अपना शहर चुनें

States

भारत-चीन गतिरोध: 9वें राउंड की सैन्य बैठक में हुआ तय, सीमा पर शांति बनाए रखेंगे दोनों देश

भारत और चीन के सैन्य अधिकारियों के बीच 9वें राउंड की बैठक संपन्न हो गई है. (सांकेतिक तस्वीर)
भारत और चीन के सैन्य अधिकारियों के बीच 9वें राउंड की बैठक संपन्न हो गई है. (सांकेतिक तस्वीर)

India-China Standoff: पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच पिछले साल मई से ही तनाव की स्थिति बनी हुई है. दोनों ही देश गतिरोध को खत्म करने और अपने सैनिकों को पीछे करने के लिए लगातार कोर कमांडर स्तर की वार्ता कर रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 25, 2021, 11:01 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत और चीन के सैन्य अधिकारियों (India-China Commanders) के बीच 24 जनवरी को 9वें राउंड की बैठक संपन्न हुई. भारत और चीन की सेनाओं के बीच पूर्वी लद्दाख में गतिरोध वाले स्थानों से सैनिकों को हटाने को लेकर नौवें दौर में करीब 16 घंटे तक विस्तृत वार्ता हुई. भारतीय सेना के पीआरओ ने जानकारी दी है कि बैठक में दोनों ही पक्ष एकमत से सीमा पर शांति बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध दिखाई दिए. साथ ही यह तय हुआ कि 10वें राउंड की बैठक जल्द ही की जाएगी.

कोर कमांडर स्तर की वार्ता रविवार सुबह करीब साढ़े दस बजे शुरू हुई और यह सोमवार तड़के करीब ढाई बजे खत्म हुई. सीमा पर तैनात भारत और चीन की सेनाओं के सैन्य कमांडरों की यह बातचीत चीन की तरफ मोल्डो-चुशुल बॉर्डर के पास हुई. पीआरओ द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक बैठक के बाद दोनों पक्षों ने माना कि मीटिंग सकारात्मक रही. दोनों पक्षों के बीच आपसी समझ और विश्वास मजबूत हुआ. दोनों ही पक्ष सीमा से सेनाएं जल्द हटाने की बात पर सहमत हुए.








बातचीत के बारे में जानकारी रखने वाले एक सूत्र ने कहा, ‘‘सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया के तौर-तरीकों पर विस्तार से चर्चा हुई.’’ सूत्रों के मुताबिक, भारत ने जोर दिया कि क्षेत्र में गतिरोध वाले स्थानों से सैनिकों को पीछे हटाने की प्रक्रिया को आगे ले जाने और तनाव कम करने की जिम्मेदारी चीन पर है.

भारत लगातार कहता रहा है कि तनाव कम करने की प्रक्रिया टकराव वाले सभी स्थानों पर एक साथ शुरू होनी चाहिए और हमें चुनिंदा रूख स्वीकार्य नहीं है.

सिक्किम में सैनिकों के बीच झड़प की खबरें
वार्ता समाप्त होने के कुछ घंटे बाद यह बात सामने आई कि पूर्वी सिक्किम के ऊंचाई वाले स्थान नाकू-ला में भारत और चीन के सैनिकों के बीच 20 जनवरी को संघर्ष हुआ था. भारतीय सेना ने सोमवार को इस घटना को ‘‘मामूली झड़प’’बताया. भारतीय सेना ने एक बयान में कहा कि इस तनातनी को निर्धारित प्रोटोकॉल के तहत स्थानीय कमांडरों द्वारा सुलझा लिया गया.

पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के करीब एक लाख सैनिक तैनात हैं. क्षेत्र में दोनों पक्षों की लंबे समय तक डटे रहने की तैयारी है. इस बीच, कूटनीतिक और सैन्य स्तर पर भी सौहार्दपूण समाधान के लिए वार्ता चल रही है.

पूर्वी लद्दाख में विभिन्न पवर्तीय क्षेत्रों में करीब 50,000 भारतीय जवान तैनात हैं. अधिकारियों के अनुसार चीन ने भी इतनी ही संख्या में अपने सैनिकों को तैनात किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज