भारतीय सेना का बड़ा ऐलान, अब शहीद के परिवारवाले भी पहन सकेंगे वीरता मेडल

भारतीय सेना के इस ऑर्डर में कहा गया है कि शहीद जवानों के दादा, परदादा, माता , पिता, पति, पत्नी और बच्चे यानी की नेक्स्ट ऑफ किन को ये इजाजत दी गई है.

Sandeep Bol | News18Hindi
Updated: July 23, 2019, 6:37 PM IST
भारतीय सेना का बड़ा ऐलान, अब शहीद के परिवारवाले भी पहन सकेंगे वीरता मेडल
भारतीय सेना के सैनिकों और अफसरों के मेडल अब उनके परिवार के लोग भी पहन सकेंगे
Sandeep Bol
Sandeep Bol | News18Hindi
Updated: July 23, 2019, 6:37 PM IST
देश की रक्षा करते हुए शहीद होने वाले भारतीय सेना के जवानों और अफसरों के मेडल अब उनके परिवार के लोग भी कुछ मौकों पर पहन सकेंगे. भारतीय सेना ने एक बड़ा फैसला लेते हुए अब इसकी इजाजत दे दी है. इससे पहले शहीद के परिवारों को मेडल पहनने या किसी भी तरह के प्रदर्शन की इजाजत नहीं थी.

भारतीय सेना के इस ऑर्डर में कहा गया है कि शहीद जवानों के दादा, परदादा, माता, पिता, पति, पत्नी और बच्चे यानी की नेक्स्ट ऑफ किन को ये इजाजत दी गई है. ये परिजन सिविल ड्रेस में मेडल को दायीं छाती पर पहन सकते हैं. वॉर मेमोरियल में खास मौकों पर जैसे श्रद्धांजलि या अंतिम संस्कार के वक्त परिवार मेडल पहन सकते हैं.

ये परिजन सिविल ड्रेस में मेडल को दायीं छाती पर पहन सकते हैं.


बताया जा रहा है कि सेना के शहीदों के परिवारजनों ने सेना से इस बारे में अपील की थी कि मेडल पहनने की इजाजत दी जाए. सेना ने भी महसूस किया कि इसकी इजाजत देने से शहीदों और पूर्व सैनिकों के परिजनों में और गर्व का भावना आएगा और इसके जरिए शहीदों को और बेहतर श्रद्धांजलि दी जा सकेगी.

इस ऑर्डर में ये भी कहा गया है अगर एक सेट से ज्यादा फैमिली मेडल हैं तो एक सेट पहन सकते हैं. अब तक मेडल वही फौजी या रिटायर्ड फौजी पहन सकते थे, जिन्हें वह मेडल उनकी बहादुरी या देशसेवा के लिए मिला है. हालांकि शहीदों के परिवार वालों के मेडल पहनने के इजाजत कुछ अन्य देशों में पहले से ही है. भारतीय सेना में से पहली बार होगा जब सेना ने ये फैसला लिया है.

ये भी पढ़ें:

कम पैसे में भी आप बन सकते हैं अपने मां-बाप के श्रवण कुमार
Loading...

अब FIR के लिए आपको नहीं जाना पड़ेगा थाने, पुलिस खुद आएगी आपके पास

 एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 23, 2019, 6:24 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...