भारत-चीन में तनाव होगा कम, अग्रिम मोर्चे पर ज्यादा सैनिक न भेजने पर सहमति

दोनों पक्ष अग्रिम मोर्चे पर और अधिक सैनिक न भेजने, जमीनी स्थिति को एकतरफा ढंग से न बदलने पर सहमत हुए (सांकेतिक फोटो: एपी)
दोनों पक्ष अग्रिम मोर्चे पर और अधिक सैनिक न भेजने, जमीनी स्थिति को एकतरफा ढंग से न बदलने पर सहमत हुए (सांकेतिक फोटो: एपी)

पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) में एलएएसी पर गतिरोध को समाप्त करने के उद्देश्य से दोनों देशों के सैन्य कमांडरों (Military commanders) के बीच सोमवार को 14 घंटे तक बैठक चली थी. बयान में कहा गया कि दोनों पक्ष आपस में संपर्क मजबूत करने और गलतफहमी तथा गलत निर्णय से बचने पर सहमत होने के साथ ही अग्रिम मोर्चे पर और अधिक सैनिक (more soldiers) न भेजने, जमीनी स्थिति को एकतरफा ढंग से न बदलने पर सहमत हुए.

  • भाषा
  • Last Updated: September 23, 2020, 3:38 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) में तनाव कम करने के लिए कई कदमों की घोषणा करते हुए भारत और चीन (China) की सेनाओं (Armies) ने अग्रिम मोर्चे (Advance front) पर और अधिक सैनिक न भेजने का निर्णय किया है. भारत और चीन के सैन्य कमांडरों (Military commanders) के बीच हुई छठे दौर की वार्ता के संबंध में भारतीय सेना और चीनी सेना (Chinese Army) ने मंगलवार देर शाम एक संयुक्त बयान (Joint Statement) में कहा कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर स्थिति को स्थिर करने के मुद्दे पर दोनों पक्षों (both sides) ने गहराई से विचारों का अदान-प्रदान किया और दोनों पक्ष अपने नेताओं के बीच बनी महत्वपूर्ण सहमति के ईमानदारी से क्रियान्वयन (honest implementation) पर सहमत हुए.

पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) में गतिरोध (deadlock) को समाप्त करने के उद्देश्य से दोनों देशों के सैन्य कमांडरों (Military commanders) के बीच सोमवार को 14 घंटे तक बैठक चली थी. बयान में कहा गया कि दोनों पक्ष आपस में संपर्क मजबूत करने और गलतफहमी तथा गलत निर्णय से बचने (Avoiding Misconceptions and Wrong Judgments) पर सहमत होने के साथ ही अग्रिम मोर्चे पर और अधिक सैनिक (more soldiers) न भेजने, जमीनी स्थिति को एकतरफा ढंग से न बदलने पर सहमत हुए.





भारतीय और चीनी सेना ऐसी किसी भी कार्रवाई से बचने को सहमत जो स्थिति को जटिल बनाएं
इसमें कहा गया कि भारतीय और चीनी सेना ऐसी किसी भी कार्रवाई से बचने को सहमत हुईं जो स्थिति को जटिल बना सकती हैं. इसके साथ ही दोनों पक्ष समस्याओं को उचित ढंग से सुलझाने, सीमावर्ती क्षेत्रों में संयुक्त रूप से शांति सुनिश्चित करने के लिए व्यावहारिक कदम उठाने पर सहमत हुए.

यह भी पढ़ें: India-China Standoff- 14 घंटे चली कोर कमांडरों की बातचीत, सेना ने कहा- अपनी पुरानी पोजिशन में लौटे चीन

बयान में कहा गया कि दोनों पक्ष जल्द से जल्द सैन्य कमांडर स्तर की सातवें दौर की वार्ता करने पर सहमत हुए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज