक भी पहुंचे. संगठन के प्रवक्ता ने कहा है कि वर्तमान कोरोना संकट में हम भारत की मदद के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं. गावी ने यह भी स्वीकार किया है कि भारत में मौजूदा कोरोना संकट की वजह से दुनियाभर में वैक्सीन आपूर्ति पर बड़ा असर पड़ा है क्योंकि भारत खुद वैक्सीन निर्माण का बड़ा केंद्र है.

Youtube Video

अब तक कोविशील्ड और कोवैक्सीन के जरिए ही हो रहा है वैक्सीनेशन
बता दें भारत में 16 जनवरी से शुरू हुए कोरोना वैक्सीनेशन कार्यक्रम में अब तक मुख्य रूप से सीरम इंस्टिट्यूट की कोविशील्ड और भारत-बायोटेक की कोवैक्सीन का प्रयोग ही होता रहा है. इनमें भी कोविशील्ड की आपूर्ति ज्यादा रही है. सीरम इंस्टिट्यूट दुनिया में सबसे बड़ी वैक्सीन उत्पादक कंपनी है. अप्रैल महीने में जब कोरोना की दूसरी लहर ने देश को चपेट में लिया तो मांग की गई कि 18 वर्ष से ऊपर सभी लोगों को वैक्सीनेशन के दायरे में लाया जाए. केंद्र सरकार ने इस पर फैसला लेते हुए 1 मई से इसकी शुरुआत भी कर दी है. 18-44 आयु वर्ग के भी जुड़ जाने के बाद अब देश में वैक्सीन की मांग और आपूर्ति में बड़ा अंतर आ गया है.

हालांकि भारत में अब रूसी वैक्सीन स्पूतनिक-V को इमरजेंसी यूज की अनुमति दी जा चुकी है. रूस से पहली खेप भारत आई भी है हालांकि इसकी संख्या अब महज डेढ़ लाख के आस-पास ही है. लेकिन जल्द ही इसे बढ़ाया जाएगा. अब गावी की तरफ से भारत को बड़ी आशा दी गई है. संभव है जल्द ही वैक्सीन की किल्लत खत्म हो सकती है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज