Home /News /nation /

अरुणाचल में सेना की एविएशन ब्रिगेड स्थापित, चीन के हर मूवमेंट पर रहेगी नजर

अरुणाचल में सेना की एविएशन ब्रिगेड स्थापित, चीन के हर मूवमेंट पर रहेगी नजर

सेना की ये ब्रिगेड चीन की हर चाल पर अपनी नजर रखेगी. (सांकेतिक तस्वीर-IaSouthern Twitter)

सेना की ये ब्रिगेड चीन की हर चाल पर अपनी नजर रखेगी. (सांकेतिक तस्वीर-IaSouthern Twitter)

चीन के हेलीकॉप्टरों (Chinese Helicopters) के लगातार भारतीय एयर स्पेस उल्लंघन की खबरें आती रहती हैं. किसी भी तरह के उल्लंघन को रोकने का जिम्मा भी अब एविएशन ब्रिगेड के पास है.

नई दिल्ली. अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) में भारतीय सेना ने अपनी पहली एविएशन ब्रिगेड (Aviation Brigade) स्थापित कर दी है. इस एविएशन ब्रिगेड का काम सिर्फ फारवर्ड बेस पर सैन्य साजोसामान पहुंचाना और बचाव कार्यों तक ही सीमित नहीं है बल्कि ये ब्रिगेड वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के एयर स्पेस की निगरानी भी करती है. साथ ही ये चीन के एयरस्पेस पर भी पैनी नजर रखती है.

चीन के हेलीकॉप्टरों के लगातार भारतीय एयर स्पेस वायलेशन की खबरें आती रहती हैं. किसी भी तरह के वायलेशन को रोकने का जिम्मा भी अब एविएशन ब्रिगेड के पास है. अरुणाचल के रूपा में इसी काम के लिए एक एयर-स्पेस कंट्रोल सेंटर बनाया गया है. यहां से लगातार चीनी एयर स्पेस पर नजर रख जाती है. चीन का जो भी एयरक्राफ्ट, हेलीकॉप्टर या फिर ड्रोन अगर एलएसी के करीब आता है तो उसे ट्रैक किया जाता है और फिर उसके खिलाफ जरूरी कार्रवाई के लिए फॉरवर्ड फॉर्मेशन्स को अलर्ट कर दिया जाता है.

कैसे काम करती है ये ब्रिगेड, कर्नल ने बताया
न्यूज़ 18 इंडिया की टीम जब इस सेंटर पर पहुंची तो वहां पर लगातार चीनी हरकतों पर नजर रखी जा रही थी. इस सेंटर को हेड करने वाले कर्नल नवनीत चैल ने बताया कि हमारी कोशिश है कि किसी भी चीनी एयरक्रफ्ट को भारतीय सीमा में दाखिल न होने दें. अगर कोई चीनी फाइटर एलएसी पर एयर स्पेस का उलंघन करता दिखेगा तो तुरंत वायुसेना को सूचित किया जाएगा. इस सूरत में वायुसेना के फाइटर विमान तुरंत उड़ान भरकर उन्हें ऐसा करने से रोकेंगे. अगर कोई अटैक हेलीकॉप्टर उल्लंघन करता पाया गया तो इस ब्रिगेड में तैनात अटैक हेलीकॉप्टर को तुरंत रवाना कर दिया जाएगा. इस एविएशन ब्रिगेड को स्थापित हुए महज 6 महीने ही हुए हैं. छह महीने में ही इस ब्रिगेड ने इस इलाके में चीनी हिमाकत को रोकने के सभी प्रयास किए हैं.

Tags: Arunachal pradesh, Indian army

अगली ख़बर