VIDEO: लद्दाख में भारतीय पैराट्रूपर्स ने सुपर हरक्युलिस से लगाई छलांग

VIDEO: लद्दाख में भारतीय पैराट्रूपर्स ने सुपर हरक्युलिस से लगाई छलांग
रक्षा मंत्री सिंह की मौजूदगी में पैरा ड्रॉपिंग का हुआ प्रदर्शन.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) शुक्रवार को लद्दाख (Ladakh) पहुंचे थे. उन्होंने स्ताकना में एक अग्रिम चौकी का दौरा किया और वहां एक सैन्य अभ्यास देखा जिसमें युद्धक हेलीकॉप्टरों, टी-90 टैंकों के साथ विशेष बल भी शामिल हुए. उनकी मौजूदगी में पैरा ड्रॉपिंग और अन्य करतबों का प्रदर्शन भी किया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 17, 2020, 11:14 PM IST
  • Share this:
लद्दाख. चीन के साथ सीमा विवाद (Border Dispute) के बीच लद्दाख (Ladakh) पहुंचे भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) के सामने सैनिकों ने पैरा ड्रॉपिंग और अन्य करतबों का प्रदर्शन किया. रक्षा मंत्री ने स्ताकना में एक अग्रिम चौकी का दौरा किया और वहां एक सैन्य अभ्यास देखा जिसमें युद्धक हेलीकॉप्टरों, टी-90 टैंकों के साथ विशेष बल भी शामिल हुए. सैन्य अभ्यास में थल सेना और वायु सेना ने क्षेत्र में तैयारियों का प्रदर्शन किया. सैन्य अभ्यास में बड़ी संख्या में कमांडो, टैंक, बीएमपी युद्धक वाहनों, अपाचे, रुद्र और एमआई-17 वी5 जैसे हेलीकॉप्टरों ने भाग लिया. जवानों ने रक्षा मंत्री सिंह की मौजूदगी में पैरा ड्रॉपिंग और अन्य करतबों का प्रदर्शन किया. इस दौरान जनरल रावत और जनरल नरवणे भी मौजूद थे.

राजनाथ सिंह ने बाद में ट्वीट किया, ‘लेह के पास स्ताकना में आज पैरा ड्रॉपिंग और सैन्य प्रदर्शनों के दौरान भारतीय थलसेना की मारक क्षमता और प्रचंडता देखी.’ उन्होंने कहा, ‘इसके अलावा, मुझे उनके साथ बातचीत का अवसर मिला. मुझे इन बहादुर सैनिकों पर गर्व है.' उन्होंने सैन्य कर्मियों के साथ अपनी बातचीत की तस्वीरें भी पोस्ट कीं.
सिंह ने 14,000 फुट की ऊंचाई पर स्थित लुकुंग चौकी में कहा, ‘भारत दुनिया का एकमात्र देश है जिसने पूरी दुनिया को शांति का संदेश दिया है. हमने कभी किसी देश पर हमला नहीं किया और न ही किसी देश की भूमि पर कब्जा किया है. भारत अपने पड़ोसी देशों को अपना परिवार मानता है. हम वसुधैव कुटुम्बकम् (दुनिया एक परिवार है) के संदेश में भरोसा करते हैं.'

रक्षा मंत्री ने लद्दाख में सुरक्षा स्थिति की व्यापक समीक्षा की और शीर्ष सैन्य अधिकारियों के साथ भारत की तैयारियों का भी जायजा लिया. उन्होंने सैनिकों के साथ बातचीत भी की. पूर्वी लद्दाख में कई स्थानों पर पांच मई से भारत और चीन के सैनिकों के बीच गतिरोध चल रहा है. गलवान घाटी में दोनों देशों के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प के बाद यह तनाव बहुत अधिक बढ़ गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज