अपना शहर चुनें

States

चीन-पाक के JF-17 और तेजस में कौन है बेहतर, वायुसेना चीफ ने दिया जवाब

ये अत्‍याधुनिक तेजस विमान पहले से इस्‍तेमाल हो रहे तेजस विमानों से काफी अलग हैं.
ये अत्‍याधुनिक तेजस विमान पहले से इस्‍तेमाल हो रहे तेजस विमानों से काफी अलग हैं.

तेजस लड़ाकू विमानों की खरीद की मंजूरी मिलने के बाद वायुसेना के प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने कहा, 'यह भारतीय वायु सेना की क्षमता निर्माण के लिए एक बहुत बड़ा कदम है. यह हमारे स्वदेशी उद्योग के लिए एक बड़ा बढ़ावा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 14, 2021, 11:43 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सीमा पर चीन और पाकिस्तान से बढ़ते हवाई खतरे (India China border tension) के बीच राफेल के बाद भारतीय वायुसेना (Indian Air force) की मारक क्षमता बढ़ाने की दिशा में बड़ा कदम उठाते हुए सरकार ने देश में ही बने 83 तेजस लड़ाकू विमानों की खरीद को मंजूरी दे दी है. ऐसा कहा जा रहा है कि रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भरता की दिशा में तेजस की खरीद का यह फैसला मील का पत्थर साबित हो सकता है.इतना ही नहीं तेजस चीन और पाकिस्तान के जेएफ-17 लडाकू विमानों के मुकाबले कहीं ज्यादा बेहतर है. वायुसेना चीफ आरकेएस भदौरिया ने कहा, इन तेजस को कहीं ज्यादा बेहतर बनाया गया है. ये विमान बालाकोट जैसी एयरस्ट्राइक के वक्त ज्यादा मारक साबित होंगे.

तेजस लड़ाकू विमानों की खरीद की मंजूरी मिलने के बाद वायुसेना के प्रमुख आरकेएस भदौरिया (IAF Chief RKS Bhadauria) ने कहा, 'यह भारतीय वायु सेना की क्षमता निर्माण के लिए एक बहुत बड़ा कदम है. यह हमारे स्वदेशी उद्योग के लिए एक बड़ा बढ़ावा है. यह हमारे डिजाइनरों की एक बड़ी पहचान भी है. यह भारतीय वायु सेना और देश के लिए एक बड़ा कदम है.' वायुसेना प्रमुख ने आगे कहा कि वह 83 विमानों को चार स्क्वाड्रन के बाद देखेंगे. एलसीए की दो स्क्वाड्रन योजना की वर्तमान ताकत अब बढ़कर छह हो जाएगी. अनिवार्य रूप से तैनाती फ्रंटलाइन होगी.





क्यों खास है स्वदेशी तेजस विमान
ये पहला मौका नहीं है जब स्वदेशी तेजस विमानों को भारतीय वायुसेना में शामिल किया जा रहा हो. कुछ वक्त पहले ही तेजस विमानों को वायुसेना में शामिल किया जा चुका है और वायुसेना अब इन विमानों के अपने बेड़े में इजाफा करना चाहती है. तेजस अपनी श्रेणी का एक बेहद आधुनिक और उन्नत फाइटर जेट है जो हवा से हवा में ही नहीं, हवा से जमीन पर भी मिसाइलें और राकेट दाग सकता है. संवदेनशील इलेक्ट्रानिक स्कैन और रडार से युक्त एमके- 1ए वर्जन तेजस लड़ाकू विमान बियांड विजुअल रेंज (बीवीआर) मिसाइल, इलेक्ट्रानिक वार फेयर सुइट से भी लैस हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज