लाइव टीवी

ट्रंप की भारत यात्रा से पहले फरवरी में अमेरिका की ओर से मिल सकता है यह तोहफा

भाषा
Updated: January 29, 2020, 8:37 PM IST
ट्रंप की भारत यात्रा से पहले फरवरी में अमेरिका की ओर से मिल सकता है यह तोहफा
भारत और अमेरिका दोनों व्यापार वार्ता के लिए बातचीत कर रहे हैं (फाइल फोटो)

आने वाले महीनों में अमेरिका (America) के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (President Donald Trump) की भारत यात्रा के दौरान इस व्यापार समझौते (Trade Deal) की घोषणा की जा सकती है.

  • Share this:
नई दिल्ली. अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि (US Trade Representative) रॉबर्ट लाइटहाइजर अगले महीने भारत की यात्रा पर आ सकते हैं. समझा जाता है कि उनकी इस यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच प्रस्तावित व्यापार समझौते (Proposed trade agreement) को लेकर वार्ता को अंतिम रूप दिया जा सकता है.

एक अधिकारी ने बुधवार को यह जानकारी देते हुए कहा कि आने वाले महीनों में अमेरिका (America) के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (President Donald Trump) की भारत यात्रा के दौरान इस व्यापार समझौते (Trade Deal) की घोषणा की जा सकती है.

ट्रंप की भारत यात्रा के दौरान की जा सकती है व्यापार समझौते की घोषणा
अधिकारी ने बताया कि अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि (USTR) अपने टीम के साथ फरवरी के दूसरे सप्ताह में भारत आ सकते हैं. लाइटहाइजर वाणिज्य मंत्रालय के अधिकारियों के साथ विचार विमर्श करेंगे.

यूएसटीआर की भारत यात्रा इस दृष्टि से महत्वपूर्ण है कि भारतीय और अमेरिकी अधिकारी ट्रंप की संभावित भारत यात्रा (Expected India Trip) की तारीखों को तय करने के लिए बातचीत कर रहे हैं. अधिकारी ने कहा कि यदि व्यापार करार पर चीजें तय हो जाती हैं तो ट्रंप की भारत यात्रा के दौरान इसकी घोषणा की जा सकती है.

भारत चाहता है इस्पात और एल्युमीनियम पर ऊंचा शुल्क वापस ले अमेरिका
दोनों देश व्यापार वार्ता (Trade Talks) के लिए बातचीत कर रहे हैं और आपसी व्यापार को बढ़ाने के लिए विभिन्न मुद्दों को सुलझाने का प्रयास कर रहे हैं.भारत चाहता है कि अमेरिका ने कुछ इस्पात और एल्युमीनियम उत्पादों (Aluminum products) पर जो ऊंचा शुल्क लगाया है उसे वापस लिया जाए. इसके अलावा वह चाहता है कि कुछ घरेलू उत्पादों को प्राथमिकता की सामान्यीकृत प्रणाली (GSP) के तहत निर्यात लाभ फिर शुरू किए जाएं. साथ ही भारत अपने कृषि, वाहन, वाहन कलपुर्जा और इंजीनियरिंग क्षेत्र के लिए अमेरिकी बाजार में अधिक पहुंच चाहता है.

अमेरिकी कई ICT उत्पादों पर आयात शुल्क में चाहता है कमी
वहीं दूसरी ओर अमेरिका अपने कृषि और विनिर्मित उत्पादों, डेयरी के सामान, चिकित्सा उपकरणों के लिए भारत में अधिक पहुंच चाहता है. इसके अलावा अमेरिका कुछ आईसीटी उत्पादों (ICT Products) पर आयात शुल्क में कमी भी चाहता है.

भारत, अमेरिका के बीच 2018- 19 में भारत का निर्यात 52.4 अरब डॉलर रहा जबकि अमेरिका से आयात 35.5 अरब डॉलर का रहा. इस दौरान दोनों के बीच व्यापार घाटा (Trade Deficit) एक साल पहले के 21.3 अरब डॉलर से कम होकर 2018- 19 में 16.9 अरब डॉलर रह गया.

वहीं भारत में अमेरिका से 2018- 19 में 3.13 अरब डॉलर का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) आया जो कि इससे पिछले साल की तुलना में एक अरब डॉलर से भी अधिक रहा.

यह भी पढ़ें: ...तो क्या बैंकों को मुद्रा लोन बांटने से लग रह रहा हैं डर?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 29, 2020, 8:37 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर