Assembly Banner 2021

चीन के हर कदम पर कड़ी नजर, भारतीय सेना के टॉप कमांडर कर रहे निगरानी

लद्दाख से चीन अपने सैनिकों को पीछे हटा रहा है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

लद्दाख से चीन अपने सैनिकों को पीछे हटा रहा है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

Northern Ladakh: चीन लद्दाख से अपने सैनिकों और सैन्‍य साजो-सामान को पीछे हटा रहा है. लेकिन उसकी पुरानी चालाकियों को देखते हुए भारतीय सेना के अधिकारी उसके हर एक मूवमेंट पर कड़ी नजर रख रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 16, 2021, 7:44 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. लद्दाख से चीन अपने सैनिकों और सैन्य साजो-सामान को तेजी से पीछे हटा रहा है. लेकिन उसकी चालाकियों की पुरानी आदत को देखते हुए भारत कोई भी कसर नहीं छोड़ना चाहता है. भारत और चीन के बीच विवादित इलाकों से पीछे हटने का समझौता हुआ है. इसी समझौते के तहत ड्रैगन पैंगोंग शो झील के उत्तरी और दक्षिणी इलाके से अपनी सेनाओं को पीछे हटाना शुरू कर चुका है.

चीन इन इलाकों से तंबू और सैन्य साजो-सामान वापस ले जा रहा है. इस बीच भारत चीन की हर हरकत पर कड़ी नजर बनाए हुए है. इसी क्रम में नादर्न आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी ने आज पूर्वी लद्दाख इलाके का दौरा किया और वहां डिसइंगेजमेंट प्रक्रिया का रिव्यू किया.

ये भी पढ़ें: LAC से बड़ी तेजी से वापस लौट रहा चीन, अगले 24 घंटे में पैंगोंग में पूरा हो जाएगा डिसइंगेजमेंट!



ये भी पढ़ें: LAC: चीन ने फिंगर 5 पर बनाए अपने हेलीपैड को हटाया, पैंगोंग के उत्तरी किनारों से भी उखाड़े तंबू-बंकर
चीन ने पूर्वी लद्दाख (Northern Ladakh) में पैंगोंग त्सो झील (Pangong Tso Lake) के किनारे पर पिछले आठ घंटों में चीन के करीब 200 टैंक पीछे हो गए हैं. पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (People's Liberation Army) ने अपने जेट्टी, हेलीपैड, टेंट और ऑब्जर्वेशन पॉइंट्स को नष्ट कर दिया है. इसका निर्माण अप्रैल 2020 के बाद फिंगर 4 और फिंगर 8 के बीच किया था. पैंगोंग झील के उत्तरी तट के 134 किमी में एक हथेली की तरह फैला हुआ है, और इसके विभिन्न एक्सटेंशन "फिंगर्स" के रूप में पहचाने जाते हैं ताकि क्षेत्र का सीमांकन किया जा सके.



सरकार के शीर्ष अधिकारियों ने नाम न छापने की शर्त पर सीएनएन-न्यूज 18 को बताया, 'डिसएंगेजमेंट की ये स्पीड हैरान करने वाली है.' CNN-News18 को मिली खास तस्वीरों में चीनी सैनिकों और पैंगोंग त्सो के तट की टैंकर हटे हुए दिख रहे हैं, जहां वे लगभग दस महीने से भारत के सामने तैनात थे. तस्वीरों और वीडियो से यह भी पता चलता है कि पिछले 10 महीनों में सैन्य अभ्यास के चलते जो निर्माण किए गए थे उसने हटाने के लिए चीनी सैनिक क्रेनों का इस्तेमाल कर रहे हैं, इन्हें ट्रक द्वारा इंफेंट्री में ले जाया जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज