अरुणाचल प्रदेश में सेना ने उठाया बड़ा कदम, दुर्गम इलाकों में भी आसानी से पहुंचेगा गोला-बारूद

अरुणाचल प्रदेश में सेना ने उठाया बड़ा कदम, दुर्गम इलाकों में भी आसानी से पहुंचेगा गोला-बारूद
अरुणाचल प्रदेश के तीन जिलों के लिए पोर्टर की कंपनी स्थापित करेगी सेना

Arunachal Pradesh: पश्चिम सियांग जिले के सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी/डीआईपीआरओ (DIPRO) गिजुम तली ने कहा कि पोर्टर पश्चिम सियांग, सियांग और शाई-योमि जिलों में कार्यरत सेना के जवानों की जरूरतें पूरी करेंगे. पोर्टर परिचालन तैयारियों और दक्षता के लिए सेना (Indian Army) के अभिन्न अंग हैं.

  • Share this:
ईटानगर. भारतीय सेना (Indian Army) अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) के श्रम विभाग के साथ समन्वय से राज्य के तीन जिलों के लिए पोर्टर की एक कंपनी का गठन करेगी. यह जानकारी जिले के एक वरिष्ठ अधिकारी ने शुक्रवार को दी. पश्चिम सियांग जिले के सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी (डीआईपीआरओ) गिजुम तली ने कहा कि पोर्टर पश्चिम सियांग, सियांग और शाई-योमि जिलों में कार्यरत सेना के जवानों की जरूरतें पूरी करेंगे. पोर्टर परिचालन तैयारियों और दक्षता के लिए सेना के अभिन्न अंग हैं.

ताली ने कहा कि तीन जिलों के लिए अस्थायी रूप से 370 पोर्टर को नियोजित करने के लिए अगस्त में एनएबी, काइंग, आलो, मेन्चुका, तडाडेगा और टैटो में भर्ती रैली आयोजित की जाएगी. अधिकारी ने कहा कि रिक्तियों को स्थानीय लोगों के लिए आरक्षित किया गया है. सेना सड़कों और सेना की चौकियों से बर्फ साफ करने के अलावा दुर्गम इलाकों में सैनिकों के लिए राशन और गोला-बारूद पहुंचाने के लिए समय-समय पर पोर्टर की सेवाएं लेती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading