Assembly Banner 2021

पैंगोंग के बाद गोगरा और डेप्‍सांग से भी सेना हटाने पर इसी हफ्ते बातचीत कर सकते हैं भारत-चीन: सूत्र

हाल ही में दोनों देशों के बीच राजनयिक स्तर की बातचीत हुई है, जिसमें काफी विस्तार से चर्चा हुई. (फोटो: रॉयटर्स)

हाल ही में दोनों देशों के बीच राजनयिक स्तर की बातचीत हुई है, जिसमें काफी विस्तार से चर्चा हुई. (फोटो: रॉयटर्स)

Eastern Ladakh: सरकारी सूत्रों ने ANI को बताया कि दोनों पक्षों के बीच गोगरा हाइट्स, देप्सांग के मैदानी इलाकों और देमचौक के पास सीएनसी जंक्शन को लेकर बात हो सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 22, 2021, 12:51 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. लद्दाख में पैंगोग झील (Pangong Lake) क्षेत्र से सफलतापूर्वक सैनिकों की वापसी के बाद भारत (India) और चीन (China) की सेनाओं के बीच इस सप्ताह फिर बातचीत हो सकती है. ANI ने सूत्रों के हवाले से जानकारी दी है कि इस बैठक में गोगरा (Gogra Heights) और देप्सांग के मैदानी इलाकों से सेनाओं की वापसी पर बात हो सकती है. पिछले हफ्ते राजनयिक स्तर पर बातचीत होने के बाद इस सप्ताह दोनों देशों के बीच कोर कमांडर स्तर की बातचीत होने की संभावना है. सरकारी सूत्रों ने ANI को बताया कि दोनों पक्षों के बीच गोगरा हाइट्स, देप्सांग के मैदानी इलाकों और देमचौक के पास सीएनसी जंक्शन को लेकर बात हो सकती है. उन्होंने कहा कि दोनों देशों की सेनाओं के बीच जल्द ही बातचीत होगी, क्योंकि हाल ही में दोनों देशों के बीच राजनयिक स्तर की बातचीत हुई है, जिसमें काफी विस्तार से इन मुद्दों पर चर्चा हुई.

बता दें कि भारत और चीन के बीच लगभग एक साल तक पूर्वी लद्दाख और वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तनाव की स्थिति रही है. दोनों देशों की सेनाओं के बीच हिंसक झड़पें भी हुई और भारतीय सेना के जवानों ने अपना सर्वस्व न्यौछावर किया. हालांकि पिछले महीने लंबे दौर की मिलिट्री और राजनीतिक स्तर पर बातचीत के बाद दोनों देशों की सेनाएं पैंगोग झील इलाके से पीछे हटने को तैयार हो गईं.

आर्मी चीफ जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने दोनों देशों की सेनाओं के सफलतापूर्वक पीछे हटने का श्रेय सभी पक्षों को दिया और कहा कि संकट के समय में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल से मिली महत्वपूर्ण जानकारियों ने देश को काफी फायदा हुआ.

बता दें कि भारत और चीन के बीच कोर कमांडर स्तर पर 10 राउंड की बातचीत हुई और तब जाकर दोनों सेनाओं पैंगोग झील क्षेत्र से पीछे हटने को राजी हुई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज