अपना शहर चुनें

States

सऊदी अरब, UAE, बहरीन, मिस्र के साथ कतर के संबंध बहाल होने का भारत ने किया स्वागत

प्रवक्ता ने अपने बयान में कहा,‘‘भारत के जीसीसी के सभी देशों के साथ शानदार संबंध हैं और यह हमारा विस्तारित पड़ोस है.’’ (तस्वीर-ani)
प्रवक्ता ने अपने बयान में कहा,‘‘भारत के जीसीसी के सभी देशों के साथ शानदार संबंध हैं और यह हमारा विस्तारित पड़ोस है.’’ (तस्वीर-ani)

Gulf Cooperation Council: सऊदी अरब ने कतर के साथ वर्षों से चले आ रहे कूटनीतिक संकट को खत्म करने की घोषणा की, जिसके बाद मंगलवार को कतर के अमीर सऊदी अरब पहुंचे थे.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारत (India) ने खाड़ी सहयोग परिषद (Gulf Cooperation Council) की बैठक में सऊदी अरब (United Nations), संयुक्त अरब अमीरात (United Arab Emirates), बहरीन (Baharain), मिस्र (Egypt) के साथ कतर (Qatar) के संबंध बहाल होने की खबरों का स्वागत करते हुए बुधवार को उम्मीद जतायी कि ऐसे उत्साहजनक घटनाक्रमों से क्षेत्र में शांति, प्रगति और स्थिरता को और बढ़ावा मिलेगा.विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा, ‘‘हम सऊदी अरब के अल-उला में हाल ही में सम्पन्न खाड़ी सहयोग परिषद (जीसीसी) की शिखर बैठक के सकारात्मक घटनाक्रमों से प्रसन्न हैं. हम क्षेत्र के देशों के बीच मेलमिलाप का स्वागत करते हैं.’’

इस बारे में मीडिया के सवालों पर प्रवक्ता ने अपने बयान में कहा,‘‘भारत के जीसीसी के सभी देशों के साथ शानदार संबंध हैं और यह हमारा विस्तारित पड़ोस है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम उम्मीद करते हैं कि ऐसे उत्साहजनक घटनाक्रमों से क्षेत्र में शांति, प्रगति और स्थिरता को और बढ़ावा मिलेगा.’’ श्रीवास्तव ने कहा कि खाड़ी सहयोग परिषद (जीसीसी) के देशों के साथ अपने द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत बनाने के लिये भारत काम करना जारी रखेगा.

ये भी पढ़ें- तमिलनाडुः100% दर्शकों के साथ शुरू होंगे सिनेमाघर,केंद्र ने कहा-आदेश वापस लें



उन्होंने कहा, ‘‘हम जीसीसी के साथ अपने संस्थागत संवाद और भागीदारी को बेहतर बनाने को लेकर आशान्वित हैं.’’
सऊदी अरब ने की है कतर के साथ कूटनीतिक संबंध खत्म करने की घोषणा
गौरतलब है कि सऊदी अरब ने कतर के साथ वर्षों से चले आ रहे कूटनीतिक संकट को खत्म करने की घोषणा की, जिसके बाद मंगलवार को कतर के अमीर सऊदी अरब पहुंचे थे. कतर के अमीर अरब देशों के नेताओं के वार्षिक सम्मेलन में भाग लेने के लिए मंगलवार को अल उला पहुंचे थे ताकि कतर और चार अरब देशों के बीच संबंधों में सुधार हो सके.

ये भी पढ़ें- तमिलनाडु के इस जिले में 1 दिन में हुई इतनी बारिश कि टूट गया 100 साल का रिकॉर्ड

सऊदी अरब, मिस्र, संयुक्त अरब अमीरात और बहरीन ने कतर पर इस्लामिक कट्टरपंथी समूहों को समर्थन देने का आरोप लगाते हुए उस पर प्रतिबंध लगा दिए थे, जिसके चलते इस छोटे से लेकिन प्रभावशाली खाड़ी देश की एकमात्र जमीनी सीमा 2017 के मध्य से अधिकतर समय बंद ही रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज