LAC पर तनाव के बावजूद भारत ने दिखाई मानवता, चीन को लौटाई भटकी हुईं याक

LAC पर तनाव के बावजूद भारत ने दिखाई मानवता, चीन को लौटाई भटकी हुईं याक
भारत ने चीन को लौटाईं उसकी याक.

सेना (Indian Army) की पूर्वी कमान ने एक ट्वीट करके इस घटना की एक फोटो भी शेयर की है. इसमें दिख रहा है कि भारतीय सैनिक चीनी सैनिकों को याक और उनके बच्‍चे लौटा रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 8, 2020, 3:11 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. लद्दाख (Ladakh) में वास्‍तविक नियंत्रण रेखा यानी LAC पर चीन की ओर से जारी तनाव के बीच भी भारत (India) लगातार मानवता का संदेश दे रहा है. इसी क्रम में मंगलवार को चीन (China) को उसकी 13 याक और उनके 4 बच्‍चे लौटाए हैं. ये सभी एलएसी को पार करके अरुणाचल प्रदेश में घुस आए थे. यह जानकारी भारतीय सेना (Indian Army) की पूर्वी कमान ने दी है. सेना के अनुसार इसके बाद चीनी अफसरों ने याक लौटाने के लिए भारत को धन्‍यवाद दिया है.

सेना की पूर्वी कमान ने एक ट्वीट करके इस घटना की एक फोटो भी शेयर की है. इसमें दिख रहा है कि भारतीय सैनिका चीनी सैनिकों को याक और उनके बच्‍चे लौटा रहे हैं. इस दौरान भारतीय सैनिक हाथ में तिरंगा लिए हुए हैं. सेना ने ट्वीट कर जानकारी दी, 'मानवता को देखते हुए भारतीय सेना ने चीन को 7 सितंबर को 13 याक और उनके 4 बच्‍चे लौटाए हैं. ये सभी 31 अगस्‍त को एलएसी पार करके अरुणाचल प्रदेश के कामेंग में आ गए थे. चीनी अफसरों ने भारतीय सैनिकों को इसके लिए धन्‍यवाद कहा है.'






यह भी पढ़ें: India-China Clash Live Updates: आर्मी चीफ ने रक्षामंत्री को बताए LAC के ताज़ा हालात, शाम को इमरजेंसी मीटिंग



वहीं भारतीय सेना ने पूर्वी लद्दाख में सैन्य उकसावे के चीन की सेना के आरोपों को मंगलवार को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि उसने कभी वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पार नहीं की या गोलीबारी समेत किसी आक्रामक तरीके का इस्तेमाल नहीं किया. पीएलए ने सोमवार देर रात को आरोप लगाया था कि भारतीय सैनिकों ने एलएसी पार की और पूर्वी लद्दाख में पेगोंग झील के पास चेतावनी देने के लिए खराब तरीके से गोलियां चलाईं.

भारतीय सेना ने कहा है कि यह पीएलए है जो समझौतों का खुलेआम उल्लंघन कर रही है और आक्रामक युक्तियां अपना रही है जबकि सैन्य, कूटनीतिक एवं राजनीतिक स्तर पर बातचीत जारी है. सेना ने कहा, 'सात सितंबर के ताजा मामले में, पीएलए के सैनिकों ने एलएसी के पास हमारे एक अग्रिम ठिकाने तक आने की कोशिश की और जब हमारे सैनिकों ने उन्हें रोका तो उन्होंने भारतीय सैनिकों को डराने के प्रयास में हवा में कुछ राउंड गोलियां चलाईं.'

यह भी पढ़ें: India China Border Firing : शेपाओ माउंटेन टॉप्स पर कैसे शुरू हुई फायरिंग? समझें क्यों भड़का हुआ है चीन?

सेना ने कहा कि गंभीर उकसावे के बावजूद, भारतीय सैनिकों ने अत्यंत संयम बरता और परिपक्व एवं जिम्मेदार तरीके से व्यवहार किया. सेना ने कहा, 'भारतीय सेना ने कभी वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पार नहीं की या गोलीबारी समेत किसी आक्रामक तरीके का इस्तेमाल नहीं किया.' सेना ने पीएलए के ‘वेस्टर्न थियेटर कमांड’ के बयान को उनके अपने लोगों और अंतरराष्ट्रीय समुदाय को गुमराह करने की कोशिश करार दी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज