भारत अमेरिका से 10 नये P8i टोही विमान खरीदेगा, समुद्री निगरानी होगी पैनी

News18Hindi
Updated: September 5, 2019, 9:38 PM IST
भारत अमेरिका से 10 नये P8i टोही विमान खरीदेगा, समुद्री निगरानी होगी पैनी
हिंद महासागर में चीन की हरकतों पर नजर रखने के लिए भारत अमेरिका के साथ पी8 समुद्री सर्वेक्षण विमान खरीदने की योजना बना रहा है.

भारत अमेरिका से पी8 समुद्री सर्वेक्षण विमान (p8i maritime patrol aircraft) खरीदने की योजना बना रहा है. इससे समुद्री क्षेत्र में भारतीय नौसेना (Indian Navy) की क्षमता बढ़ेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 5, 2019, 9:38 PM IST
  • Share this:
हिंद महासागर में चीन (China) की हरकतों पर नजर रखने के लिए भारत अमेरिका से पी8 समुद्री टोही विमान (p8i maritime patrol aircraft) खरीदने की योजना बना रहा है. इससे समुद्री क्षेत्र में भारतीय नौसेना (Indian Navy) की क्षमता बढ़ेगी. चीन की हरकतों पर और अच्‍छे से नजर रखी जा सकेगी. इसके साथ ही पाकिस्‍तान (Pakistan) की हरकतों पर भी और अच्‍छे से निगरानी की जा सकेगी.

इकोनॉमिक टाइम्‍स की रिपोर्ट के अनुसार, अगले सप्‍ताह होने वाली कैबिनेट बैठक में इस प्रस्‍ताव को रखा जा सकता है. बैठक में इसे मंजूरी भी मिल सकती है. विदेशी सैन्‍य बिक्री के तहत पी8आई समुद्री सर्वेक्षण विमान की खरीदारी की जा सकती है. इस सौदे की कीमत सवा दो लाख करोड़ रुपये (3.1 मिलियन डॉलर) बताई जा रही है.

भारतीय नौसेना अभी 12 बोइंग पी8आई समुद्री गश्‍ती विमान से समुद्र की निगरानी कर रही है. हालांकि बढ़ते समुद्री खतरे को देखते हुए और विमानों की तैनाती की जरूरत है. अगर भारत और अमेरिका के बीच ये सौदा होता है, तो इसमें 30 फीसदी ऑफसेट क्‍लॉज अनिवार्य होगा. इसका मतलब निर्माण कार्य का 30 फीसदी कार्य भारतीय कंपनियां करेंगी. अगर सौदे के तहत 10 पी8आई समुद्री गश्‍ती विमान नौसेना बेड़े में शामिल हो जाएंगे तो भारत के पास पी8 आई विमानों की कुछ क्षमता 22 हो जाएगी.

रक्षा मंत्री ने इन एडवांस उपकरणों की खरीद को दी थी मंजूरी

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता वाली रक्षा खरीद परिषद ने अभी पिछले महीने भारतीय नौसेना के लिए स्वदेश निर्मित ‘सॉफ्टवेयर डिफाइंड रेडियो (SDR टैक्टिकल)’ और ‘नेक्स्ट जनरेशन मैरीटाइम मोबाइल कोस्टल बैटरीज’ (लॉन्ग रेंज) की खरीद को मंजूरी दी थी. इस संबंध में एक अधिकारी ने बताया कि डीएसी ने रक्षा खरीद प्रक्रिया 2016 में संशोधनों को भी मंजूरी दे दी जिससे डिफेंस के लिए उपकरणों की खरीद में आसानी हो सके.

एसडीआर एक जटिल और अत्याधुनिक संचार प्रणाली है जिसे भारतीय अनुसंधान विकास संगठन (डीआरडीओ), भारत इलेक्टॉनिक्स लिमिटेड और वेपन्स इलेक्ट्रॉनिक्स सिस्टम इंजीनियरंग इस्टैब्लिश्मेन्ट ने तैयार किया है. इस तकनीक से भारतीय नौसेना की आंतरिक संचार प्रणाली को काफी फायदा होने की उम्मीद है.

ये भी पढ़ें: समुद्र से गुजरात में हमला कर सकते हैं पाकिस्तानी 'कमांडो'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 5, 2019, 8:28 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...