होम /न्यूज /राष्ट्र /IAF LC Helicopter: भारतीय वायुसेना के बेड़े में आज शाम‍िल होंगे 'मेड इन इंड‍िया' हेलीकॉप्‍टर, जानें इनकी खास‍ियत

IAF LC Helicopter: भारतीय वायुसेना के बेड़े में आज शाम‍िल होंगे 'मेड इन इंड‍िया' हेलीकॉप्‍टर, जानें इनकी खास‍ियत

भारतीय वायु सेना के ल‍िए स्वदेशी रूप से विकसित हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर के पहले बैच को राजस्थान के जोधपुर में एक समारोह में आईएएफ इन्वेंट्री को शामिल किया जा रहा है. (फोटो: एएनआई)

भारतीय वायु सेना के ल‍िए स्वदेशी रूप से विकसित हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर के पहले बैच को राजस्थान के जोधपुर में एक समारोह में आईएएफ इन्वेंट्री को शामिल किया जा रहा है. (फोटो: एएनआई)

Indian Air Force: एयरफोर्स (IAF) में शामिल होने वाला नया हेलिकॉप्टर हवाई युद्ध में सक्षम है और संघर्ष के दौरान धीमी गति ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

सुरक्षा कैबिनेट कमेटी ने दी थी वायु सेना और सेना के लिए 15 LCH की खरीद को मंजूरी
हेलीकाप्टरों में से 10 भारतीय वायुसेना के लिए और 5 सेना के लिए हैं
हथियारों और ईंधन के साथ 5,000 मीटर की ऊंचाई से लैंड और टेक ऑफ करने की क्षमता

नई द‍िल्‍ली. भारतीय सेना में अब लगातार स्‍वदेशी हथ‍ियारों और सामान को शाम‍िल क‍िया जा रहा है. हाल ही में भारतीय नौ सेना में पहले स्वदेशी विमान वाहक आईएनएस व‍िक्रांत को शाम‍िल क‍िया गया था. मेड इन इंड‍िया (Made in India) को बढ़ावा देते हुए अब भारतीय वायु सेना (Indian Air Force) को और एडवांस व ताकतवर बनाने के ल‍िए स्वदेशी रूप से विकसित हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर (LCH) के पहले बैच का सोमवार को राजस्थान के जोधपुर में एक समारोह में आईएएफ इन्वेंट्री को शामिल किया जा रहा है. केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) की उपस्‍थ‍िति में मेड-इन-इंडिया लाइट कॉम्बैट हेलीकॉप्टरों (Light Combat Helicopter) को भारतीय वायु सेना को सौंपा जाएगा.

बताते चलें क‍ि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी क‍ि इन हेलीकॉप्टरों को शामिल करने से भारतीय वायुसेना की युद्ध क्षमता को काफी बढ़ावा मिलेगा. एयरफोर्स (IAF) में शामिल होने वाला नया हेलिकॉप्टर हवाई युद्ध में सक्षम है और संघर्ष के दौरान धीमी गति से चलने वाले विमानों, ड्रोन और बख्तरबंद वाहनों से निपटने में माहिर है.

बड़े जेट फाइटर सौदे के लिए मेक इन इंडिया पर IAF का फोकस, दुनिया की टॉप कंपनियों की रजामंदी

रक्षा मंत्री सिंह ने सुरक्षा कैबिनेट कमेटी के साथ वायु सेना और सेना के लिए 15 एलसीएच की खरीद को मंजूरी दी थी. हेलीकाप्टरों में से 10 भारतीय वायुसेना के लिए और पांच सेना के लिए हैं.

आध‍िकार‍िक सूत्रों के मुताब‍िक यह हथियारों और ईंधन के साथ 5,000 मीटर की ऊंचाई से लैंड और टेक ऑफ कर सकता है. आर्म्‍ड फोर्सेज की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए लद्दाख और रेगिस्तानी क्षेत्र में हेलिकॉप्टरों को बड़े पैमाने पर इस्तेमाल करने की योजना है.

भारतीय वायुसेना ने पिछले 3-4 सालों में चिनूक, अपाचे अटैक हेलीकॉप्टर और अब एलसीएच को शामिल करने के साथ कई हेलीकॉप्टरों को अपने बेड़े में शामिल किया है. भारतीय वायु सेना अब चिनूक हेलिकॉप्टरों में महिला पायलटों को भी तैनात कर रहा है, जो उत्तरी और पूर्वी सीमाओं पर नियमित आपूर्ति मिशन ले जा रहे हैं.

क्‍या है इनकी खास‍ियत
यह हेलीकॉप्टर स्पीड, विस्तारित रेंज, उच्च ऊंचाई प्रदर्शन, कॉम्बैट सर्च एंड रेस्क्यू (सीएसएआर), दुश्मन वायु रक्षा के विनाश (डीईएडी) की भूमिका निभाने के लिए हर मौसम में मुकाबला करने की क्षमता से लैस हैं. यह काउंटर इंसर्जेंसी (सीआई) ऑपरेशन, धीमी गति से चलने वाले विमान और रिमोटली पायलट एयरक्राफ्ट (आरपीए), उच्च ऊंचाई वाले बंकर बस्टिंग ऑपरेशन, जंगल और शहरी वातावरण में काउंटर इंसर्जेंसी ऑपरेशन और जमीनी बलों को समर्थन और परिचालन आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए एक शक्तिशाली मंच होगा.

Tags: IAF, Indian air force, Indian army, Make in india, Rajnath Singh

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें