आतंकियों पर बरसती सेना की गोली, 5 साल में इतने आतंकी मार डाले!

'ऑपरेशन ऑल आउट' चलाकर भारतीय सेना चुन-चुनकर भारतीय आतंकवादियों को ठिकाने लगा रही है. पिछले पांच साल में सेना ने तेजी से आतंकवादियों को ठिकाने लगाया है.

News18Hindi
Updated: July 16, 2019, 4:00 PM IST
आतंकियों पर बरसती सेना की गोली, 5 साल में इतने आतंकी मार डाले!
ऑपरेशन ऑल आउट चलाकर भारतीय सेना चुन-चुनकर भारतीय आतंकवादियों को ठिकाने लगा रही है. पिछले पांच साल में सेना ने तेजी से आतंकवादियों को ठिकाने लगाया है.
News18Hindi
Updated: July 16, 2019, 4:00 PM IST
जम्मू-कश्मीर में सेना का 'ऑपरेशन ऑल आउट' सफल रहा है. पिछले पांच साल में सेना ने 963 आतंकवादियों को मार गिराया है. हालांकि एक तथ्य ये भी है कि जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ की कोशिशें लगातार बढ़ रही हैं. मोदी सरकार ने सेना के जवानों से साफ कह दिया है कि घाटी से आतंकवादियों का सफाया होना चाहिए.

लोकसभा में पूछे गए एक सवाल का जवाब देते हुए गृह मंत्रालय ने बताया कि सेना ने पिछले पांच साल में यानी 2014 से 2019 के बीच 963 आतंकवादी मारे हैं. केंद्र सरकार ने आतंक पर जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई है. हालांकि इस दौरान करीब 413 सुरक्षाबलों ने भी अपनी जान गंवाई है.


घुसपैठ में बढ़ोतरी
भले ही सेना चुन-चुनकर आतंकवादियों का सफाया कर रही हो लेकिन पिछले तीन सालों में जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ में तेजी से बढ़ोतरी हुई है. गृह मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक 2016 में 119 बार घुसपैठ हुई. इसमें 35 घुसपैठिए मारे गए और एक्शन में 15 जवान शहीद हुए. 2017 में 136 बार घुसपैठ हुई. इस मुठभेड़ में 59 घुसपैठिए मारे गए और एक्शन में 7 जवान शहीद हुए. वहीं 2018 में 143 बार घुसपैठ हुई. इस साल मुठभेड़ में 32 घुसपैठिए मारे गए और एक्शन में 5 जवान शहीद हुए.

terrorist in Kashmir

सेना ने कई बड़े कमांडर मार गिराए
साल 2016, 2017, 2018 और 2019 में सेना ने कई बड़े कमांडरों को निशाना बनाया. इस लिस्ट में सब्जार अहमद भट्ट, बुरहान वानी, जुनैद मट्टू, बशीर लश्करी, अबू लल्हारी, जाकिर मूसा, जीनल उल इस्लाम, सद्दाम पाडर, नाविद जट्ट, समीर टाइगर, मन्नान वानी का नाम शामिल था. इन कमांडरों को मारने का फायदा आतंक की कमर तोड़ने में मिला.
Loading...

terrorist in Kashmir

ज्यादातर कमांडरों के सिर पर था इनाम
जम्मू-कश्मीर में मारे गए ज्यादा कमांडरों पर इनाम घोषित था. ऐसे में सेना ने मौका मिलते ही कमांडरों को ठिकाने लगा दिया, ताकि आतंकियों का संगठन कमजोर पड़ सके. हिजबुल के सब्जार अहमद भट्ट के सिर पर 10 लाख का इनाम था. वहीं लश्कर ए तैयबा के तीन आतंकवादी बशीर लश्करी, अबू लल्हारी और जुनैद मट्टू के सिर पर भी 10 लाख रुपये का इनाम था, जिसे सेना ने ढेर कर दिया. हिजबुल मुजाहिदीन के बुरहान वानी, जीनत उल इस्लाम, सद्दाम पाडर पर भी 10 लाख रुपये का इनाम था, जिन्हें सेना ने मार गिराया.

ये भी पढ़ें- बड़ा हादसा: मुंबई में 4 मंजिला इमारत गिरी, 12 लोगों की मौत, जिंदा निकाला गया मासूम

संसद से गायब रहने वाले मंत्रियों पर भड़के पीएम मोदी, मांगे उनके नाम: सूत्र
First published: July 16, 2019, 2:49 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...