भारतीय कंपनियों ने कैंसर की जांच का आसान तरीका खोजा, 100 फीसदी कारगर होने का दावा

 (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

(प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

मुंबई और सिंगापुर की दोनों कंपनियों की अगुवाई नैनोटेक साइंटिस्ट विनय कुमार त्रिपाठी और उनका परिवार कर रहा है. उनके रिसर्च पेपर में दावा किया गया है कि यह टेस्ट लक्षण दिखाने से पहले कैंसर के लक्षणों का पता लगा सकता है.

  • Share this:

नई दिल्ली. भारत में लोगों की असामयिक मौत होने की एक बड़ी वजह कैंसर (Cancer) भी है. अब भारतीय जैव वैज्ञानिकों के एक समूह ने दावा किया है कि उन्होंने कैंसर के शुरुआती स्तर पर पहचान का बहुत ही आसान रास्ता खोज लिया है. उन्होंने दावा किया है कि इस जांच के जरिए लाखों लोगों की जिन्दगी बचाई जा सकेगी. मुंबई स्थित एपीजेनर्स बायोटेक्नोलॉजी और सिंगापुर की ज़ार लैब्स ने इस जांच को HrC टेस्ट नाम दिया है. इसमें एक सामान्य खून की जांच होती है और फिर मॉलिक्यूलर एनालिसिस की जाती है.

मुंबई और सिंगापुर की दोनों कंपनियों की अगुवाई नैनोटेक साइंटिस्ट विनय कुमार त्रिपाठी और उनका परिवार कर रहा है. इस जांच से जुड़े उनके रिसर्च पेपर का रिव्यू बर्लिन के एक जर्नल में प्रकाशित हुआ है जिसमें दावा किया गया है कि यह जांच 100 फीसदी असरदार है.

1,000 लोगों पर हुई क्लिनिकल टेस्ट

दोनों कंपनियों के प्रबंधन में शामिल डॉ. त्रिपाठी के बेटे आशीष और अनीश ने बताया कि उनके ट्रायल में 1,000 लोगों पर क्लिनिकल टेस्ट किया गया, जिसमें में 25 विभिन्न प्रकार के कैंसर की पहचान हुई. उन्होंने दावा किया कि इस ट्रायल में बीमारी का सही समय पर पता लगाने की चुनौती पार हुई.
आशीष त्रिपाठी ने कहा, 'हमारा इरादा है इस साल के अंत तक हम यह तकनीक सबसे पहले भारत में लेकर आएंय. यह ऐसी चीज है जिसे सरकारी स्वीकृति की जरूरत है और हम देश में इस बाबत लोगों से संपर्क में हैं.'

180 प्रकार के होते हैं कैंसर

आशीष ने कहा- 'हमारी तकनीक किसी भी प्रकार के कैंसर का पता लगा सकती है. लगभग 180 प्रकार के कैंसर हैं. पहले प्रकाशित पेपर में पच्चीस का जिक्र किया गया है. यह उन कैंसर्स के प्रकार थे जो जांच के दौरान पाए गए थे.'




एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार अनीश त्रिपाठी ने कहा कि ट्रायल करना बहुत आसान था. यह लक्षण दिखाने से पहले कैंसर के लक्षणों का पता लगा सकता है. उन्होंने कहा कि फिलहाल टेस्ट रिपोर्ट में 3-4 दिन लगते हैं. लेकिन ऑटोमेशन की मदद से 2 दिन में जांच परिणाम पाए जा सकते हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज