LoC पार आतंकवादी कैंप और लॉन्च पैड में भरे पड़े हैं आतंकी: वरिष्ठ आर्मी कमांडर

LoC पार आतंकवादी कैंप और लॉन्च पैड में भरे पड़े हैं आतंकी: वरिष्ठ आर्मी कमांडर
लेफ्टिनेंट जनरल बग्गावल्ली सोमाशेखर राजू ने यह जानकारी दी (सांकेतिक फोटो)

एक इंटरव्यू के दौरान लेफ्टिनेंट जनरल बग्गावल्ली सोमाशेखर राजू ने जोर दिया गया कि आतंकवाद (Terrorist) की रीढ़ 'अप्रत्यक्ष तौर' पर तोड़ी जा चुकी है और पाकिस्तान (Pakistan) यह पचा नहीं पा रहा है कि कश्मीर (Kashmir), शांति और अच्छी हो चुकी कानून और शासन व्यवस्था का अनुभव कर रहा है.

  • Share this:
नई दिल्ली. एक प्रमुख आर्मी कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू (Lt Gen B S Raju) ने के मुताबिक, "पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) में सभी आतंकी कैंप (Terrorist Camps) और करीब 15 लॉन्चपैड भरे हुये हैं." जो आतंकियों की भर्ती के लिये जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) इन गर्मियों में सीमा पार से घुसपैठ के प्रयासों में बढ़ोत्तरी की आशंका जताते हैं.

एक इंटरव्यू के दौरान लेफ्टिनेंट जनरल बग्गावल्ली सोमाशेखर राजू ने जोर दिया गया कि आतंकवाद (Terrorist) की रीढ़ 'अप्रत्यक्ष तौर' पर तोड़ी जा चुकी है और पाकिस्तान (Pakistan) यह पचा नहीं पा रहा है कि कश्मीर (Kashmir), शांति और अच्छी हो चुकी कानून और शासन व्यवस्था का अनुभव कर रहा है.

सीमापार से गर्मियों में घुसपैठ होने की है आशंका
लेफ्टिनेंट जनरल राजू ने 1 मार्च को श्रीनगर स्थित XV कॉर्प्स की जिम्मेदारी अपने हाथों में ली है. लेफ्टिनेट राजू ने एक ई-मेल इंटरव्यू (E-mail Interview) के दौरान कहा, "आतंकवाद की रीढ़ अप्रत्यक्ष रूप से तोड़ी जा चुकी है. क्योंकि आतंरिक इलाकों में काम कर रहे आतंकियों को खत्म करने में हम सफल रहे हैं, ऐसे में हम मारे गये आतंकियों की भरपाई के लिये हम इन्हीं गर्मियों के मौसम में सीमापार से घुसपैठ के मामलों में बढ़ोत्तरी को लेकर आशंकित हैं."



उन्होंने कहा, "पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर के सभी आतंकवादी कैंप और करीब 15 लॉन्च पैड पूरी तरह से भरे हुये हैं. ये आतंकवादी कैडर पाकिस्तानी सेना की मदद से भारत में घुसपैठ के लिये लालायित हैं."



अपने एजेंडे में असहाय महसूस कर रहा है पाक
जनरल ने कहा कि पाकिस्तान लगातार पिछले 30 सालों से आतंकवादियों को मदद देकर उन्हे भारत में घुसपैठ कराता रहा है. उन्होंने बताया कि इसके लिये कई बार सीमा पर सीजफायर का उल्लंघन पाकिस्तानी सेना (Pakistan Army) की ओर से किया जाता है ताकि आतंकवादी समूहों की घुसपैठ में मदद की जा सके. लेकिन उन्होंने यह भी जोड़ा कि ऐसे सभी प्रयास असफल हो रहे हैं क्योंकि सीजफायर उल्लंघन के खिलाफ हमारा जवाब तेज, जोरदार और दंडा्मक होता है.

उन्होंने यह भी कहा कि सेना की घुसपैठ विरोधी ग्रिड को मजबूत किया गया है, जिसके चलते पाकिस्तान अपने एजेंडे में असहाय महसूस कर रहा है.

यह भी पढ़ें: टिड्डी अटैक: क्या पाकिस्तान होगा दाने-दाने को मोहताज? भारत में कितना है संकट?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading